पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

शक्ति मिल गैंग रेपः हाई कोर्ट ने तीनों दोषियों की फांसी की सजा को उम्रकैद में बदला

Webdesk

WebdeskNov 25, 2021, 02:01 PM IST

शक्ति मिल गैंग रेपः हाई कोर्ट ने तीनों दोषियों की फांसी की सजा को उम्रकैद में बदला
प्रतीकात्मक चित्र

कवरेज करने गई महिला पत्रकार के साथ किया था सामूहिक दुष्कर्म 

 

बॉम्बे हाई कोर्ट ने मुंबई के शक्ति मिल सामूहिक दुष्कर्म मामले के तीनों दोषियों की फांसी की सजा को उम्रकैद में बदल दिया है। हाई कोर्ट ने इस घटना को क्रूरतम घटना बताया और किसी भी महिला को देखने का समाज का नजरिया बदलने की जरूरत पर भी जोर दिया है।

शक्ति मिल परिसर में खबर का कवरेज करने गई महिला पत्रकार के साथ 22 अगस्त 2013 को कुछ दरिंदों ने सामूहिक दुष्कर्म किया था। सत्र न्यायालय ने मामले के आरोपितों- विजय जाधव, कासिम बंगाली और सलीम अंसारी को दोषी ठहराते हुए 4 दिसंबर 2014 को फांसी की सजा सुनाई थी। तीनों दोषियों ने सत्र न्यायालय के फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। जस्टिस एसएस जाधव और जस्टिस पृथ्वीराज चौहान की बेंच ने आज तीनों दोषियों की फांसी की सजा को उम्रकैद में बदलने का आदेश जारी किया।
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Nov 26 2021 10:45:01

ये कृत फांसी दे कर उदाहरण प्रस्तुत करते जज।

user profile image
Anonymous
on Nov 25 2021 14:16:58

फांसी से काम नहीं होना चाहिए

Also read:मंदिरों को सरकारी कब्जे से मुक्त रहना चाहिए: चंपत राय ..

UPElection2022 - यूपी की जनता का क्या है राजनीतिक मूड? Panchjanya की टीम ने जनता से की बातचीत सुनिए

up election 2022 क्या कहती है लखनऊ की जनता ? आप भी सुनिए जानिए
up election 2022 opinion poll
UP Assembly election 2022

up election 2022
up election 2022 opinion poll
UP Assembly election 2022

Also read:आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जाएगा, 75 करोड़ लोग करेंगे सूर्य नमस्कार ..

अमेठी में बनेगी AK-203 असॉल्ट राइफल
कांग्रेस में टुकड़े-टुकड़े गैंग की जुटने लगी जमात, आतंकी भिंडरावाला का प्रशंसक सिद्धू मूसेवाल कांग्रेस में शामिल

भटकी हुई मांगें, बेपटरी आंदोलन

आंदोलन का विरोध कर रही कांग्रेस ईमानदारी से आकलन करे कि उसके इतने लंबे शासन के बावजूद अन्नदाता की ऐसी स्थिति क्यों बनी रही ? किसान क्यों कर्ज के जाल में फंसे रहे? क्यों आत्महत्या करते रहे? राजनीतिक बिरादरी की स्मरणशक्ति भले कमजोर हो, अवसरवादी हो, पलायनवादी हो, पर जनता सबका लेखाजोखा रखती है। वह जानती है कि कौन उसके असली हितैषी हैं और कौन नकली।  अभिषेक कुमार लोकतंत्र में हठधर्मिता के लिए कोई स्थान नहीं होता और ऐसा होना भी नहीं चाहिए। जड़ता एवं टकराव लोकतंत्र की प्रकृति-प्रवृत्ति नहीं होत ...

भटकी हुई मांगें, बेपटरी आंदोलन