पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

मकर संक्रांति के दिन 75 लाख से ज्यादा लोगों ने किया सूर्य नमस्कार

Webdesk

WebdeskJan 14, 2022, 02:00 PM IST

मकर संक्रांति के दिन 75 लाख से ज्यादा लोगों ने किया सूर्य नमस्कार
सूर्य नमस्कार करते हिमवीर (फोटो सौजन्य आईटीबीपी)

सुबह सात बजे शुरू हुए इस कार्यक्रम का उद्घाटन केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने सूर्य नमस्कार करके किया

 

केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने शुक्रवार को मकर संक्रांति के मौके पर 75 लाख लोगों के लिए वैश्विक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम का आयोजन किया। सुबह सात बजे शुरू हुए इस कार्यक्रम का उद्घाटन केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने सूर्य नमस्कार करके किया। दुनिया भर में एक साथ आयोजित हुए इस कार्यक्रम में 75 लाख लोगों ने भाग लिया।

इस मौके पर सर्वानंद सोनोवाल ने कहा कि मकर संक्रांति के अवसर पर सूर्य नमस्कार के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह योग आसन महामारी में स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। सूर्य नमस्कार सूर्य की प्रत्येक किरण के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने के लिए सूर्य को प्रणाम के रूप में किया जाता है, क्योंकि वह सभी जीवों का पोषण करता है। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक दृष्टि से, सूर्य नमस्कार को प्रतिरक्षा विकसित करने और जीवन शक्ति में सुधार करने के लिए जाना जाता है, जो महामारी की आज की इस स्थिति में लोगों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। सूर्य के संपर्क में आने से मानव शरीर को विटामिन डी मिलता है, जिसे दुनिया भर की सभी चिकित्सा शाखाओं में व्यापक रूप से मान्यता मिली है।

(सौजन्य सिंडिकेट फीड)
 

Comments

Also read:‘‘अयोध्या को उसकी पहचान दिलाने के लिए कृतसंकल्पित हूं’’ -योगी आदित्यनाथ ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:‘आजादी के बाद शासकों ने बड़ी भूलें की हैं’- जगद्गुुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्व ..

‘‘भेद-रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’- मोहनराव भागवत
सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाला प्रमुख पत्र

भारत में जनतंत्र

पाञ्चजन्य ने हमेशा पत्रिका को लोकतंत्र का मंच बनाए रखने का यत्न किया। इसमें सभी विचारों को स्थान मिलता रहा। इस क्रम में कांग्रेसी, राष्ट्रवादी, समाजवादी, वामपंथी सभी विचारकों के आलेखों को पाञ्चजन्य ने प्रकाशित किया। श्री मानवेन्द्रनाथ राय (1887-1954) भारत के स्वतंत्रता-संग्राम के क्रान्तिकारी तथा विश्वप्रसिद्ध राजनीतिक सिद्धान्तकार थे। उनका मूल नाम ‘नरेन्द्रनाथ भट्टाचार्य’ था। वे मेक्सिको और भारत दोनों की कम्युनिस्ट पार्टियों के संस्थापक थे। वे कम्युनिस्ट इंटरनेशनल के कांग्रेस के प्र ...

भारत में जनतंत्र