पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

रावण क्यों जलाया, अब तुम लोगों की खैर नहीं

रितेश कश्यप

रितेश कश्यपOct 22, 2021, 12:58 PM IST

रावण क्यों जलाया, अब तुम लोगों की खैर नहीं
मृतक उमानो देवी के परिजन बिलखते हुए

झारखंड में रामगढ़ जिले के कतारी गांव के लोगों द्वारा रावण दहन करना मानो बहुत बड़ा अपराध हो गया है। अब पुलिस वाले गांव के लोगों को पकड़कर जेल भेज रही है। इस कार्रवाई से गांव की एक बुजुर्ग महिला उमानो देवी की जान चली गई है। अब गांव वाले पुलिस पर आरोप लगा रहे हैं कि उन्होंने उमानो देवी की हत्या की है।

झारखंड सरकार का पाखंड चरम पर है। कोरोना महामारी की आड़ में किसी भी हिंदू त्योहार को मनाने पर प्रतिबंध लगाया दिया जाता है, वहीं ईसाई या मुसलमानों के त्योहार को मनाने के लिए सरकारी अमला भी सहयोग करता है। इस कारण हिंदुओं में सरकार के प्रति जबर्दस्त गुस्सा है। इस पर पुलिस किसी काल की तरह लोगों पर टूट पड़ती है और इस कारण एक बुजुर्ग महिला की जान चली गई है। उस महिला का नाम है उमानो देवी। उमानो रामगढ़ जिले के कतारी गांव की रहने वाली थीं। आरोप है कि 20 अक्तूबर को कुछ पुलिसकर्मियों ने उमानो देवी के घर के दरवाजे को जबर्दस्ती धक्का देकर खोला। इस कारण दरवाजा उमानोे देवी पर गिर गया और उनकी मौके पर ही मौत हो गई। हालांकि पुलिस ने इस आरोप से इनकार किया है। भले ही पुलिस मना कर रही हो, लेकिन इन दिनों झारखंड पुलिस पर जिस तरह के आरोप लग रहे हैं, वे बहुत ही चौंकाने वाले हैं। इसलिए उमानो देवी के परिवार वालों के आरोप को हल्के में नहीं लिया जा सकता है।

दरअसल, विजयादशमी के दिन कतारी गांव में रावण दहन किया गया था। हालांकि प्रशासन ने इस पर प्रतिबंध लगाया हुआ था, लेकिन गांव वालाों का कहना है कि प्रशासन केवल हिंदू त्योहारों पर ही प्रतिबंध लगाता है, उसका विरोध करने के लिए गांव में रावण का दहन किया गया था। जब रावण दहन हो रहा था तभी वहां पुलिस पहुंची और इसके बाद दोनों तरफ से कहा—सुनी हो गई। इसी बीच किसी ने पुलिस पर पत्थर चला दिया। अगले दिन इसी मामले में पुलिस ने 26 लोगों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया, वहीं 71 नामजद लोगों को अभियुक्त बनाते हुए लगभग 200 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया गया। इसके बाद पुलिस ने कुछ ग्रामीणों को पकड़कर जेल भेज दिया। बाकी आरोपियों को पकड़ने के लिए 20 अक्तूबर को पुलिस उस गांव में पहुंची थी। इसी दौरान पुलिस ने उमानो देवी के घर के दरवाजे को तोड़ दिया और उनकी मौत हो गई।  

इस मामले में राज्य सरकसर में शामिल कांग्रेस की विधायक ममता देवी ने भी रामगढ़ पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाया है। उनका कहना है कि रावण दहन मामले में पुलिस ग्रामीणों के बीच दहशत का माहौल पैदा कर रही है। उन्होंने पुलिस की कार्रवाई को एकपक्षीय कार्रवाई बताया। महिला की मौत की खबर मिलते ही हजारीबाग के पूर्व सांसद यदुनाथ पांडे और रांची के सामाजिक कार्यकर्ता भैरव सिंह मृतक के परिजनों से मिलने पहुंचे। वहां उन लोगों ने पुलिस की बर्बरता पर आक्रोश व्यक्त किया। लोगों ने कहा कि पुलिस जानबूझकर हिंदुओं को निशाना बनाने का काम कर रही है। जहां तक रावण दहन का मामला है वहां भी राज्य सरकार की ओर से एकतरफा कार्रवाई की जाती है। मामला अगर मुसलमानों और ईसाईयों से जुड़ा हो तो सरकार या पुलिस कभी कार्रवाई नहीं करती। वहीं अगर हिंदुओं की बात हो तो पुलिस अपनी बर्बरता दिखाने से पीछे भी नहीं हटती।

पुलिस ने इस आरोप से इनकार किया है। भले ही पुलिस मना कर रही हो, लेकिन इन दिनों झारखंड पुलिस पर जिस तरह के आरोप लग रहे हैं, वे बहुत ही चौंकाने वाले हैं। इसलिए उमानो देवी के परिवार वालों के आरोप को हल्के में नहीं लिया जा सकता है।


पूरे मामले पर रामगढ़ के पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार ने बताया कि 16 अक्तूबर को रावण दहन मामले में पुलिस और उस गांव के लोगों के बीच झड़प हुई थी। इस मामले में कई लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई है और कई लोगों को जेल भेजा गया है। और भी कई लोगों की तलाश जारी है। उन्हीं लोगों को पुलिस पकड़ने के लिए उस गांव में गई थी। उन्होंने बताया जिस महिला की मौत हुई है उनके घर में पुलिस गई ही नहीं थी, क्योंकि उस घर से कोई भी नामजद आरोपी नहीं था। इन सब के बाद भी अगर पुलिस पर आरोप लग रहा है तो इसकी निष्पक्षता से जांच कराई जाएगी और जो भी दोषी होंगे उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।

Comments
user profile image
angad singh
on Oct 22 2021 16:57:51

यह तो सर्वविदित है की झारखंड की सरकार हिंदू विरोधी है, क्या भाजपा विरोध, हिंदू विरोध हो गया है?

Also read:संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:जी उठे महाराजा ..

नेताओं, अफसरों ने की एयर इंडिया की दुर्दशा
धर्म और हिंदुत्व भारतीय इतिहास के मूलाधार हैं: डॉ मोहन भागवत

अयोध्या में मस्जिद के लिए जगह देना अनुचित, यहां तीन-तीन पाकिस्तान बनाने की होगी तैयारी : शंकराचार्य

धर्म, विज्ञान और रक्षा के प्रति जागरुक हैं प्रधानमंत्री, यह देश के लिए शुभ: शंकराचार्य   हल्द्वानी में गोवर्धन पुरी पीठ के शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती जी ने कहा कि देश के वर्तमान प्रधानमंत्री धर्म, विज्ञान और रक्षा के प्रति आस्था और जागरुक परिलक्षित होते दिखाई देते हैं, जो देश के लिए शुभ है। यह देश हिन्दू राष्ट्र घोषित होना चाहिए। शंकराचार्य ने अयोध्या में मस्जिद के लिए जगह देने को अनुचित करार देते हुए कहा कि आने वाले समय मे काशी, मथुरा में भी इसकी पुनरावृत्ति होगी और यहां मक्का जैस ...

अयोध्या में मस्जिद के लिए जगह देना अनुचित, यहां तीन-तीन पाकिस्तान बनाने की होगी तैयारी : शंकराचार्य