पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

अब इमामों की आड़ में चलेगी तालिबानी हैवानियत! शुक्रवार की नमाज के दौरान इमामों को तालिबान की छवि सुधारने का फरमान

WebdeskSep 28, 2021, 07:04 PM IST

अब इमामों की आड़ में चलेगी तालिबानी हैवानियत! शुक्रवार की नमाज के दौरान इमामों को तालिबान की छवि सुधारने का फरमान
तालिबान लड़ाकों की उपस्थिति में काबुल की एक मस्जिद में तकरीर करता इमाम (फाइल चित्र)

तालिबान अब 'इस्लाम' को अपने उद्देश्य पूर्ति का साधन बनाने की ठान चुका है। इसी कड़ी में तालिबान ने अफगानिस्तान के इमामों को फरमान दिया है कि वे हर शुक्रवार की नमाज के बीच मस्जिद में आए लोगों को बताएं कि वे सरकार के कायदों पर चलें



 अफगानिस्तान में अपनी मध्ययुगीन बर्बरता फिर से बरपाने पर उतरे तालिबान की दुनिया में फजीहत हो रही है। तालिबान मुल्ला भी जानते हैं कि पाकिस्तान, चीन, तुर्की और कतर को छोड़कर दुनिया का कोई देश उनके झांसों में नहीं आ रहा है। वे कितनी ही समावेशी सरकार और सबको बराबर के अधिकार देने की बात कर लें, पर उनकी हरकतें देखते हुए उन पर कोई यकीन नहीं करना चाहता है। महिलाओं को एक बार फिर घरों की चारदीवारी में कैद रहने को मजबूर कर दिया गया है। उन्हें नौकरी करने और पढ़ने की इजाजत नहीं है। पुरुषों को दाढ़ी और बाल न कटाने को कहा गया है, चोरी करने का जरा सा शक होने पर हाथ काटने और गोली मारने के शरिया कानून लागू हो ही चुके हैं। सड़क पर बंदूकधारी लड़ाके थानेदारी करते घूम रहे हैं।

    दुनिया भर में दुत्कारे जा रहे तालिबान भले कैसी भी 'सरकार' बना लें, लेकिन वे किसी तरह कायदे से चलने वाला संगठन कहा ही नहीं जा सकता। अपनी ऐसी छवि को अब तालिबान मुल्ला इमामों के सहारे सुधारने की जुगत में हैं। वे इसलिए भी इमामों को अपनी छवि सुधारने के काम में जुटाना चाहते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि उन पर तो अफगान के नागरिक भरोसा कर ही नहीं सकते, कम से कम इमामों के जरिए अपने मन की बात करवाई जाए जिन पर जनता शायद उनसे ज्यादा यकीन करती है। इसलिए तालिबान अब 'इस्लाम' को अपने उद्देश्य पूर्ति का साधन बनाने की ठान चुका है। इसी कड़ी में तालिबान ने अफगानिस्तान के इमामों को फरमान दिया है कि वे हर शुक्रवार की नमाज के बीच मस्जिद में आए लोगों को बताएं कि वे सरकार के कायदों पर चलें। पहले तालिबान मुल्लाओं ने देश के इमामों को यह आदेश दिया था कि वे शुक्रवार की नमाज के दौरान तालिबान विरोधी खबरों पर कान न देते हुए नागरिकों तक 'सही जानकारी' दें। तालिबान ने इमामों पर लोगों से यह कहने का भी जोर डाला था कि वे अफगानिस्तान छोड़कर न जाएं।

    तालिबान ने इमामों से साफ कहा है कि लड़ाकों के राज को लेकर जितनी भी उल्टी-सीधी बातें फैलाई जा रही हैं, उन्हें लोगों के गले उतरने से रोकें और नागरिकों को देश छोड़कर जाने से मना करें। यानी तालिबान विरोधी नकारात्मक प्रचार की काट करें। तालिबान के मुल्लाओं को लगता है, इससे शायद उनकी छवि सुधर जाएगी और दुनिया में उनकी स्वीकार्यता बढ़ जाएगी।

    ताजा खबरों के अनुसार, तालिबान ने इमामों से साफ कहा है कि लड़ाकों के राज को लेकर जितनी भी उल्टी-सीधी बातें फैलाई जा रही हैं, उन्हें लोगों के गले उतरने से रोकें और नागरिकों को देश छोड़कर जाने से मना करें। यानी तालिबान विरोधी नकारात्मक प्रचार की काट करें। तालिबान के मुल्लाओं को लगता है, इससे शायद उनकी छवि सुधर जाएगी और दुनिया में उनकी स्वीकार्यता बढ़ जाएगी। इसके लिए ज्यादा से ज्यादा इमामों का इस्तेमाल करना चाहता है। तालिबान पहले ही कह चुका है कि अफगानिस्तान में पूरी तरह से शरिया का राज चलेगा।

 

Comments

Also read: फेसबुक का एक और काला सच उजागर, रिपोर्ट का दावा-भारत में हिंसा पर खुशी, फर्जी जानकारी ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: जीत के जश्न में पगलाए पाकिस्तानी, नेताओं के उन्मादी बयानों के बाद कराची में हवाई फायर ..

शैकत और रबीउल ने माना, फेसबुक पोस्ट से भड़काई हिंदू विरोधी हिंसा
वाशिंगटन में उबला कश्मीरी पंडितों का गुस्सा, घाटी में हिन्दुओं की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने की मांग

बौखलाए 'पाक' की 'नापाक' बयानबाजी, मंसूर ने कहा, 'सीपीईसी को नुकसान पहुंचा रहा भारत-अमेरिका षड्यंत्र'!

खबर है कि चीन अब पाकिस्तान को इस परियोजना से बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना रहा है। इसी वजह से पाकिस्तान इस वक्त इस गलियारे को लेकर सांसत में है और बौखलाहट में बेमतलब के बयान दे रहा है चीन-पाकिस्तान के बीच बड़े ढोल-धमाके के बीच जिस आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) पर काम चल रहा था, वह ताजा जानकारी के अनुसार, पाकिस्तानी कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर में भारी विरोध के चलते डगमगाने लगी है। पिछले दिनों चीनी इंजीनियरों पर जानलेवा हमलों के बाद बीजिंग भी पाकिस्तानी हुक्मरानों से नाराज चल रहा है। एक खबर तो यह भ ...

बौखलाए 'पाक' की 'नापाक' बयानबाजी, मंसूर ने कहा, 'सीपीईसी को नुकसान पहुंचा रहा भारत-अमेरिका षड्यंत्र'!