पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

रांची में जिला स्तरीय योग प्रतियोगिता

रितेश कश्यप

रितेश कश्यपOct 18, 2021, 03:39 PM IST

रांची में जिला स्तरीय योग प्रतियोगिता
योगासन करता एक योग साधक

यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ही देन है कि अब भारत के हर जिले में योग प्रतियोगिता होने लगी है। इसी कड़ी में झारखंड की राजधानी रांची में 17 अक्तूबर को योग प्रतियोगिता हुई। इस अवसर पर योग साधक बच्चों ने योगासनों के माध्यम से सबका मन मोह लिया।


प्रतिभाशाली योग साधकों की खोज करने और उन्हें देश—दुनिया में एक नई पहचान दिलाने के लिए भारत सरकार के युवा और खेल मंत्रालय तथा आयुष मंत्रालय के संयुक्त प्रयास से एक नई पहल की गई है। इसके अंतर्गत जिला स्तर पर योग प्रतियोगिता कराई जा रही है। इसी क्रम में 'योगासन एक्सपोर्ट एसोसिएशन ऑफ झारखंड' की ओर से 17 अक्तूबर को एक प्रतियोगिता कराई गई। रांची के नामकुम में पतंजलि योगपीठ द्वारा संचालित आचार्यकुलम में संपन्न इस प्रतियोगिता में छोटे—छोटे बच्चों ने योगासनों के माध्यम से लोगों का दिल जीत लिया।

संस्था के प्रदेश अध्यक्ष संजय सिंह ने बताया कि खेल मंत्रालय और आयुष मंत्रालय के दिशानिर्देश पर  झारखंड में अब तक कुल 16 जिलों में समितियों का गठन किया जा चुका है। इसके बाद प्रत्येक जिले में योग को लेकर प्रतियोगिताएं कराई जाएंगी। सफल प्रतिभागियों को राज्य से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा। उन्होंने यह भी बताया कि योगा चैंपियनशिप की अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता अगले वर्ष के मार्च महीने में गुजरात में कराई जाएगी।  इसमें कुल 145 देशों के प्रतिभागी भाग लेंगे।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर रांची के सांसद संजय सेठ उपस्थित थे। उनके साथ भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्षा आरती कुजूर और आचार्यकुलम के प्रबंधक स्वामी दिव्य देव भी थीं।

सांसद संजय सेठ ने कहा कि भारत सरकार के प्रयासों से योग अब देश—विदेश में भी किया जाने लगा है। जल्दी ही ओलंपिक में भी यह योग भारत को कई पदक दिलाने का काम करेगा।

रांची विश्वविद्यालय में योग की प्राध्यापिका संतोषी कुमार साहू ने बताया कि झारखंड के लोगों में काफी प्रतिभाएं छुपी हुई हैं उन प्रतिभाओं को दिखाने का यह मौका केंद्र सरकार की ओर से दिया जा रहा है।

 

Comments

Also read:संत समाज ने सीएम धामी को किया सम्मानित, देवस्थानम बोर्ड भंग करने को बताया ऐतिहासिक फै ..

मॉडर्न स्कूलों में मिलेगा वैदिक ज्ञान तो बदलेगा भविष्य

संसदीय समिति की सिफारिश: स्कूल पाठ्यक्रम में शामिल हो वेदों का ज्ञान, बढ़ाया जाए मराठा-सिख इतिहास
संसदीय समिति ने सिफारिश में कहा है कि स्कूलों में वे...
atharvaveda rig veda puran mahabharat ramayana
Recommendation of #Parliamentary Committee: #Knowledge of #Vedas should be included in school curriculum, #Maratha-Sikh history should be increased
The parliamentary committee has said in the recommendation that in schools they should...

BJP के सांसद विनय सहस्रबुद्धे की अगुआई वाली संसदीय समिति ने सिफारिश की है कि स्कूल की किताबों में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के जिक्र के साथ वेद शास्त्रों को भी पढ़हाया जाय.
#Panchjanya

Also read:नैनीताल में पुलिस ने रुकवाया मजार का निर्माण, प्रशासन से नहीं ली गई थी अनुमति ..

44 वर्षों के बाद बहुप्रतीक्षित 'सरयू नहर परियोजना' का कार्य पूरा, 11 दिसंबर को प्रधानमंत्री करेंगे जनता को समर्पित
प्रधानमंत्री की ऐतिहासिक रैली ने साबित किया, जनता का विश्वास भाजपा के साथ: अनिता ममगांई

बागपत सहित पश्चिम यूपी के लिए नए दरवाजे खोलेगा देहरादून-दिल्ली आर्थिक गलियारा

बागपत, शामली, सहारनपुर और मुजफ्फरनगर को छूता हुआ जाएगा यह एक्सप्रेस-वे   प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देहरादून-दिल्ली के बीच बनने वाले जिस एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किया है, उसे दिल्ली-देहरादून आर्थिक गलियारा नाम दिया गया है। यह एक्सप्रेस-वे बागपत, शामली, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर को छूता हुआ जाएगा। पीएम मोदी ने अपने भाषण में पश्चिम यूपी के लोगों को भी विश्वास दिलाया है कि इस आर्थिक गलियारे से उनके भी विकास के मार्ग खुलने जा रहे हैं। इस मार्ग के बन जाने से देहरादून-दिल्ली ...

बागपत सहित पश्चिम यूपी के लिए नए दरवाजे खोलेगा देहरादून-दिल्ली आर्थिक गलियारा