पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

भारत की तरक्की में सहयोग को तैयार अमेरिकी कंपनियां, निवेशकों के लिए बताया भारत को अनुकूल

WebdeskSep 24, 2021, 02:53 PM IST

भारत की तरक्की में सहयोग को तैयार अमेरिकी कंपनियां, निवेशकों के लिए बताया भारत को अनुकूल
एडोब के सीईओ शांतनु नारायण के साथ भेंट करते हुए प्रधानमंत्री मोदी

ब्लैकस्टोन कंपनी के अध्यक्ष व सीईओ स्टीफन ए. श्वार्जमैन ने कहा कि मोदी सरकार विदेशी निवेशकों के लिए एक बहुत ही अनुकूल सरकार


 

अमेरिका की बड़ी कंपनियां भारत में निवेश का मन बना रही हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अमेरिका में 23 सितम्बर को दुनिया की शीर्ष कंपनियों के प्रमुखों से हुई बातचीत से यह निष्कर्ष निकलना भारत में निवेश के क्षेत्र में एक बहुत सकारात्मक प्रगति के तौर पर देखा जा रहा है। इस पर अपनी खुशी जताते हुए प्रधानमंत्री ने इसे देशहित में उठने वाला कदम बताया है।

शीर्ष सीईओ से अपनी बातचीत को देश के सुधार की दिशा में सराहनीय कदम बताते हुए मोदी ने साफ कहा है कि अमेरिका की कंपनियों का भारत में निवेश करने में रुचि दिखाना देशहित में बढ़ा एक कदम है।

मोदी ने अमेरिका के पांच शीर्ष कंपनी प्रमुखों से हुई अपनी वार्ता के संदर्भ में ट्वीट में लिखा—'यह भारत में सुधार की दिशा के लिए सराहनीय है। भारत तथा अमेरिका के बीच नजदीकी आर्थिक संबंधों से हमारे देश की जनता को लाभ पहुंचेगा'। अपने अमेरिका दौरे के पहले दिन 23 सितम्बर को मोदी ने अमेरिका की पांच बड़ी कंपनियों के प्रमुखों से वाशिंगटन के होटल विलार्ड इंटरकान्टिनेंटल में मुलाकात की थी।

प्रधानमंत्री मोदी ने एडोब के सीईओ शांतनु नारायण के साथ आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) के साथ ही, स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में कंपनी की निवेश की संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने जनरल एटोमिक्स के सीईओ विवेक लाल से अपनी बातचीत में भारत के रक्षा तकनीक क्षेत्र को मजबूत करने का जिक्र किया।

उल्लेखनीय है कि सभी सीईओ ने प्रधानमंत्री के साथ हुई अपनी वार्ता को बेहद सफल बताया है। ब्लैकस्टोन कंपनी के अध्यक्ष व सीईओ स्टीफन ए. श्वार्जमैन ने कहा कि मोदी सरकार विदेशी निवेशकों के लिए अनुकूल है। उनका कहना है कि 'मोदी सरकार विदेशी निवेशकों के लिए एक बहुत ही अनुकूल सरकार है। जो कंपनियां रोजगार पैदा करने के लिए भारत में पूंजी लगाना चाहती हैं, उनके सहयोग के लिए भारत सरकार को श्रेष्ठ दर्जा मिलना चाहिए।'

इसी तरह क्वालकाम के सीईओ क्रिस्टिआनो एमोन के साथ हुई अपनी बातचीत को मोदी ने काफी फायदेमंद बताया। प्रधानमंत्री ने कहा, 'उन्होंने 5जी में भारत की तरक्की और कनेक्टिविटी बढ़ाने में पीएम-वानी जैसे प्रयासों में दिलचस्पी दिखाई है।' मोदी ने बताया कि फ‌र्स्ट सोलर कंपनी के सीईओ मार्क विडमार ने भारत में अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में अवसरों के संदर्भ में बात की। उन्होंने सोलर पैनल बनाने वाली इस कंपनी को भारत में निवेश के लिए न्योता भी दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने एडोब के सीईओ शांतनु नारायण के साथ आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) के साथ ही, स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में कंपनी की निवेश की संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा की।

प्रधानमंत्री मोदी ने जनरल एटोमिक्स के सीईओ विवेक लाल से अपनी बातचीत में भारत के रक्षा तकनीक क्षेत्र को मजबूत करने का जिक्र किया। इसके तहत ड्रोन तकनीक में आगे काम और उत्पादन से जुड़ी लाभ योजना शामिल है। ब्लैकस्टोन समूह के सीईओ स्टीफन स्वार्जमैन और मोदी के बीच भारत में निवेश की बेहतरीन संभावनाओं पर चर्चा हुई। इसमें नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन तथा नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन जैसे विषय चर्चा में आए।

Follow Us on Telegram
 

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Sep 25 2021 20:05:43

Shabash...

user profile image
Anonymous
on Sep 25 2021 10:02:42

इस संधि का पूरा फायदा उठाइए समय का भी पूरा फायदा उठाइए मौके का पूरा फायदा उठाइए यह बहुत आवश्यक है

Also read: बांग्लादेश : चरम पर हिन्दू दमन ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: लगातार बनाया जा रहा है निशाना ..

अफवाह की आड़ मेंं हिंदुओं पर आफत
नेपाल के साथ बढ़ेगा संपर्क, भारत ने तैयार की बिहार के जयनगर से नेपाल के कुर्था तक की रेल लाइन

'अफगानिस्तान को नहीं निगल सकता पाकिस्तान', पूर्व राष्ट्रपति सालेह ने तालिबान के दोस्त पाकिस्तान को लगाई लताड़

सालेह ने नई पोस्ट में साफ कहा है कि उन्हें तालिबान की गुलामी स्वीकार नहीं है। याद रहे, सालेह काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान छोड़ने के बजाय पंजशीर घाटी चले गए थे अमरुल्लाह सालेह ने 49 दिन बाद एक बार किसी अनजान जगह से सोशल मीडिया पर पाकिस्तान को खूब खरी—खोटी सुनाई है। उल्लेखनीय है कि पंजशीर घाटी पर तालिबान के कब्जे की पाकिस्तान के दुष्प्रचार तंत्र ने खूब खबरें उड़ाई थीं। उसी दौरान अफगानिस्तान के अपदस्थ उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने वीडियो जारी किया था और साफ बताया था क ...

'अफगानिस्तान को नहीं निगल सकता पाकिस्तान', पूर्व राष्ट्रपति सालेह ने तालिबान के दोस्त पाकिस्तान को लगाई लताड़