पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

जामताड़ा में सरकारी उच्च विद्यालय में शरिया कानून!!

रितेश कश्यप

रितेश कश्यपOct 14, 2021, 04:16 PM IST

जामताड़ा में सरकारी उच्च विद्यालय में शरिया कानून!!
विद्यालय को बंद कराने के लिए जुटी कट्टरवादियों की भीड़ (फाइल चित्र)

झारखंड के जामताड़ा में कुछ कट्टरवादी एक सरकारी उच्च विद्यालय को हर शुक्रवार को जबरन बंद करवा देते हैं। इनका कहना है कि इस दिन छात्रों को नमाज पढ़ने के लिए छुट्टी मिलनी चाहिए। माना जा रहा है कि इसके पीेछे स्थानीय विधायक इरफान अंसारी हैं। ये इस क्षेत्र में शरिया कानून लागू करवाना चाहते हैं।


गत दिनों झारखंड सरकार ने रांची स्थित विधानसभा में एक कक्ष नमाज के लिए आवंटित कर दिया था। इसका दुष्प्रभाव अब दिखने लगा है। राज्य के कई मुस्लिम—बहुल स्थानों पर मुसलमान हर शुक्रवार को सरकारी विद्यालयों में ताला लगाने लगे हैं। इनका कहना है कि शुक्रवार को नमाज का दिन होता है, इसलिए इस दिन छुट्टी होनी चाहिए, लेकिन नियमानुसार यह संभव नहीं है। इस कारण ये लोग अपने क्षेत्र में जबरन सरकारी विद्यालयों को बंद करवा देते हैं।

ताजा मामला जामताड़ा का है। गत 1 अक्तूबर यानी शुक्रवार को जामताड़ा जिले के कर्माटांड़ प्रखंड अंतर्गत बिराजपुर उच्च विद्यालय में नमाज पढ़ने के लिए कट्टरवादियों ने स्कूल में ताला लगा दिया। इसके पीछे तर्क दिया गया कि स्कूल में मुसलमानों की संख्या सबसे अधिक है इसीलिए शुक्रवार को नमाज पढ़ने के लिए स्कूल में छुट्टी दे दी जाए और रविवार के दिन स्कूल खोल दिया जाए।

उल्लेखनीय है कि जामताड़ा जिले में सात—आठ उर्दू प्राथमिक और मध्य विद्यालय हैं, जो शुक्रवार को बंद रहते हैं। यहां रविवार को पढ़ाई होती है, जबकि उच्च विद्यालय के लिए ऐसा कोई प्रावधान नहीं है। लेकिन अब हर शुक्रवार को कट्टरवादी बिराजपुर उच्च विद्यालय को बंद कर देते हैं। सूत्रों का कहना है कि इसके पीेछे जामताड़ा के विधायक इरफान अंसारी की बड़ी भूमिका है। उनकी शह पर ही कट्टरवादी तत्व स्कूल में ताला लगा देते हैं। अब तो यह भी कहा जा रहा है कि विद्यालय प्रबंधन ने भी विद्यालय को मौखिक रूप से हर शुक्रवार को बंद करने का आदेश दे दिया है। नियमानुसार लिखित में ऐसा कोई आदेश दिया नहीं जा सकता है, इसलिए सब कुछ मौखिक में किया गया। कहा जा रहा है कि विधायक ने मौखिक रूप से विद्यालय प्रबंधन पर दबाव डालकर ऐसा करवाया है। विद्यालय के प्रधानाचार्य और अधिकतर शिक्षक हिंदू हैं। पता चला है कि ये लोग विधायक की दबंगई से परेशान हैं। इसलिए विद्यालय के अधिकतर शिक्षक और किसी विद्यालय में जाना चाहते हैं।  

विश्व हिंदू परिषद के जिला अध्यक्ष अनूप राय कहते हैं, ''जामताड़ा में मजहब की आड़ में गंदी राजनीति की जा रही है। कुछ लोग यहां के शिक्षण संस्थानों को शरिया कानून के हिसाब से चलाना चाहते हैं। यह बहुत ही गंभीर मामला है। इसलिए विहिप ने उपायुक्त को ज्ञापन सौंपा है। यदि उपायुक्त की ओर से कोई कार्रवाई नहीं होती है, तो विहिप इस मामले को न्यायालय की देहरी तक ले जाएगी।'' वहीं झारखंड भाजपा के प्रवक्ता अवीनेश कुमार कहते हैं, ''विधायक इरफान अंसारी जब—तब बेमतलब और भड़काने वाली बातें करते रहते हैं। इससे कट्टरवादियों का दुस्साहस बढ़ता है। यदि जामताड़ा की घटना से सबक नहीं लिया गया तो इस तरह की मांग पूरे झारखंड में उठेगी। इसलिए सरकार इस मामले पर तुरंत कार्रवाई करे।''

लेकिन इन दिनों झारखंड सरकार का जो रवैया है, उसे देखते हुए कहा जा सकता है कि सरकार ही इस मामले को बढ़ाना चाहती है। इसलिए यह तय है कि राज्य के अनेक हिस्सों में ऐसी मांगें उठने वाली हैं। झारखंड सरकार के लिए नियम कोई मायने नहीं रखता है, उसे केवल शरिया वालों के वोट से मतलब है। 

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 16 2021 13:36:14

यह बकवास तुरन्त बन्द कराए केंद्र सरकार।

user profile image
Anonymous
on Oct 15 2021 12:27:31

तब तो हर मंगलवार स्कूल में हनुमान चालीसा से पढ़ाई शुरू होनी चाहिए।

Also read: उत्तराखंड आपदा ने दस ट्रैकर्स की ली जान, 25 लोग अब भी लापता ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: तालिबान प्रवक्ता ने कहा, भारत करेगा अफगानिस्तान में मानवीय सहायता के काम ..

मजहबी दंगे भड़काने में कट्टर जमाते-इस्लामी का हाथ, उन्मादी नेता ने उगला सच
रावण क्यों जलाया, अब तुम लोगों की खैर नहीं

उत्तराखंड में बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुस्लिम कॉलोनी के विज्ञापन पर शुरू हुई जांच

बरेली, रामपुर, मुरादाबाद में प्रचार करके बेचे जा रहे हैं प्लॉट। पूर्व सांसद बलराज पासी ने कहा विरोध होगा उत्तराखंड के उधमसिंह नगर जिले में उत्तर प्रदेश के बरेली रामपुर जिलो के बॉर्डर पर सुनियोजित ढंग से एक साजिश के तहत मुस्लिम आबादी को बसाया जा रहा है। मुस्लिम कॉलोनी का प्रचार करके प्लॉट बेचे जा रहे हैं। मामले सामने आने पर जिला विकास प्राधिकरण ने जांच शुरू कर दी है। पिछले कुछ समय से उत्तराखंड राज्य में मुस्लिम आबादी तेजी से बढ़ने के आंकड़े आ रहे हैं। असम के बाद उत्तराखंड ऐसा राज्य है, जहां ...

उत्तराखंड में बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुस्लिम कॉलोनी के विज्ञापन पर शुरू हुई जांच