पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक मामले में पूर्व सैनिकों ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, कार्रवाई का किया आग्रह

Webdesk

WebdeskJan 15, 2022, 12:14 PM IST

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक मामले में पूर्व सैनिकों ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र,  कार्रवाई का किया आग्रह

लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) वीके चतुर्वेदी के नेतृत्व वाली अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद की ओर से राष्ट्रपति को यह पत्र लिखा है, जिसमें कहा है कि यह घटना पंजाब प्रशासन की बुरी स्थिति को प्रदर्शित करती है।

 

पंजाब में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक मामले पूर्व सैनिकों का संगठन अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद ने राज्य सरकार की आलोचना की है साथ ही संगठन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि सुरक्षा चूक और लापरवाही के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो, ताकि सुरक्षा में चूक जैसी घटना दोबारा न हो।  

लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) वीके चतुर्वेदी के नेतृत्व वाली अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद की ओर से राष्ट्रपति को यह पत्र लिखा है, जिसमें कहा है कि यह घटना पंजाब प्रशासन की बुरी स्थिति को प्रदर्शित करती है। यह घटना कानून व्यवस्था पर कई सवाल खड़े करती है। पत्र में बीते दिनों प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक का जिक्र किया गया है, जिसकी वजह से उनके काफिले को लौटना पड़ा था।

पूर्व सैनिकों के संगठन ने दावा किया है कि पंजाब में प्रधानमंत्री की अगवानी के लिए मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक का उपस्थित न होना,  षड्यंत्र के सिद्धांत को बल प्रदान करती है। इस बारे में  बातें हो रही हैं, जो कि बहुत ही चिंता का विषय है। राष्ट्रपति को लिखे पत्र में कहा गया है कि इस तरह प्रधानमंत्री की सुरक्षा से समझौता किया गया, इसका बहुत ही गंभीर परिणाम हो सकता था।

Comments
user profile image
Anonymous
on Jan 16 2022 19:27:57

Congress... Govtt... Par. Bharosa.. Hi mistake.. Tha..

Also read:‘‘अयोध्या को उसकी पहचान दिलाने के लिए कृतसंकल्पित हूं’’ -योगी आदित्यनाथ ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:‘आजादी के बाद शासकों ने बड़ी भूलें की हैं’- जगद्गुुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्व ..

‘‘भेद-रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’- मोहनराव भागवत
सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाला प्रमुख पत्र

भारत में जनतंत्र

पाञ्चजन्य ने हमेशा पत्रिका को लोकतंत्र का मंच बनाए रखने का यत्न किया। इसमें सभी विचारों को स्थान मिलता रहा। इस क्रम में कांग्रेसी, राष्ट्रवादी, समाजवादी, वामपंथी सभी विचारकों के आलेखों को पाञ्चजन्य ने प्रकाशित किया। श्री मानवेन्द्रनाथ राय (1887-1954) भारत के स्वतंत्रता-संग्राम के क्रान्तिकारी तथा विश्वप्रसिद्ध राजनीतिक सिद्धान्तकार थे। उनका मूल नाम ‘नरेन्द्रनाथ भट्टाचार्य’ था। वे मेक्सिको और भारत दोनों की कम्युनिस्ट पार्टियों के संस्थापक थे। वे कम्युनिस्ट इंटरनेशनल के कांग्रेस के प्र ...

भारत में जनतंत्र