पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

कैप्‍टन के हमले के बाद बचाव की मुद्रा में कांग्रेस और पंजाब सरकार

राकेश सैन

राकेश सैनOct 23, 2021, 06:22 PM IST

कैप्‍टन के हमले के बाद बचाव की मुद्रा में कांग्रेस और पंजाब सरकार
कैप्‍टन अमरिंदर के मीडिया सलाहकार द्वारा ट्वीट इसी तस्‍वीर ने कांग्रेस में खलबली मचाई

पंजाब के पूर्व मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह द्वारा नई पार्टी बनाकर चुनाव लड़ने की घोषणा कांग्रेस को हजम नहीं हो रही है। इसलिए अरुसा आलम का मामला उठाकर कांग्रेस और प्रदेश सरकार ने कैप्‍टन को घेरने की कोशिश की, लेकिन अरुसा के साथ सोनिया गांधी की फोटो ट्वीट कर कैप्‍टन की टीम ने कांग्रेस की नींद उड़ा दी है। फसाद की जड़ माने जाने वाले उप-मुख्‍यमंत्री को दिल्‍ली दरबार में तलब किया गया है।

 

 पंजाब में नई पार्टी बनाकर विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा करने वाले कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ कांग्रेस खुलकर मैदान में आ गई है। पाकिस्‍तानी पत्रकार और कैप्‍टन की महिला मित्र अरुसा आलम के बहाने प्रदेश कांग्रेस ने उन्‍हें घेरने की कोशिश की है ताकि उनकी छवि को धूमिल की जा सके। पंजाब के उप-मुख्‍यमंत्री और गृह मंत्री सुखजिंदर रंधावा ने कहा कि आईएसआई के साथ अरुसा आलम के संबंधों की जांच की जाएगी। लेकिन पुराने फौजी ने जवाब में ऐसी मिसाइल दागी कि पंजाब सरकार तो क्या पूरी कांग्रेस झाग की तरह बैठती दिखाई देने लगी। दरअसलकैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने जवाब में सोनिया गांधी के सा‍थ अरुसा की फोटो ट्वीट कर दी। अब पूरे प्रकरण की जड़ माने जाने वाले सुखजिंदर सिंह रंधावा को दिल्‍ली दरबार में तलब किया गया है।

पंजाब के राजनीतिक परिदृश्‍य में कैप्टन अमरिंदर सिंह के कांग्रेस से अलग होने और अपनी पार्टी बनाकर भाजपा से गठजोड़ की बात कहने के बाद पंजाब के कांग्रेस नेता उनके खिलाफ हमलावर हो गए हैं। पूर्व मुख्‍यमंत्री ने जब पाकिस्‍तान के साथ नवजोत सिंह सिद्धू के संबंधों पर सवाल उठाया तो कांग्रेस नेताओं ने कैप्टन अमरिंदर की पाकिस्‍तानी मित्र अरुसा आलम का मुद्दा उठा दिया। इससे पंजाब की सियासत पर अरुसा आलम को लेकर बवाल मच गया है। पंजाब के उप-मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने तो आईएसआई के साथ अरुसा आलम के संबंधों की जांच के आदेश भी दे दिए। ट्वीट कर उन्‍होंने इसकी जानकारी दी। लेकिन बाद में उन्‍होंने इस ट्वीट को डिलीट कर दिया। इसके बाद वे कैप्टन अमरिंदर की टीम के निशाने पर आ गए। कैप्टन के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी व अरुसा आलम की फोटो ट्वीटर पर डाल दी, जिससे पूरी कांग्रेस में हड़कंप मच गया। इसके बाद कांग्रेस हाईकमान ने रंधावा को तलब कर लिया। इससे रंधावा अब खुद घिरते दिख रहे हैं। 

 

पहले भी अरुसा के कारण निशाने पर रहे

पाकिस्तानी पत्रकार और पूर्व मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिंदर की महिला मित्र अरुसा आलम को लेकर पंजाब की राजनीति में पहले भी चर्चाएं होती रही हैंलेकिन पिछले एक-दो दिन से यह मामला गरमाया हुआ है। सुखजिंदर सिंह रंधावा द्वारा पाकिस्तानी गुप्तचर एजेंसी आईएसआई के साथ अरुसा के संबंधों की जांच के आदेश के बाद कैप्टन अमरिंदर और उनकी उनकी टीम ने पलटवार करते हुए कांग्रेस की अगुवाई वाली तत्‍कालीन संप्रग सरकार को कठघरे में खड़ा कर दिया।

