पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

सेवा के लिए मन चाहिए, योजना नहीं

WebdeskOct 19, 2021, 03:48 PM IST

सेवा के लिए मन चाहिए, योजना नहीं

सामाजिक क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के दो प्रकार होते हैं। पहले प्रकार के लोग अपनी क्षमता के अनुसार काम करते हैं और दूसरे आवश्यकता के अनुसार काम करते हैं।


गतदिनों नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल के सदस्य श्री भैयाजी जोशी ने कहा कि सरकार व्यवस्थाओं का निर्माण करती है, लेकिन व्यवस्थाएं तभी सफल होती हैं जब पूरा समाज सेवाभाव से जुड़ जाए। सेवा कार्य समाज की सामूहिक जिम्मेदारी है। श्री जोशी लोक समस्या संशोधन एवं लोक कल्याण समिति के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सामाजिक क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के दो प्रकार होते हैं। पहले प्रकार के लोग अपनी क्षमता के अनुसार काम करते हैं और दूसरे आवश्यकता के अनुसार काम करते हैं।

आवश्यकताओं की प्रतिपूर्ति उनका उद्देश्य होता है। उन्होंने कहा कि भारत में सेवा की परंपरा रही है। भारतीय समाज हमेशा से एक-दूसरे की सहायता करता आया है। वर्तमान समय में भी बहुत से गुरुद्वारों, मठ, आश्रम और मंदिरों में नि:शुल्क भोजन की व्यवस्था होती है। इतना ही नहीं, हम गाय और कुत्ते को भी रोटी खिलाते हैं। देश में अंग्रेजों के आगमन के पहले सेवाकार्य संस्थागत नहीं हुआ करते थे।

भारत में भामाशाह जैसे दानवीरों की परंपरा रही है। यही कारण है कि देश में कई धर्मशालाएं, उद्यान और सुविधाओं का विकास हुआ। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों के शासन काल में सेवाओं को संस्था से जोड़ा गया। व्यक्ति के स्थान पर संस्थाएं सेवाकार्यों में संलिप्त रहने लगीं। इसी के तहत 1860 का धर्मदाय संस्था पंजीकरण कानून बना। सेवा के लिए योजना की जरूरत नहीं होती। सेवा के लिए व्यक्ति की दृष्टि और सेवा करने का मन होना चाहिए।

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 19 2021 22:44:26

बिल्कूल मानसिकता होनी चाहिए आज अगर मानसिकता बदलें सेवा करने कि मन बनाये कुछ नहीं सरकारी छोटे छोटे इतना योजनायें है करते करते थक जायेंगे। जो पहले ऐसा नहीं था कुछ करने के लिए मुंह देखना पड़ता था। आज समाज को देने के लिए बहुत कुछ है बास मन बनााइये

Also read:तिहाड़ जेल में भूख हड़ताल पर बैठा क्रिश्चिन मिशेल, अगस्ता वेस्टलैंड मामले का है आरोपी ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:हनुमान धाम के दर्शन करने पहुंचे अभिनेता रजा मुराद, कहा- भगवान राम मेरे आदर्श ..

दुनियाभर के लोगों को आकर्षित करता रहा है वृंदावन : प्रधानमंत्री
देश में 24 घंटे में आए 8 हजार से अधिक कोरोना केस, वैक्सीनेशन का आंकड़ा 121 करोड़ के पार

अंग प्रत्यारोपण में भारत अब अमेरिका, चीन के बाद तीसरे स्थान पर: मनसुख मांडविया

भारत में 2012-13 के मुकाबले अंग प्रत्‍यारोपण में करीब चार गुणा की वृद्धि हुई है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण अंग दान और प्रत्‍यारोपण में कमी आई।    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को कहा कि अंग प्रत्‍यारोपण में भारत अब अमेरिका और चीन के बाद दुनिया में तीसरे स्‍थान पर आ गया है। 12वें भारतीय अंगदान दिवस पर मंडाविया ने शनिवार को कहा कि भारत में अंगदान की दर 2012-13 की तुलना में लगभग चार गुना बढ़ी है। ...

अंग प्रत्यारोपण में भारत अब अमेरिका, चीन के बाद तीसरे स्थान पर: मनसुख मांडविया