पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

अब तेज आवाज में नहीं होगी अजान, लोग हो रहे अवसाद के शिकार, 70 हजार मस्जिदों ने कम की लाउडस्पीकरों की आवाज

WebdeskOct 21, 2021, 06:18 PM IST

अब तेज आवाज में नहीं होगी अजान, लोग हो रहे अवसाद के शिकार, 70 हजार मस्जिदों ने कम की लाउडस्पीकरों की आवाज
प्रतीकात्मक चित्र

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता की अल-इकवान मस्जिद के अध्यक्ष अहमद तौकीफ कहते हैं कि अजान की आवाज कम करना एकदम सही कदम है


इंडोनेशिया ने एक उदाहरण कायम किया है विश्व के तमाम देशों के सामने। वहां की सरकार ने मस्जिदों के लाउडस्पीकरों पर अजान की आवाज घटाने के आदेश दिए हैं। वहां बड़ी संख्या में आम लोगों ने इतनी तेज आवाज में अजान कान में पड़ने से चिड़चिड़ेपन और अवसाद की शिकायत की थी। इस शिकायत को बढ़ता देख आखिरकार इंडोनेशिया की सरकार ने ने 70 हजार मस्जिदों को आदेश दिया है कि वे अपने लाउडस्पीकरों की आवाज कम करें।

उल्लेखनीय है कि इंडोनेशिया में दुनिया के किसी भी अन्य देश के मुकाबले सबसे ज्यादा मुसलमान हैं। इस देश की आबादी है 21 करोड़। पूरे देश में साढ़े सात लाख मस्जिदें हैं, जिनसे एक साथ अजान गूंजने के चलते लोगों में अवसाद और तनाव के लक्षण बढ़ते जा रहे थे। लोगों ने बड़ी तादाद में इसकी सरकार से ऑनलाइन शिकायत की, जिसके बाद सरकार ने भी सहृदयतापूर्वक विचार करने के बाद मस्जिदों को अपने लाउडस्पीकर हल्की आवाज में बजाने का आदेश दिया है।

 

इंडोनेशिया में साढ़े सात लाख मस्जिदें हैं, जिनसे एक साथ अजान गूंजने के चलते लोगों में अवसाद और तनाव के लक्षण बढ़ते जा रहे थे। लोगों ने बड़ी तादाद में इसकी सरकार से ऑनलाइन शिकायत की, जिसके बाद सरकार ने भी सहृदयतापूर्वक विचार करने के बाद मस्जिदों को अपने लाउडस्पीकर हल्की आवाज में बजाने का आदेश दिया है। देश की मस्जिद परिषद ने सरकार के निर्णय को स्वीकारते हुए लाउडस्पीकरों की आवाज घटा दी।


देश की मस्जिद परिषद ने सरकार के निर्णय को स्वीकारते हुए लाउडस्पीकरों की आवाज घटा दी। मस्जिद परिषद के अध्यक्ष यूसुफ कल्ला का कहना है कि देश में 7.5 लाख मस्जिदें हैं जिनमें से ज्यादातर के लाउडस्पीकर ठीक काम नहीं कर रहे थे, इसी वजह से अजान की आवाज कुछ ज्यादा ही तेज आती थी।

इस दिक्कत को दूर करने के लिए 7 हजार तकनीशियनों को काम पर जुटाया गया था। उन्होंने अब तक 70 हजार मस्जिदों के लाउडस्पीकरों की आवाज कम कर दी है। हालांकि मस्जिद परिषद के समन्वयक अजीज ने अपना अजीब तर्क रखा था कि अजान की तेज आवाज इस्लामिक परंपरा से जुड़ी है। इसका मकसद होता है कि आवाज दूर तक जाए। जबकि राजधानी जकार्ता की अल-इकवान मस्जिद के अध्यक्ष अहमद तौकीफ कहते हैं कि अजान की आवाज कम करना एकदम सही कदम है।

 

Comments

Also read:पकड़ी गई ढाका की फातिमा, पुलिस ने बरामद की पाकिस्तान में बनी श्रीलंका के रास्ते आई 7 ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:चीनी कर्ज के मकड़जाल में फंसे युगांडा के एकमात्र हवाई अड्डे पर हुआ ड्रैगन का कब्जा ..

ग्‍वादर में अपने सम्‍मान के लिए 12 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हजारों बलूच
पाकिस्तानियों के दिल से उतरे इमरान खान, 87 प्रतिशत जनता ने माना-देश गलत राह पर

सोलोमन द्वीप पर दंगे और आगजनी, ताइवान को छोड़ चीन के पाले में जाने के सरकार के फैसले से लोग नाराज

सोलोमन द्वीप समूह और ताइवान के बीच एक लंबे वक्त से सौहार्दपूर्ण संबंध रहे हैं, लेकिन इधर वहां की सरकार ने ताइवान से नाता तोड़कर चीन के पाले में जाने का मन बनाया है, इसे लेकर वहां के लोग बहुत नाराज हैं   आलोक गोस्वामी सोलोमन द्वीप के लोग इन दिनों बहुत आक्रोशित हैं। वे अपनी सरकार के ताइवान से दशकों पुराने संबंध तोड़कर चीन के पाले में जाने को लेकर गुस्से में हैं। पूरे द्वीप पर सरकार के प्रति अपनी नाराजगी जताते हुए लोगों ने दंगे कर दिए हैं, जगह—जगह आगजनी देखने में आई है। हालात इत ...

सोलोमन द्वीप पर दंगे और आगजनी, ताइवान को छोड़ चीन के पाले में जाने के सरकार के फैसले से लोग नाराज