बता दें कि 2006 में अरुसा आलम जालंधर में पंजाब प्रेस क्लब के उद्घाटन समारोह में तत्कालीन मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह से मिली थीं। वह जालन्धर प्रेस क्लब के आमंत्रण पर आई थीं और कुछ दिनों बाद ही अरुसा के साथ मित्रता को लेकर शिरोमणि अकाली दल ने कैप्टन को कठघरे में खड़ा किया था। तीन साल तक उसी उद्घाटन समारोह की फोटो ही खबरों में छाई रही थीं। हालांकि अरुसा को लेकर शुरू से अपना पक्ष स्पष्ट किया था। 2017 में सत्ता में आने के बाद भी विपक्ष ने कैप्टन पर अरुसा को लेकर सियासी वार किए थेलेकिन वे अपने रुख पर कायम रहे।

 

किस पर अंगुली उठा रहे रंधावा?

हाल ही में मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद जब कैप्टन ने अपनी अलग पार्टी बनाने की बात कही तो एक बार फिर वे पंजाब की सियासत का केंद्र बिंदु बन गए हैं। बीते दिन रंधावा ने अरुसा आलम और आईएसआई के संबंधों की जांच को लेकर बयान दिया थालेकिन उसकी पुष्टि नहीं हो रही थी। शुक्रवार को उन्‍होंने ट्वीट करके पंजाब की राजनीति को गरमा दिया। उन्होंने ट्वीट करके कहा कि अरुसा के पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई से संबंधों की जांच के आदेश डीजीपी इकबाल प्रीत सिंह सहोता को दे दिए गए हैं। इसके बाद कैप्टन के मीडिया सलाहकार रहे रवीन ठुकराल ने ट्वीट करके रंधावा को ही कठघरे में खड़ा करके सवाल पूछा कि रंधावा किस पर अंगुली उठा रहे हैं। अरुसा 16 सालों से आ रही हैं और उस समय केंद्र में कांग्रेस गठबंधन की सरकार थी। उस समय भी अरुसा केंद्र की मंजूरी लेने के बाद आती थीं और उसके बाद भी आती रही हैं। रंधावा अपनी ही कांग्रेस सरकार के फैसले पर अंगुली उठा रहे हैं या फिर मौजूदा केंद्र सरकार पर पहले यह तो स्पष्ट करें। साथ हीउन्होंने अरुसा व सोनिया गांधी की फोटो भी पोस्ट की, जिसको लेकर कांग्रेस पार्टी व पंजाब सरकार पूरी तरह बचाव की मुद्रा में आ गई है।

Comments

Also read:पंजाब कांग्रेस में गुटबाजी चरम पर, सिद्धू के बाद चन्‍नी सरकार पर मनीष तिवारी का हमला ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:J&K में ‘ऑपरेशन इंसाफ’ से एक कदम दूर सुरक्षा बल, आम लोगों की हत्या करने वाले सभी आतंक ..

इनामी स्मैक तस्कर रिफाकत गिरफ्तार, नेपाल तक था नेटवर्क
पीएम खाद कारखाने का करेंगे लोकार्पण, आयात में आएगी भारी कमी

बिहार के दरभंगा में पहला ज्योतिष ओपीडी शुरू

दरभंगा स्थित राजकीय महारानी रमेश्वरी भारतीय चिकित्सा विज्ञान संस्थान में देश के पहले ज्योतिष चिकित्सा ओपीडी का शुभारंभ 28 नवंबर को हुआ। इसके साथ ही यह संस्थान भारत का पहला ऐसा आयुर्वेदिक अस्पताल बन गया, जहां ज्योतिषशास्त्र द्वारा चिकित्सा शुरू की गई। माना जाता है कि आयुर्वेद के साथ ज्योतिषशास्त्र की सहायता ली जाए तो किसी रोग की चिकित्सा बहुत ही आसान हो जाती है। बता दें कि आयुर्वेद चिकित्सा कर्म काल के अधीन है और काल की सही गणना करने वाला एक मात्र शास्त्र ज्योतिषशास्त्र है। इसलिए यह माना जाता ...

बिहार के दरभंगा में पहला ज्योतिष ओपीडी शुरू