पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

अब हरियाणा के सरकारी कर्मचारी संघ की गतिविधियों में ले सकते हैं भाग

WebdeskOct 12, 2021, 06:00 PM IST

अब हरियाणा के सरकारी कर्मचारी संघ की गतिविधियों में ले सकते हैं भाग
प्रार्थना करते राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक

हरियाणा सरकार ने एक बहुत ही प्रशंसनीय निर्णय लिया है। 54 साल पहले हरियाणा की तत्कालीन सरकार ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को राजनीतिक संगठन मानकर सरकारी कर्मचारियों को उसकी गतिविधियों में भाग लेने से मना कर दिया था। अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार ने इस प्रतिबंध को हटा लिया है।


हरियाणा सरकार ने निर्णय लिया है कि अब राज्य के सरकारी कर्मचारी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की गतिविधियों में भाग ले सकते हैं। उल्लेखनीय है कि हरियाणा में अनेक वर्षों से सरकारी क्षेत्र में कार्यरत लोगों पर प्रतिबंध था कि वे संघ के कार्यक्रमों में भाग नहीं ले सकते हैं। अब हरियाणा सरकार ने संघ को गैर—राजनीतिक संगठन मानकर इस प्रतिबंध को हटा लिया है। उल्लेखनीय है कि इससे पहले की सरकारों ने संघ को राजनीतिक संगठन मानकर उसके स्वयंसेवकों पर प्रतिबंध लगाया था। हालांकि राज्य में राजनीति में कर्मचारियों के भाग लेने, प्रचार करने और वोट मांगने पर अब भी रोक रहेगी।

    मुख्य सचिव कार्यालय की ओर से सामान्य प्रशासन विभाग ने 11 अक्तूबर को इस संबंध में सभी प्रशासनिक सचिवों, विभागाध्यक्षों, बोर्ड-निगमों के मुख्य प्रशासकों, प्रबंध निदेशकों, मंडलायुक्तों,  विश्वविद्यालयों के रजिस्ट्रार और पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार को निर्देश जारी कर दिए हैं। इसमें हरियाणा सिविल सेवा (सरकारी कर्मचारी आचरण) नियम, 2016 के नियम संख्या 9 और 10 की अनुपालना कड़ाई से सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है। इस पत्र के अनुसार अब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ हरियाणा में प्रतिबंधित संगठन नहीं है। इसके साथ ही सरकार ने सरकारी कर्मचारियों के बारे में स्पष्ट कहा है कि राजनीतिक गतिविधियों में उनकी संलिप्तता और सक्रियता स्वीकार्य नहीं है। वे किसी राजनीतिक संगठन के साथ नहीं जुड़ सकते, न ही घर पर किसी ऐसे दल, संगठन या मोर्चे का झंडा लगा सकेंगे जो राजनीति कर रहा हो। इसके साथ ही न तो किसी दल और न ही संगठन को चंदा दे सकेंगे। ऐसे मामलों में संलिप्तता पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

    उल्लेखनीय है कि  11  जनवरी, 1967  को तत्कालीन हरियाणा सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को संघ की गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रतिबंधित कर दिया था। पंजाब सरकारी कर्मचारी (आचार) नियमावली, 1966  (तब  हरियाणा पर भी लागू)  के नियम 5 (1) के अंतर्गत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को राजनीतिक संगठन माना गया था। इसकी गतिविधियों में भाग लेने पर सरकारी कर्मचरियों के विरुद्ध नियमानुसार अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए थे। 4 मार्च, 1970 को एक अन्य सरकारी आदेश में कार्रवाई करने पर रोक लगा दी गई, चूंकि मामला सर्वोच्च न्यायालय में लंबित था। इसके बाद 2 अप्रैल, 1980 को एक अन्य सरकारी पत्र में स्पष्ट किया गया कि मामला लंबित होने के बावजूद हरियाणा में संघ की गतिविधियों में भाग लेने पर सरकारी कर्मचारियों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है।

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 13 2021 15:44:25

ऐसा हर राज्य को करना चाहिए संघ राष्ट्र निर्माण और संगठन के लिए कार्य करता है ये गर्व की बात है लेकिन जो एक नरेटिव कांग्रेस ने बनाया है अंग्रेज मैकुले के बाद सबसे बड़ा धोखा कांग्रेस है जो बहुसंख्यक को उसके हितों से अलग कर राष्ट्र को तोड़ने की साजिश रचता रहा अब

Also read: उत्तराखंड में बारिश थमी, राहत कार्य शुरू, मृतक आश्रितों को चार-चार लाख का मुआवजा ..

राष्ट्रीय सुरक्षा पर सियासत क्यों ? सिंघु बॉर्डर की घटना का जिम्मेदार कौन ?

राष्ट्रीय सुरक्षा पर सियासत क्यों ? सिंघु बॉर्डर की घटना का जिम्मेदार कौन ?
विशिष्ट अतिथि- कर्नल जयबंस सिंह, रक्षा विशेषज्ञ
तारीख- 15 अक्तूबर 2021
समय- सायं 5 बजे

#singhu #SinghuBorder #LakhbirSingh #defance #BSF #Punjab #Panchjanya #सिंघु_बॉर्डर

Also read: लाउडस्पीकर बजाने पर हिंदुओं के खिलाफ कार्रवाई ..

'नहीं छोड़ेंगे शिया मुस्लिमों को, जहां दिखेंगे वहीं मारेंगे',  आईएस-के ने दी धमकी
उत्तराखंड त्रासदी के बाद इतना भयानक मंजर, 43 की मौत, यूपी के जिलों को किया गया सचेत

चरम पर हिन्दू दमन, बेलगाम कट्टर मुस्लिम

  बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडालों को जलाने, देव प्रतिमाओं को तोड़ने और मंदिरों को ध्वस्त करने के साथ ही वहां मौजूद श्रद्धालुओं की हत्याओं से जो सिलसिला शुरू हुआ है वह थमने का नाम नहीं ले रहा है बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टर मुस्लिमों के हमले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। हिन्दुओं के कई गांव, प्रतिष्ठान, मकान और दुकानों को मजहबी उन्मादियों ने आग के हवाले कर दिया है। बड़ी तादाद में हिन्दू हताहत हैं। कहीं-कहीं प्रशासन दिखता तो है लेकिन उसकी उपस्थिति से मजहबी दंगाइयों के हिंसक तेवर कम ...

चरम पर हिन्दू दमन, बेलगाम कट्टर मुस्लिम