पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

सरकार को बिना बताए मदरसे के संचालक ले रहे हैं विदेशी अनुदान

WebdeskSep 06, 2021, 02:00 PM IST

सरकार को बिना बताए मदरसे के संचालक ले रहे हैं विदेशी अनुदान
तंजीमुल इस्लाम मदरसा

 बिहार में पूर्णिया जिले के कुछ मदरसों के संचालक विदेश से आर्थिक मदद ले रहे हैं, पर इसकी जानकारी सरकार को नहीं दे रहे हैं। यह बहुत ही गंभीर मामला है। इसकी जांच ठीक से कराने की जरूरत है।



कुछ लोग सरकारी नियमों की अनदेखी कर मदरसे के नाम पर विदेश से पैसा ले रहे हैं। इससे जुड़ा एक मामला हाल ही में सामने आया है। यह मामला पूर्णिया जिले में रानीपतरा के पास फसिया गांव का है। बता दें कि यहां 'तंजीमुल इस्लाम' नाम से एक मदरसा' चलता है। इस मदरसे के संचालकों ने सरकार को बताए बिना विदेश से 6,30,000 रु. की मदद ली है। यह गैर—कानूनी है और इसलिए शिक्षा विभाग ने इसकी जांच शुरू कर दी है।

    मदरसे का यह फर्जीवाड़ा गांव में मदरसों के नाम पर लूट मचाने वालों के बीच आपसी विवाद के बाद सामने आया है। बता दें कि कुछ दिन पहले गांव के कुछ लोगों ने मोहम्मद रफीक नामक एक व्यक्ति पर आरोप लगाया था कि वह 'फैजुल उलूम' तथा 'मदरसा फातिमा' के नाम से दो मदरसों का संचालन करता है। इन दोनों मदरसों का न तो कोई भवन है और न ही कोई बच्चा पढ़ता है। यानी ये दोनों मदरसे कागजी हैं। ग्रामीणों ने ही यह भी आरोप लगाया था कि रफीक कागजी मदरसों के नाम पर सरकारी पैसा ऐंठता है।   

    इसके बाद तंजीमुल इस्लाम मदरसा के सचिव हाजी मंसूर आलम, मो. खलील और मो. नुरुल हक ने पूर्णिया के जिला पदाधिकारी राहुल कुमार को एक आवेदन देकर अपने मदरसे को सही और रफीक के मदरसे को फर्जी बताया था। इसके साथ ही यह भी आग्रह किया था कि इस मामले की जांच कराई जाए।

    इसके बाद पूर्णिया के जिला पदाधिकारी ने दोनों मदरसे की जांच के लिए जिला शिक्षा पदाधिकारी को आदेश दिया। इसी जांच के दौरान पता चला कि तंजीमुल इस्लाम मदरसा ने विदेश से पैसा लिया है।

    दरअसल, मदरसे के नाम पर कुछ लोग सरकारी खजाने को जम कर चूना लगा रहे हैं। इससे पहले भी बिहार के अनेक जिलों में इस तरह के मामले आ चुके हैं। कुछ प्रभावशाली लोग मिलकर कोई मदरसा कमेटी बना लेते हैं उसी के आधार पर सरकार से मदद लेेने लगते हैं। इसमें सरकारी अधिकारियों की भी मिलीभगत रहती है। सरकारी अधिकारी यह भी नहीं देखते हैं कि जिस मदरसे के नाम पर अनुदान लिया जाता है, वह जमीन पर है भी या नहीं। इसी का फायदा रफीक जैसे लोग उठा रहे हैं।

Follow Us on Telegram
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Sep 08 2021 21:24:35

बंद करो ये सब

user profile image
Anonymous
on Sep 07 2021 17:05:09

इन पर गम्भीर धाराओ मे मुकदमा कायम किया जाये

user profile image
Anonymous
on Sep 07 2021 15:59:13

government should notice each and every Madrasa

user profile image
Anonymous
on Sep 06 2021 21:47:10

विधिवत जाच होना ही चाहिए ।

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्र ..

कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया
सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प

  विजयादशमी के महानायक श्रीराम भारतीय जनमानस की आस्था और जीवन मूल्यों के अन्यतम प्रतीक हैं। भारतीय मनीषा उन्हें संस्कृति पुरुष के रूप में पूजती है। उनका आदर्श चरित्र युगों-युगों से भारतीय जनमानस को सत्पथ पर चलने की प्रेरणा देता आ रहा है। शौर्य के इस महापर्व में विजय के साथ संयोजित दशम संख्या में सांकेतिक रहस्य संजोये हुए हैं। हिंदू तत्वदर्शन के मनीषियों की मान्यता है कि जो व्यक्ति अपनी आत्मशक्ति के प्रभाव से अपनी दसों इंद्रियों पर अपना नियंत्रण रखने में सक्षम होता है, विजयश्री उसका वरण अवश ...

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प