पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

30 मस्जिदों पर लटके ताले, इस्लामिक कट्टरपंथ पर फ्रांस की बड़ी कार्रवाई

WebdeskOct 01, 2021, 04:00 PM IST

30 मस्जिदों पर लटके ताले, इस्लामिक कट्टरपंथ पर फ्रांस की बड़ी कार्रवाई
फ्रांस में बंद की गई एक मस्जिद के सामने तैनात सुरक्षाकर्मी। (प्रकोष्ठ में) गृहमंत्री गेराल्‍ड डारमानिन

 

फ्रांस के गृहमंत्री का यह बयान महत्वपूर्ण है कि वह ऐसे इस्लामिक कट्टरपंथियों में डर पैदा करना चाहते हैं जो उनके देश में आतंक फैलाने पर आमादा हैं। संभावना है कि चिन्हित हुईं 6 अन्य मस्जिदें भी जल्द ही बंद कर दी जाएंगी


 

 फ्रांस ने इस्लामिक कट्टरवाद के विरुद्ध पूरी तरह कमर कस ली है। गत एक वर्ष के दौरान उसने मजहबी उन्माद फैलाने वाले तत्वों, स्थलों के प्रति संभवत: 'जीरो टॉलरेंस' की नीति अपना ली है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने अनेक अवसरों पर विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मंचों पर इस तरफ ध्यान दिलाया है और मांग की है कि इस नासूर को खत्म करके ही दुनिया में शांति संभव है। फ्रांस के गृह मंत्री गेराल्ड डारमानिन का हाल में आया यह बयान महत्वपूर्ण है कि वह ऐसे इस्लामिक कट्टरपंथियों में डर पैदा करना चाहते हैं जो उनके देश में आतंक फैलाने पर आमादा हैं। उन्‍होंने यह भी बताया है कि 30 मस्जिदों पर कड़ी कार्रवाई करके उनको बंद किया जा चुका है। संभावना है कि चिन्हित हुईं 6 अन्य मस्जिदें भी जल्‍दी ही बंद कर दी जाएंगी।

गृहमंत्री गेराल्‍ड ने बताया कि नवम्बर 2020 से कट्टरपंथ और उन्मादी भावनाएं भड़काने में लगीं करीब 89 विवादित मस्जिदों की निगरानी की गई थी। इनमें से कुछ बेहद आपत्तिजनक पाई गई हैं। इन पर कड़ी कार्रवाई करते हुए बीते एक साल में 30 मस्जिदों पर ताले लगवा दिए गए हैं। इससे पहले फ्रांस के गृहमंत्री ने बताया था कि अलगाववाद रोधी कानून को लागू किए जाने से पूर्व ऐसे 650 ठिकानों को ताला लगाया गया था जो चरमपंथियों को पनाह देने के दोषी पाए गए थे। इतना ही नहीं, फ्रांस की पुलिस भी इस दृष्टि से तेजी से हरकत में आई है। पूरे देश में 24,000 स्थानों की गहन जांच की जा चुकी है। आगे और बड़ी कार्रवाई करते हुए देश के अलग अलग क्षेत्रों में और 6 मस्जिदों को ताले लगाने की तैयारी की जा रही है।

फ्रांस के गृह मंत्री ने बताया कि इस्लाम को राजनीति से जोड़ने की वकालत कर रही 5 मुस्लिम संस्थाओं को भी बंद किया गया है। उनके अनुसार ऐसी करीब 10 संस्थाओं को अभी बंद करना है। इसी कार्रवाई को आगे बढ़ाते हुए फ्रांस ने 205 संस्थाओं के बैंक खाते बंद कराए हैं। दो इमामों को देश से बाहर किया गया है।

