पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

सम्पादकीय

संकल्प की गूंज

WebdeskSep 12, 2021, 09:26 PM IST

संकल्प की गूंज

हितेश शंकर


भारत में अभी कोविड रोधी कितने टीके लगाए जा चुके हैं, इसका आंकड़ा आया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की 9 सितंबर की प्रेस वार्ता में बताया गया कि देश में अब तक लगाए गए कोविड-19-रोधी टीकों की कुल संख्या 72 करोड़ को पार कर गई है। जरा कल्पना कीजिए,उत्तर प्रदेश, जो आकार में दुनिया के चौथे देश जितना बैठता है, में ही 8 करोड़ से ज्यादा टीके लगाए जा चुके हैं।


स्वास्थ्यमंत्रालय बता चुका है कि भारत को 10 करोड़ टीकों के आंकड़े तक पहुंचने में 85 दिन, 20 करोड़ का आंकड़ा पार करने में 45 दिन और 30 करोड़ तक पहुंचने में 29 दिन लगे। टीकाकरण में देश को 30 करोड़ से 40 करोड़ तक पहुंचने में 24 दिन लगे और फिर 6 अगस्त को 50 करोड़  को पार करने में 20 दिन और लगे। देश को 60 करोड़ के आंकड़े को पार करने में 19 दिन लगे और 8 सितंबर को 70 करोड़ तक पहुंचने में केवल 13 दिन लगे।


दिसंबर, 2020 में जब हम सभी भारतीयों के टीकाकरण का संकल्प ले रहे थे, उस समय दुनिया के कई देश (और तो और अपने देश में भी कई गुट ) इस संकल्प पर संदेह जता रहे थे, खिल्ली उड़ा रहे थे। बीबीसी को ही लीजिए जो भारत में सभी के मास्क पहनने का नियम बनाने पर यह कार्टून बना रहा था कि भारत भूखे-नंगों का देश है। इन्हें आबादी के हिसाब से मास्क पहनाने में लोगों के कपड़े उतर जाएंगे। यह बात और थी कि कार्टून बनाने वाले बीबीसी का मातृदेश इंग्लैंड ही चंद दिनों बाद हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के लिए भारत के सामने हाथ पसारे खड़ा था।

कोविड से लड़ाई की इस यात्रा में अपने संकल्प पथ पर बढ़ने के लिए जो-जो उपाय मिलते गए, उन्हें अपनाते हुए और जो-जो प्रभावी नहीं थे, उन्हें प्रोटोकॉल में से हटाते हुए भारत ने वह रास्ता तय किया है जो दुनिया में किसी की भी कल्पना से परे था। इस रास्ते में हमारे सामने बाधाएं बहुत आईं-बाढ़, सूखा जैसी प्राकृतिक अड़चनें थीं। पलायन था, महानगरों और परदेश में रह रहे लोग अपने घरों को लौटने के लिए हर जोखिम मोल ले रहे थे, वाहनों के अभाव में पैदल लंबी दूरियां नाप रहे थे, कुछ रास्ते की दुर्घटनाओं में मर रहे थे। राज्यों की राजनीति थी, लॉकडाउन लगाने के अधिकार पर राज्य विवाद कर रहे थे, कोविड से निपटने की व्यवस्थाओं पर आरोप-प्रत्यारोप थे।

अराजकतावादी उपद्रव था, भारत को संकल्प पथ से डिगाने के लिए अफवाहों का बाजार गर्म था। कोई सिरे से कोरोना के अस्तित्व को ही नकार रहा था और इसे सीएए विरोधी आंदोलन खत्म करने की सरकार की चाल बता रहा था तो कोई मृतकों की संख्या या अस्पतालों के अंदरखाने की मनगढंत कहानियां सुना कर भय और अविश्वास का वातावरण बना रहा था। संसाधनों का भी अभाव था। अचानक आई इस महामारी से निपटने के लिए जांच की मशीनों से लेकर दवाओं, आॅक्सीजन, डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ तक की कमी थी। परंतु इसके बाद भी हमने यह काम करके दिखाया और ऐसा करके दिखाया कि जो दिसंबर में हमारे संकल्प का मजाक उड़ा रहे थे, वे आज सितंबर आते-आते हमारी तरफ हैरानी से देख रहे हैं कि हमने यह कर कैसे लिया।

यहां एक बात और याद करनी चाहिए कि पहली लहर में जब अमेरिका कोविड को लेकर जूझ रहा था, तब संक्रमण बढ़ने के लिए पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बहुत किरकिरी की गई। आज उस अमेरिका में ट्रंप के काल से ज्यादा मामले आ रहे हैं। ट्रंप के समय जो लोग अमेरिका में कोविड संक्रमण बढ़ने की बात पर चीख-चिल्लाहट मचाए हुए थे, वे आज खामोश हैं। यानी भारत जब महामारी से पूरी प्रतिबद्धता के साथ जूझ रहा था, तब विकसित देशों में वाम खेमा विशुद्ध राजनीति कर मानवता की हत्या कर रहा था।

पूरी दुनिया देख रही है कि भारत जो ठान ले, वह भारत कर सकता है। निश्चित ही इसका श्रेय नेतृत्व को है और नेतृत्व के साथ खड़े पूरे समाज को है। इस समाज ने राजनीतिक विभाजक रेखाओं को बुहारना शुरू कर दिया है। जब हम इस सदी की सबसे बड़ी लड़ाई लड़ रहे थे, तब कुछ लोग सामाजिक रूप से दरारें पैदा करना और इन्हें गहरा करना चाहते थे। परंतु समाज ने उन्हें धता बताते हुए इस राष्ट्रीय संकल्प को पूरा करने के लिए इन विभाजक तत्वों को ही चटका दिया। भारत में 72 करोड़ से अधिक वैक्सीन लगाया जाना मात्र एक आंकड़ा नहीं है, बल्कि यह हमारे संकल्प की प्रतिध्वनि है, जिसका दायरा बढ़ता जा रहा है।

@hiteshshankar

 

Follow us on:
 

Comments
user profile image
मा0 रामप्रकाष गुप्ता
on Sep 20 2021 17:17:39

अद्भुतम्, अद्वितीयम्, अविस्मरणीयम्, ।

user profile image
Anonymous
on Sep 15 2021 12:28:57

इन सबके लिए मोटा चूहा जिम्मेदार है उसको पकड़ कर जेल में डालो

user profile image
Anonymous
on Sep 13 2021 06:06:53

Bharatmata ki Jai

Also read:डूबती नाव को भरमाता कप्तान ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:अमृत की विष से तुलना, राजनीति की जहरीली मंशा ..

पंजाब की नयी पटकथा
हृदयंगम करें ‘श्री’ का तत्वदर्शन

उम्मीदों के दीये

महिलाओं के लिए अर्धनारीश्वर जैसा भाव अन्य किसी संस्कृति में नहीं मिलता। अर्थात् स्त्री या पुरुष, नर या मादा, इसमें कोई हेय नहीं है, कोई एक श्रेष्ठ नहीं है। दोनों मिलते हैं, समवेत चलते हैं, तभी श्रेष्ठता पैदा होती है। ऐसा भाव देने वाली संस्कृति और कहां थी। जब राजनेता ऐसे विचार उठाते हैं तब पता चलता है कि उन्होंने राजनीति भले पढ़ी हो, संस्कृति नहीं पढ़ी। दीपावली, बस आ ही गई। अयोध्या जगमग है और इसके साथ ही देश और दुनिया भर में भारतवंशियों की देहरियों पर उजास और उल्लास छाया है। परंतु, केवल दिन ...

उम्मीदों के दीये