पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

इंटरनेट पर राष्ट्रविरोधी एजेंडा चला रहा था मो. अहसान उंतु, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Webdesk

WebdeskJan 15, 2022, 07:00 AM IST

इंटरनेट पर राष्ट्रविरोधी एजेंडा चला रहा था मो. अहसान उंतु, पुलिस ने किया गिरफ्तार
मो. अहसान उंतु

गैर कश्मीरियों के खिलाफ लोगों में नफरत पैदा करने का भी आरोप। उस पर मारे गए एक आतंकी की पत्नी ने दुष्कर्म का मामला भी दर्ज कराया है।

 

इंटरनेशनल फोरम फॉर जस्टिस एंड ह्यूमन राइट्स जम्मू कश्मीर (आईएफजेएचआरजेके) के अध्यक्ष मो. अहसान उंतु को पुलिस ने इंटरनेट मीडिया पर राष्ट्रविरोधी एजेंडे के प्रचार, अफवाहें फैलाने और गैर कश्मीरियों के खिलाफ लोगों में नफरत पैदा करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है।

मो. अहसान उंतु हवाला और अलगाववादी गतिविधियों के मामले में पहले भी कई बार गिरफ्तार हो चुका है। लोलाब कुपवाड़ा के रहने वाले अहसान उंतु को राजबाग श्रीनगर स्थित उसके किराए के मकान से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उसे अदालत में पेश करके उसे रिमांड पर भी ले लिया है।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि वह ट्विटर पर रेडियो रजिस्टेंस कश्मीर पर प्रसारित होने वाले राष्ट्रवादी दुष्प्रचार में अकसर शामिल होता था। वह इस मंच का प्रयोग कश्मीर में अलगाववादी और आतंकी गतिविधियों को उकसाने के लिए निरंतर प्रयास कर रहा था। यह रेडियो दो अलगाववादियों मुजम्मिल अयूब ठाकुर और डॉ. आसिफ डार द्वारा संचालित किया जाता है। इन दोनों के खिलाफ भी श्रीनगर के कोठीबाग पुलिस स्टेशन में अलग-अलग एफआईआर दर्ज हैं।

उंतु हवाला और अलगाववादी गतिविधियों के मामले में पहले भी कई बार गिरफ्तार हुआ है। वह जेल भी जा चुका है। उस पर मारे गए एक आतंकी की पत्नी ने दुष्कर्म का मामला भी दर्ज कराया है।

Comments

Also read:‘‘अयोध्या को उसकी पहचान दिलाने के लिए कृतसंकल्पित हूं’’ -योगी आदित्यनाथ ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:‘आजादी के बाद शासकों ने बड़ी भूलें की हैं’- जगद्गुुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्व ..

‘‘भेद-रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’- मोहनराव भागवत
सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाला प्रमुख पत्र

भारत में जनतंत्र

पाञ्चजन्य ने हमेशा पत्रिका को लोकतंत्र का मंच बनाए रखने का यत्न किया। इसमें सभी विचारों को स्थान मिलता रहा। इस क्रम में कांग्रेसी, राष्ट्रवादी, समाजवादी, वामपंथी सभी विचारकों के आलेखों को पाञ्चजन्य ने प्रकाशित किया। श्री मानवेन्द्रनाथ राय (1887-1954) भारत के स्वतंत्रता-संग्राम के क्रान्तिकारी तथा विश्वप्रसिद्ध राजनीतिक सिद्धान्तकार थे। उनका मूल नाम ‘नरेन्द्रनाथ भट्टाचार्य’ था। वे मेक्सिको और भारत दोनों की कम्युनिस्ट पार्टियों के संस्थापक थे। वे कम्युनिस्ट इंटरनेशनल के कांग्रेस के प्र ...

भारत में जनतंत्र