पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

जम्मू-कश्मीर में आतंकी फंडिंग मामले में जमात-ए-इस्लामी के कई ठिकानों पर NIA का छापा

WebdeskOct 27, 2021, 02:38 PM IST

जम्मू-कश्मीर में आतंकी फंडिंग मामले में जमात-ए-इस्लामी के कई ठिकानों पर NIA का छापा

 जम्मू-कश्मीर में एनआईए ने आतंकी फंडिंग मामले में प्रतिबंधित जमात-ए-इस्लामी (जेईआई) के संदिग्धों से पूछताछ की। 
 
 
जम्मू-कश्मीरमें राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने जम्मू-कश्मीर में कई जगह आवासीय परिसरों की तलाशी ली. आतंकी फंडिंग मामले में प्रतिबंधित जमात-ए-इस्लामी (जेईआई) समूह के खिलाफ कई दिनों से जांच चल रही है. एनआईए ने सुबह छह बजे से जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ के साथ तलाशी अभियान चलाया। गौरतलब है कि यह छापेमारी 8-9 अगस्त को श्रीनगर, बडगाम, गांदरबल, बारामूला, कुपवाड़ा, बांदीपोरा, अनंतनाग, शोपियां, पुलवामा, कुलगाम, रामबन, डोडा, किश्तवाड़ और आतंकवाद विरोधी एजेंसी के 61 छापे के क्रम में जारी है।
 
खबरों के अनुसार एनआईए के अधिकारियों ने जिन जेईआई संदिग्धों से पूछताछ की, वे गांदरबल, श्रीनगर, कुपवाड़ा, बांदीपोरा, राजौरी और डोडा जिलों के थे। जांच अधिकारी कुछ और लोगों की तलाश कर रहे हैं, जिन्हें बहुत जल्द तलब किया जाएगा। 
 
 
 जब्त आपत्तिजनक सामग्री
 
तलाशी के दौरान, एनआईए ने संदिग्धों के परिसरों से विभिन्न दस्तावेज, डिजिटल उपकरण और अन्य आपत्तिजनक सामग्री जब्त की है। बता दें कि एनआईए ने बीते बुधवार को जम्मू-कश्मीर के चार जिलों में कई स्थानों पर तलाशी ली और आतंकवाद की साजिश के मामले में आतंकवादियों के चार कथित सहयोगियों को गिरफ्तार किया.एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. वहीं एनआईए ने 10 अक्टूबर को मामला दर्ज करने के बाद से अब तक नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

Comments

Also read:विपक्षी हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल हुआ पास ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:शिक्षा : भाषाओं के लिए आगे आई भारत सरकार ..

संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट
जी उठे महाराजा

नेताओं, अफसरों ने की एयर इंडिया की दुर्दशा

एयर इंडिया में नेताओं और अधिकारियों के मनमाने फैसलों से कंपनी की दुर्दशा हो गई थी। अब विनिवेश के बाद इसके टाटा के पास चले जाने से सार्वजनिक धारणा, गुणवत्ता में सुधार की उम्मीद की जा रही है। इससे बाजार में भारत की हिस्सेदारी बढ़ सकेगी और उसे सीधा लाभ होगा जितेंद्र भार्गव एयर इंडिया के विनिवेश को आप तीन-चार दृष्टियों से देख सकते हैं। जेआरडी टाटा ने 1932 में एयरलाइन प्रारंभ की। उन्होंने बेहतरीन एयरलाइन बनाई, अंतराष्ट्रीय स्तर पर नाम कमाया और भारत सरकार ने 1953 में एयर इंडिया का राष्ट्रीयकरण कर ...

नेताओं, अफसरों ने की एयर इंडिया की दुर्दशा