इसके अलावा फ्रांस के गृह मंत्री ने 'इयूप सुल्तान' मस्जिद को बनाए जाने का भी विरोध किया है। ऐसे ही, उन्‍होंने बताया कि इस्लाम को राजनीति से जोड़ने की वकालत कर रही 5 मुस्लिम संस्थाओं को भी बंद किया गया है। उनके अनुसार ऐसी करीब 10 संस्थाओं को अभी बंद करना है। इसी कार्रवाई को आगे बढ़ाते हुए फ्रांस ने 205 संस्थाओं के बैंक खाते बंद कराए हैं। दो इमामों को देश से बाहर किया गया है। गेराल्ड का कहना है कि वे ऐसे लोगों को आतंकित करना चाहते हैं जो उनके विरुद्ध आतंक फैलाने में लगे हैं।' उन्‍होंने यह भी बताया कि कहा कि 2023 से किसी को विदेशों से मजहबी प्रचार करने फ्रांस नहीं आने दिया जाएगा और ऐसे जो लोग पहले से यहां मौजूद हैं, उनके यहां रुकने के परमिट को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि फ्रांस ही वह देश है जिसने अल्जीरिया, ट्यूनीशिया तथा मोरक्‍को वालों वीजा देने की तादाद बहुत कम कर दी है। फ्रांस में शीर्ष संवैधानिक प्राधिकरण ने अलगाववाद रोधी कानून को पहले ही पास किया हुआ है। इस विधेयक को राष्ट्रीय असेंबली में पास किया गया था। विधेयक कट्टरपंथियों पर शिकंजा कसने के अनेक कड़े प्रावधानों की अनुमति देता है।

 

Comments
user profile image
Ukchand bafna
on Oct 08 2021 12:26:37

wel done

user profile image
Anonymous
on Oct 05 2021 13:00:24

सनातनी हिंदुओं के आगे बढ़ने का एक कदम यह भी होना चाहिए कि वह मुस्लिमों की तरह अपने लिए भी कोई मस्जिद अर्थात मानव मंदिर बना ले जिसमें अपने वह इकट्ठा हो सके सुन सके लामबंद हो सके और अपना लाउडस्पीकर चला सके अगर अगला 19 है तो हम 20 हो सकते हैं

user profile image
Anonymous
on Oct 02 2021 19:12:48

very good fr.

user profile image
Anonymous
on Oct 02 2021 12:25:54

v good

user profile image
Anonymous
on Oct 01 2021 19:01:05

बहुत सुंदर

Also read: पाकिस्तान के पूर्व राजदूत ने की भारत की तारीफ, जम्मू-कश्मीर में दुबई के निवेश को बताय ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: पाकिस्तान पर एफएटीएफ की मार, 'ग्रे लिस्ट' से बाहर नहीं हुआ आतंकियों का इस्लामी पहरेदा ..

अब तेज आवाज में नहीं होगी अजान, लोग हो रहे अवसाद के शिकार, 70 हजार मस्जिदों ने कम की लाउडस्पीकरों की आवाज
क्या इस्लामिक नहीं, सेक्युलर देश बनेगा बांग्लादेश! हिंदू विरोधी मजहबी उन्माद के बीच बांग्लादेश के मंत्री ने दिया बयान

थम गया 75 साल पुराने बंद पड़े मंदिरों की मरम्मत का काम

पाकिस्तान में गत अगस्त माह में रहीम यार खान सूबे में मजहबी उन्मादियों द्वारा मशहूर सिद्धिविनायक गणेश मंदिर को तोड़े जाने के बाद इमरान सरकार ने सात प्राचीन मंदिरों के भी पुनरुद्धार का वादा किया था पाकिस्तान में कम से कम सात प्राचीन मंदिर ऐसे हैं जो पिछले 75 साल से बंद पड़े हैं। कुछ दिन पहले पाकिस्तान ने इनकी मरम्मत करके जीर्णोद्धार करने के बड़े-बड़े वादे किए थे, लेकिन वहां जिस सड़क निर्माण विभाग के अंतर्गत यह काम आता है उसमें भ्रष्टाचार इतना चरम पर पहुंचा हुआ है कि उसकी सारी योजनाएं धरी रह ग ...

थम गया 75 साल पुराने बंद पड़े मंदिरों की मरम्मत का काम