पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

जो दल स्वयं लोकतांत्रिक चरित्र खो चुके हों, वे लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकते हैं : प्रधानमंत्री

Webdesk

WebdeskNov 26, 2021, 02:30 PM IST

जो दल स्वयं लोकतांत्रिक चरित्र खो चुके हों, वे लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकते हैं : प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि लोकतंत्र में पारिवारिक पार्टियां चिंता का विषय

 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को संविधान दिवस के अवसर राजनीति में परिवारवाद और पारिवारिक दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकतंत्र के प्रति आस्था रखने वालों के लिए पारिवारिक पार्टियां चिंता का विषय है। संसद के केंद्रीय कक्ष में संविधान दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने बिना नाम लिये पारिवारिक दलों पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अगर योग्यता के आधार पर एक परिवार से एक से अधिक लोग जाएं, इससे पार्टी परिवारवादी नहीं बन जाती है। लेकिन एक पार्टी पीढ़ी दर पीढ़ी राजनीति में है।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत एक ऐसे संकट की ओर बढ़ रहा है, जो संविधान को समर्पित लोगों के लिए चिंता का विषय है। पारिवारिक पार्टियां लोकतंत्र के प्रति आस्था रखने वालों के लिए चिंता का विषय हैं। उन्होंने कहा कि जब राजनीतिक दल स्वयं अपना लोकतांत्रिक चरित्र खो रहे हैं तो इससे संविधान और उसकी एक-एक धारा को चोट पहुंची है। उन्होंने सवाल किया कि जो दल स्वयं लोकतांत्रिक चरित्र खो चुके हों, वे लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकते हैं।

श्री मोदी ने कहा कि हमारा संविधान सिर्फ अनेक धाराओं का संग्रह नहीं है, हमारा संविधान सहस्त्रों वर्ष की महान परंपरा, अखंड धारा उस धारा की आधुनिक अभिव्यक्ति है। इस संविधान दिवस को इसलिए भी मनाना चाहिए, क्योंकि हमारा जो रास्ता है, वह सही है या नहीं है, इसका मूल्यांकन किया जाता रहे। प्रधानमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी ने आजादी के आंदोलन में शामिल लोगों को अधिकारों के लिए लड़ते हुए भी, कर्तव्यों के लिए तैयार करने की कोशिश की थी। अच्छा होता अगर देश के आजाद होने के बाद कर्तव्य पर बल दिया गया होता । आजादी के अमृत महोत्सव में हमारे लिए आवश्यक है कि कर्तव्य के पथ पर आगे बढ़ें ताकि अधिकारों की रक्षा हो सके।

Comments

Also read:पीएम ने उत्तराखंड को दी 18 हजार करोड़ के योजनाओं की सौगात, कहा- अपनी तिजोरी भरने वालो ..

UPElection2022 - यूपी की जनता का क्या है राजनीतिक मूड? Panchjanya की टीम ने जनता से की बातचीत सुनिए

up election 2022 क्या कहती है लखनऊ की जनता ? आप भी सुनिए जानिए
up election 2022 opinion poll
UP Assembly election 2022

up election 2022
up election 2022 opinion poll
UP Assembly election 2022

Also read:ओवैसी के विधायक ने राष्ट्रगीत गाने से किया मना, BJP ने कहा- देशद्रोह की श्रेणी में आत ..

पूर्व  मंत्री दुर्रू मियां का ऑडियो वायरल, कार्यकर्ता से बोले- हिंदू MLA रहेंगे तो यही होता रहेगा
35 देशों में दस्तक दे चुका है ओमिक्रॉन वेरिएंट, लेकिन घबराएं नहीं, सावधानी बरतें

मध्यप्रदेश में पुलिस की डिक्शनरी से उर्दू, फारसी हटाने के निर्देश, 'बदले जाएंगे रिफ्यूजी टाइप के शब्द'

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा- ऐसे शब्द जो व्यवहार में नहीं हैं, वह बदले जाएंगे। पुलिस के द्वारा उर्दू, फ़ारसी शब्द के बजाय सरल हिंदी का इस्तेमाल किया जाएगा   मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार भाषा को लेकर बड़ा फैसला करने जा रही है। सरकार ने प्रदेश में पुलिस की डिक्शनरी से उर्दू के शब्द हटाने का फैसला किया है।  दरअसल, सीएम शिवराज सिंह चौहान, कलेक्टर और एसपी से साथ मीटिंग कर रहे थे, जहां एक एसपी ने गुमशुदा के लिए दस्तयाब शब्द का इस्तेमाल किया। इस दौरान सीएम ने इसे  मुगल काल ...

मध्यप्रदेश में पुलिस की डिक्शनरी से उर्दू, फारसी हटाने के निर्देश, 'बदले जाएंगे रिफ्यूजी टाइप के शब्द'