पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण

प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण
केदारनाथ में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी - फाइल फोटो

आदि शंकराचार्य की समाधि के आठ साल बाद होंगे दर्शन। आदि गुरु शंकराचार्य की समाधि 2013 में आई केदारनाथ आपदा में क्षतिग्रस्त हो गई थी।

 

प्रधानमंत्रीका केदारनाथ दौरा होने जा रहा है। पांच नवंबर को पीएम मोदी श्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ धाम के संस्थापक आदि गुरु शंकराचार्य की समाधि को पुनः दर्शनों के लिए तीर्थ यात्रियों को समर्पित करेंगे। आदि गुरु शंकराचार्य की समाधि 2013 में आई केदारनाथ आपदा में क्षतिग्रस्त हो गई थी। आपदा के बाद केदारपुरी के पुनर्निर्माण का कार्य प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की निगरानी में ही शुरू हुआ, जोकि अभी भी चल रहा है। पीएम मोदी 5 नवंबर को पुनः केदारनाथ आएंगे और चार सौ करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण करेंगे। सभी योजनाओं की समीक्षा राज्य सरकार द्वारा कर ली गई है।

प्रधानमंत्री ने आदि गुरु समाधि स्थल की मरम्मत का काम भव्यता के साथ करवाया है। पीएमओ से हर तीन महीने में केदारपुरी के कार्यों की प्रगति के साथ-साथ आदि शंकराचार्य की समाधि के विषय में समीक्षा की जाती रही है। समाधि के साथ-साथ आदि गुरु शंकराचार्य की 12 फुट की कृष्णशिला पर तराशी गई प्रतिमा को भी प्रधानमंत्री स्थापित करेंगे। 

आदि शंकराचार्य ने बदरीनाथ धाम का पुनर्निर्माण करवाया था साथ ही उत्तराखंड के हिमालय क्षेत्रों में केदारनाथ, जागेश्वर, बूढ़ा केदार जैसे अनेक शिवालय धाम स्थापित कर सनातन धर्म को भारत वर्ष में पुनः स्थापित करने का महान कार्य किया था। आदि शंकराचार्य ने ही देश में मठ अखाड़े स्थापित कर सनातन धर्म की रक्षा के लिए एक प्रबन्धन स्थापित किया था। आदि गुरु ने केदारनाथ में अपनी देह त्यागी थी और यहीं उनकी समाधि बनाई गई थी। 2018 में आदि शंकराचार्य की समाधि का पुनर्निर्माण शुरू हुआ था जो कि अब पूरा हो चुका है।

प्रधानमंत्री के आगमन से एक दिन पूर्व दीवाली के दिन केदारनाथ धाम को बीस कुंतल फूलों से सजाया जा रहा है। पीएम मोदी केदारनाथ में पूजा और जलाभिषेक भी करेंगे। प्रधानमंत्री के दौरे के अगले दिन बाबा केदारनाथ धाम के कपाट बंद हो जाएंगे। संभवतः श्री नरेंद्र मोदी इस दिन उत्तराखंड में आई आपदा के विषय में केंद्रीय सहायता की भी घोषणा करेंगे।

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 27 2021 13:56:20

यही धर्म है यही वक्त का तकाजा है प्रैक्टिकल बनो भारत को बचाओ अपने धर्म को बचाओ धार्मिक स्थलों को सुरक्षित करो भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करो झगड़ा कितने बार एक बार होगा बार-बार थोड़ी होग और जो झगड़ा करेगा उसके लिए पुलिस और मिलिट्री लगाकर झगड़ा खत्म कर दे

user profile image
Anonymous
on Oct 27 2021 13:54:08

उत्तराखंड में सेकुलरिज्म को ना चलाएं उत्तराखंड को हिंदुत्व के लिए संरक्षित रखें सभी लोग ऐसा ही कर रहे हैं अपने अपने धर्मों के लिए सऊदी अरब वालों ने मक्का सुरक्षित कर लिया क्रिश्चियन वेटिकन सिटी सुरक्षित कर लिया हमको हमारे धार्मिक स्थल सुरक्षित करने ही होंगे

Also read:पंजाब कांग्रेस में गुटबाजी चरम पर, सिद्धू के बाद चन्‍नी सरकार पर मनीष तिवारी का हमला ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:J&K में ‘ऑपरेशन इंसाफ’ से एक कदम दूर सुरक्षा बल, आम लोगों की हत्या करने वाले सभी आतंक ..

इनामी स्मैक तस्कर रिफाकत गिरफ्तार, नेपाल तक था नेटवर्क
पीएम खाद कारखाने का करेंगे लोकार्पण, आयात में आएगी भारी कमी

बिहार के दरभंगा में पहला ज्योतिष ओपीडी शुरू

दरभंगा स्थित राजकीय महारानी रमेश्वरी भारतीय चिकित्सा विज्ञान संस्थान में देश के पहले ज्योतिष चिकित्सा ओपीडी का शुभारंभ 28 नवंबर को हुआ। इसके साथ ही यह संस्थान भारत का पहला ऐसा आयुर्वेदिक अस्पताल बन गया, जहां ज्योतिषशास्त्र द्वारा चिकित्सा शुरू की गई। माना जाता है कि आयुर्वेद के साथ ज्योतिषशास्त्र की सहायता ली जाए तो किसी रोग की चिकित्सा बहुत ही आसान हो जाती है। बता दें कि आयुर्वेद चिकित्सा कर्म काल के अधीन है और काल की सही गणना करने वाला एक मात्र शास्त्र ज्योतिषशास्त्र है। इसलिए यह माना जाता ...

बिहार के दरभंगा में पहला ज्योतिष ओपीडी शुरू