पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

प्रयागराज स्थित शहीद चंद्रशेखर पार्क में बनी अवैध मस्जिद और मजारों को तोड़ा गया

WebdeskOct 08, 2021, 05:40 PM IST

प्रयागराज स्थित शहीद चंद्रशेखर पार्क में बनी अवैध मस्जिद और मजारों को तोड़ा गया
पार्क में बनी एक मजार को तोड़ती जेसीबी मशीन


इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश पर प्रयागराज स्थित शहीद चंद्रशेखर पार्क में बनी अवैध मस्जिद और मजारों को तोड़ा गया। न्यायालय ने प्रशासन से कहा कि इस संबंध में शपथपत्र दाखिल करें। इस पर 21 अक्तूबर को सुनवाई होगी।


सात अक्तूबर की रात को प्रयागराज स्थित शहीद चंद्रशेखर पार्क में अवैध रूप से बनी मस्जिद और मजारों को प्रशासन ने तोड़ दिया। इसके बाद आज यानी आठ अक्तूबर को प्रयागराज प्रशासन ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि पार्क में बने सारे अवैध निर्माणों को तोड़ दिया गया है। प्रशासन ने यह भी बताया कि एक मजार को इसलिए छोड़ा गया है कि वह 1975 से पहले की है। इस पर न्यायालय ने प्रशासन से कहा कि आप एक शपथपत्र दाखिल करें। इसके बाद यदि पार्क में कोई अवैध निर्माण पाया गया तो प्रयागराज प्रशासन के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। साथ ही यह भी कहा कि प्रशासन मजार से संबंधित कागजात न्यायालय में प्रस्तुत करे, जिसमें यह साबित होता हो कि मजार 1975 से पहले की है।

उल्लेखनीय है कि 5 अक्तूबर को इलाहाबाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति मुनीश्वर नाथ भंडारी और न्यायमूर्ति पीयूष अग्रवाल ने पार्क में बने सभी अवैध निर्माणों को दो दिन के अंदर तोड़ने का आदेश दिया था। साथ ही यह भी कहा था कि इसकी रिपोर्ट 8 अक्तूबर को न्यायालय में रखी जाए।

इस आदेश के बाद प्रयागराज प्रशासन पार्क से अवैध निर्माणों को तोड़ने के लिए सक्रिय हो गया था, लेकिन हजारों मुसलमानों के विरोध के कारण यह कार्य कई घंटे तक नहीं हो पाया। इसके बाद सात अक्तूबर की देर रात को भारी पुलिस बल के साथ प्रशासन ने पार्क से अवैध निर्माणों को हटा दिया।

बता दें कि पार्क पर हुए कब्जे को लेकर एक याचिका इलाहाबाद उच्च न्यायालय में दाखिल की गई थी। इसके बाद एक जुलाई को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने पार्क से अवैध मजार, मस्जिद और कब्रों को हटाने की याचिका पर नोटिस जारी किया था। याचिका में आरोप लगाया गया था कि इस पार्क में पिछले 10—15 साल के अंदर मस्जिद का एक ढांचा खड़ा कर दिया गया और एक मजार बना दी गई है। यही नहीं, पार्क में मुसलमान शवों को भी दफना रहे हैं। न्यायालय ने इसे गंभीर मामला माना था। न्यायालय के इस रुख के कारण ही आज पार्क कब्जा—मुक्त हो पाया है।

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 12 2021 00:18:33

बहुत-बहुत धन्यवाद । वो एक मजार भी हटाकर तोङ देनी चाहिए ।

user profile image
Anonymous
on Oct 10 2021 19:18:14

पूरे देश के न्यायालयो को स्वत: संज्ञान लेकर इन अवैध निर्माणों को तोड़ देना चाहिए।

user profile image
Anonymous
on Oct 10 2021 10:47:32

यह बहुत हि उचित कदम है भारत माता कि जय

user profile image
Anonymous
on Oct 09 2021 22:51:06

सराहनीय कार्य

user profile image
Anonymous
on Oct 09 2021 20:07:08

सराहनीय

user profile image
Anonymous
on Oct 09 2021 19:03:42

good

user profile image
Anonymous
on Oct 09 2021 16:43:10

very good

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज