पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

कट्टर मुस्लिमों ने मंदिर के अंदर तान दी मदरसे की दीवार, पाकिस्तान में निशाने पर हैं मंदिर

WebdeskSep 29, 2021, 03:43 PM IST

कट्टर मुस्लिमों ने मंदिर के अंदर तान दी मदरसे की दीवार, पाकिस्तान में निशाने पर हैं मंदिर
दिसम्बर 2020 में करक के इसी मंदिर को तोड़ते हुए मजहबी उन्मादियों की भीड़


 फैजुल्लाह ने मंदिर के विरुद्ध 'शिकायत' की थी कि नए बने मंदिर पर 'समाधि' की जगह ‘मंदिर’ लिखा गया है। हिंदुओं ने इमारत को 'और आगे तक बढ़ा लिया' है। स्थानीय हिंदुओं का कहना है कि फैजुल्लाह यहां इस मंदिर को देखना ही नहीं चाहता है। पिछले साल भी इस मंदिर पर उन्मादियों ने इस पर हमला करके इसे तोड़ा था




इमरान खान के ‘नए पाकिस्तान’ में फिर हिंदुओं पर ‘सितम’! खैबर पख्तूनख्वा में पिछले दिनों विनायक मंदिर को मजहबी उन्मादियों द्वारा तोड़े जाने का मामला अभी पूरी तरह शांत नहीं हुआ है, लेकिन अब वहीं एक अन्य मंदिर पर कट्टर मुस्लिमों की नजर है। इस मंदिर के परिसर में न सिर्फ स्थानीय मुसलमानों ने प्रशासन की मदद से गैरकानूनी दीवार खड़ी कर ली है, बल्कि इस हेकड़ी का विरोध करने वाले हिन्दुओं को भी धमकाया जा रहा है।

 खैबर पख्तूनख्वा लगातार कट्टरपंथी तत्वों की हिन्दू विरोधी हरकतों का गवाह बना हुआ है। इमरान खान के 'नए पाकिस्तान' में हिन्दुओं के जानोमाल की तेजी से की जा रही दुर्गति खुलकर सामने आ रही है।

घटनाक्रम के अनुसार, सूबे में जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फाजी के एक स्थानीय कट्टर मौलाना हाफिज फैजुल्लाह कई दिनों से जिला करक में टेर्री नामक स्थान पर मौजूद इस मंदिर के पीछे पड़ा था। यह उसकी आंखों को चुभ रहा था। फैजुल्लाह उस मंदिर के पास ही एक मदरसा चलाता है। वह और उसके कुछ वहीं के साथियों ने मंदिर को तरह-तरह की बातें फैलाईं, आपत्तियां जताई। प्रशासन तो जैसे तैयार बैठाा था। उसने इन आपत्तियों का फौरन संज्ञान लेकर 'सुरक्षा' का हवाला देते हुए मंदिर के आंगन के अंदर ही एक दीवार बनवा दी।

पाकिस्तान के समाचार पत्र 'द एक्सप्रेस ट्रिब्यून' ने इस घटना पर छापी अपनी रपट में एक स्थानीय हिंदू बुजुर्ग का बयान प्रकाशित किया है। उन बुजुर्ग का कहना है कि यहां के हिन्दुओं ने इस बात को लेकर आयुक्त और उपायुक्त से बात की, लेकिन उनकी बात पर कान ही नहीं दिया गया। उन्होंने जो कहा उसे अनसुना करते हुए खारिज कर दिया गया।  

फैजुल्लाह उस मंदिर के पास ही एक मदरसा चलाता है। वह और उसके कुछ वहीं के साथियों ने मंदिर को तरह-तरह की बातें फैलाईं, आपत्तियां जताई। प्रशासन तो जैसे तैयार बैठा था। उसने इन आपत्तियों का फौरन संज्ञान लेते हुए 'सुरक्षा' का हवाला देते हुए मंदिर के आंगन के अंदर ही एक दीवार बनवा दी।  

बताया गया है कि सूबे के मुख्यमंत्री के विशेष सहायक (अल्पसंख्यक मामले) वजीरजादा इस समस्या को सुनने तक को तैयार नहीं थे। उन्हें भय है कि कहीं इससे स्थानीय कट्टर मुसलमान नाराज न हो जाएं। फैजुल्लाह ने मंदिर के विरुद्ध यह 'शिकायत' की थी कि नए बने मंदिर पर 'समाधि' की जगह ‘मंदिर’ लिखा गया है। हिंदुओं ने इमारत को 'और आगे तक बढ़ा लिया' है। स्थानीय हिंदुओं का कहना है कि फैजुल्लाह को मंदिर की धर्मशाला के लिए बने कमरों को लेकर आपत्ति थी। उसने बेबुनियाद दावा किया कि इससे तो मंदिर की जगह बढ़ती जाएगी।

उल्लेखनीय है कि गत वर्ष दिसम्बर में जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फाजी के ही एक मौलवी मौलाना शरीफुल्ला की अगुआई में स्थानीय कट्टरपंथियों की भीड़ ने मंदिर पर हमला बोला था। उन्होंने इसे पूरी तरह से तोड़ दिया था। घटना के बाद एक रपट दर्ज की गई थी और कई हमलावरों को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया था। लेकिन इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के यहां की विधानसभा के सदस्य जियाउल्लाह बंगश ने मामले में दखल देकर सरकार एवं हिंदू समुदाय को मंदिर पर हमला करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए मुस्लिमों को माफी देने का मना लिया था। उस घटना में टूटे मंदिर को दोबारा से ठीक किया गया था।
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 02 2021 20:16:52

कुत्ते की दुम कभी सीधी हुई है

Also read: फेसबुक का एक और काला सच उजागर, रिपोर्ट का दावा-भारत में हिंसा पर खुशी, फर्जी जानकारी ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: जीत के जश्न में पगलाए पाकिस्तानी, नेताओं के उन्मादी बयानों के बाद कराची में हवाई फायर ..

शैकत और रबीउल ने माना, फेसबुक पोस्ट से भड़काई हिंदू विरोधी हिंसा
वाशिंगटन में उबला कश्मीरी पंडितों का गुस्सा, घाटी में हिन्दुओं की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने की मांग

बौखलाए 'पाक' की 'नापाक' बयानबाजी, मंसूर ने कहा, 'सीपीईसी को नुकसान पहुंचा रहा भारत-अमेरिका षड्यंत्र'!

खबर है कि चीन अब पाकिस्तान को इस परियोजना से बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना रहा है। इसी वजह से पाकिस्तान इस वक्त इस गलियारे को लेकर सांसत में है और बौखलाहट में बेमतलब के बयान दे रहा है चीन-पाकिस्तान के बीच बड़े ढोल-धमाके के बीच जिस आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) पर काम चल रहा था, वह ताजा जानकारी के अनुसार, पाकिस्तानी कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर में भारी विरोध के चलते डगमगाने लगी है। पिछले दिनों चीनी इंजीनियरों पर जानलेवा हमलों के बाद बीजिंग भी पाकिस्तानी हुक्मरानों से नाराज चल रहा है। एक खबर तो यह भ ...

बौखलाए 'पाक' की 'नापाक' बयानबाजी, मंसूर ने कहा, 'सीपीईसी को नुकसान पहुंचा रहा भारत-अमेरिका षड्यंत्र'!