पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

हर छोटी से छोटी चीज जो भारत में बनी है, उसे खरीदने पर दें जोर : प्रधानमंत्री

WebdeskOct 22, 2021, 02:04 PM IST

हर छोटी से छोटी चीज जो भारत में बनी है, उसे खरीदने पर दें जोर : प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी- फाइल फोटो

प्रधानमंत्री ने कहा कि हर छोटी से छोटी चीज, जिसे बनाने में किसी भारतवासी का पसीना बहा हो, उसे खरीदने पर जोर देना चाहिए। वोकल फॉर लोकल को व्यवहार में लाना होगा।

 

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार सुबह दस बजे देश को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने स्वदेशी पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें हर छोटी से छोटी चीज, जो भारत में बनी हो Made in India हो, जिसे बनाने में किसी भारतवासी का पसीना बहा हो, उसे खरीदने पर जोर देना चाहिए। जैसे स्वच्छ भारत अभियान, एक जनआंदोलन है, वैसे ही भारत में बनी चीज खरीदना, भारतीयों द्वारा बनाई चीज खरीदना, वोकल फॉर लोकल Vocal for Local होना, ये हमें व्यवहार में लाना ही होगा। विशेषज्ञ और देश-विदेश की कई एजेंसियां भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर बहुत सकारात्मक हैं। आज भारतीय कंपनियों में न सिर्फ रिकॉर्ड निवेश हो रहा बल्कि युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर भी बन रहे हैं। स्टार्टअप में रिकॉर्ड निवेश के साथ ही रिकॉर्ड स्टार्टअप और यूनीकॉर्न बन रहे हैं।

पूरा टीकाकरण कार्यक्रम विज्ञान की कोख में जन्मा
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत का पूरा वैक्सीनेशन प्रोग्राम विज्ञान की कोख में जन्मा है। वैज्ञानिक आधारों पर पनपा है और वैज्ञानिक तरीकों से चारों दिशाओं में पहुंचा है। यह हम सभी के लिए गर्व करने की बात है। कोरोना महामारी की शुरुआत में ये भी आशंकाएं व्यक्त की जा रही थीं कि भारत जैसे लोकतंत्र में इस महामारी से लड़ना बहुत मुश्किल होगा। भारत के लिए, भारत के लोगों के लिए ये भी कहा जा रहा था कि इतना संयम, इतना अनुशासन यहां कैसे चलेगा? लेकिन हमारे लिए लोकतन्त्र का मतलब है -‘सबका साथ’। सबको साथ लेकर देश ने ‘सबको वैक्सीन-मुफ्त वैक्सीन’ का अभियान शुरू किया। गरीब-अमीर, गांव-शहर, दूर-सुदूर, देश का एक ही मंत्र रहा कि अगर बीमारी भेदभाव नहीं करती, तो वैक्सीन में भी भेदभाव नहीं हो सकता। इसलिए ये सुनिश्चित किया गया कि वैक्सीनेशन अभियान पर वीआईपी कल्चर हावी न हो।
 

प्रधानमंत्री ने इस पर भी जोर दिया कि दुनिया के दूसरे बड़े देशों के लिए वैक्सीन पर रिसर्च करना, वैक्सीन खोजना, इसमें दशकों से उनकी विशेषज्ञता थी। भारत, अधिकतर इन देशों की बनाई वैक्सीन पर ही निर्भर रहता था।

 

महामारी आई तो भारत पर सवाल उठने लगे -प्रधानमंत्री 
जब 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई, तो भारत पर सवाल उठने लगे। क्या भारत इस वैश्विक महामारी से लड़ पाएगा? भारत दूसरे देशों से इतनी वैक्सीन खरीदने का पैसा कहां से लाएगा? भारत को वैक्सीन कब मिलेगी? भारत के लोगों को वैक्सीन मिलेगी भी या नहीं? क्या भारत इतने लोगों को टीका लगा पाएगा कि महामारी को फैलने से रोक सके? भांति-भांति के सवाल थे, लेकिन आज ये 100 करोड़ वैक्सीन डोज, हर सवाल का जवाब दे रही है। आज कई लोग भारत के वैक्सीनेशन प्रोग्राम की तुलना दुनिया के दूसरे देशों से कर रहे हैं। भारत ने जिस तेजी से 100 करोड़ का, 1 बिलियन का आंकड़ा पार किया, उसकी सराहना भी हो रही है। लेकिन, इस विश्लेषण में एक बात अक्सर छूट जाती है कि हमने ये शुरुआत कहां से की है। 
 

130 करोड़ देशवासियों की कर्तव्यशक्ति
प्रधानमंत्री ने इस पर भी जोर दिया कि दुनिया के दूसरे बड़े देशों के लिए वैक्सीन पर रिसर्च करना, वैक्सीन खोजना, इसमें दशकों से उनकी विशेषज्ञता थी। भारत, अधिकतर इन देशों की बनाई वैक्सीन पर ही निर्भर रहता था। कल 21 अक्टूबर को भारत ने 1 बिलियन, 100 करोड़ वैक्सीन डोज का कठिन, लेकिन असाधारण लक्ष्य प्राप्त किया है। इस उपलब्धि के पीछे 130 करोड़ देशवासियों की कर्तव्यशक्ति लगी है। इसलिए ये सफलता भारत की सफलता है, हर देशवासी की सफलता है।

Comments

Also read:तिहाड़ जेल में भूख हड़ताल पर बैठा क्रिश्चिन मिशेल, अगस्ता वेस्टलैंड मामले का है आरोपी ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:हनुमान धाम के दर्शन करने पहुंचे अभिनेता रजा मुराद, कहा- भगवान राम मेरे आदर्श ..

दुनियाभर के लोगों को आकर्षित करता रहा है वृंदावन : प्रधानमंत्री
देश में 24 घंटे में आए 8 हजार से अधिक कोरोना केस, वैक्सीनेशन का आंकड़ा 121 करोड़ के पार

अंग प्रत्यारोपण में भारत अब अमेरिका, चीन के बाद तीसरे स्थान पर: मनसुख मांडविया

भारत में 2012-13 के मुकाबले अंग प्रत्‍यारोपण में करीब चार गुणा की वृद्धि हुई है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण अंग दान और प्रत्‍यारोपण में कमी आई।    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को कहा कि अंग प्रत्‍यारोपण में भारत अब अमेरिका और चीन के बाद दुनिया में तीसरे स्‍थान पर आ गया है। 12वें भारतीय अंगदान दिवस पर मंडाविया ने शनिवार को कहा कि भारत में अंगदान की दर 2012-13 की तुलना में लगभग चार गुना बढ़ी है। ...

अंग प्रत्यारोपण में भारत अब अमेरिका, चीन के बाद तीसरे स्थान पर: मनसुख मांडविया