पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

मत अभिमत

घटना छोटी है, पर गहरी है

Webdesk

WebdeskJan 15, 2022, 02:32 PM IST

घटना छोटी है, पर गहरी है
धरने पर बैठे लोग

झुंझुनू में हिन्दू समाज की जाट और राजपूत जाति मुख्य हैं, दूसरा समुदाय मुस्लिम है। झुंझुनू के जिलाधिकारी मुस्लिम समुदाय से हैं, इसलिए जोश में आकर मंदिर की धरती पर से रास्ता निकालने के लिए मंदिर की तारबंदी तोड़ दी। मंदिर के महंत महाराज ने तुरंत प्रतिकार किया और स्थानीय हिन्दू वहां एकत्रित होकर विरोध करने लगे।


विश्वजीत सिंह अनंत की फेसबुक वाल से

जयपुर से 160 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में एक जिला है-झुंझुनू। वहां से 25 किलोमीटर दूर एक गांव है गांगियासर। गांव में एक विख्यात राय माता का मंदिर है, जो आसपास के लाखों श्रद्धालुओं की श्रद्धा का केंद्र है। झुंझुनू में हिन्दू समाज की जाट और राजपूत जाति मुख्य हैं, दूसरा समुदाय मुस्लिम है। झुंझुनू के जिलाधिकारी मुस्लिम समुदाय से हैं, इसलिए जोश में आकर मंदिर की धरती पर से रास्ता निकालने के लिए मंदिर की तारबंदी तोड़ दी। मंदिर के महंत महाराज ने तुरंत प्रतिकार किया और स्थानीय हिन्दू वहां एकत्रित होकर विरोध करने लगे।


कांग्रेस की विधायक रीटा चौधरी, जो कि जाट समुदाय से हैं, ने हिन्दुओं व साधुओं को कहा कि यदि शांति चाहते हैं तो रास्ता दे दीजिए। फिर क्या था, जाट समुदाय रीटा पर बिफर पड़ा और कह दिया कि देखते हैं, हमारे वोटों के बिना कैसे जीतेंगी अगली बार? विधायक ने रास्ता दिलवाने के लिए आसपास के थानों से सैकड़ों पुलिस वाले बुला लिए, तो महंत महाराज ने भी आसपास के सारे मठाधीशों व सन्त समाज को बुला लिया। साथ ही, सारे हिन्दू भी एकत्रित हो गए।


आखिरकार पुलिस मंदिर की धरती पर पुन: तारबंदी करके थानों को लौट गई। यह जीत हिन्दू एकता की थी। भले ही राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है, लेकिन कांग्रेसी विधायक को साम्प्रदायिक सद्भाव का सच्चा अर्थ जाटों, राजपूतों, ब्राह्मणों व अन्य हिन्दुओं ने मिलकर समझा दिया। इस घटना के बारे में आपको जानना क्यों जरूरी है? यह जानने के लिए कि अगर हम अपनी पर उतर आए तो तुष्टीकरण की नाक में उंगली कर सकते हैं। हिन्दू धर्म के धर्माचार्यों ने बहुत लंबे समय तक अपने को सिर्फ मंदिरों व मठों तक सीमित रखा, लेकिन आज वे खुलकर समाज के नेतृत्व के लिए आगे आ रहे हैं। एक मुंगेर, एक पालघर से हम रुकने वाले नहीं हैं। यह घटना एक सुखद परिवर्तन है।    
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Jan 16 2022 20:56:53

जबाब देना जरूरी है

Also read:कुछ बात है कि हस्ती बढ़ती रही हमारी ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:क्या मुजाहिदीन और तालिबान एक हैं? ..

वाइ-फाइ से एक कदम आगे है लाइ-फाइ!
विकास के लिए मदरसों की छुट्टी जरूरी

‘सामाजिक न्याय योद्धा लोकशाहीर अण्णा भाऊ साठे’ पुस्तक का विमोचन

अण्णा भाऊ साठे के विचारों का एक प्रतिशत भी आज के नेताओं के आचरण में शामिल हो जाए तो देश 100 प्रतिशत अधिक तेजी से आगे बढ़ेगा। वीर सावरकर और अण्णा भाऊ साठे के व्यक्तित्व में मुझे कोई अंतर नहीं दिखता। दोनों ही महापुरुषों ने अपनी सारी प्रतिभा समाज हित में लगाई।   गत 9 दिसंबर को मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम में ‘सामाजिक न्याय योद्धा लोकशाहीर अण्णा भाऊ साठे’ शीर्षक पुस्तक का विमोचन हुआ। विमोचनकर्ता थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहनराव भागवत। उन्होंने कहा कि जिस त ...

‘सामाजिक न्याय योद्धा लोकशाहीर अण्णा भाऊ साठे’ पुस्तक का विमोचन