पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

त्रिशूल पर्वत हादसा: 4 जवानों के शव मिले, दो पर्वतारोहियों की तलाश जारी

WebdeskOct 04, 2021, 03:20 PM IST

त्रिशूल पर्वत हादसा: 4 जवानों के शव मिले, दो पर्वतारोहियों की तलाश जारी

 उत्तराखंड ब्यूरो


उत्तरकाशी से आगे त्रिशूल चोटी को फतेह करने निकले नौसेना दल पर हिमस्खलन होने के हादसे में 4 जवानों के शवों को खोज लिया गया है,जबकि एक जवान और एक पोर्टेर अभी भी लापता है।


 

उत्तरकाशी से आगे त्रिशूल चोटी को फतेह करने निकले नौसेना दल पर हिमस्खलन होने के हादसे में 4 जवानों के शवों को खोज लिया गया है,जबकि एक जवान और एक पोर्टेर अभी भी लापता है। बता दें कि त्रिशूल चोटी के पास हुए हिमस्खलन की घटना के बाद 6 जवान लापता थे। ये सभी नौसेना के जवान हैं, जो 23 दिन पहले त्रिशूल फतह करने निकले थे।

    जानकारी के अनुसार त्रिशूल पर्वत की 7120 मीटर ऊंची चोटी को फतह करने नौसेना के 15 सदस्यों का दल गया था। हिमस्खलन होने से दस जवान लापता बताए गए। बाद में 4 जवानों को बचा लिया गया। शेष 6 सदस्यों की लापता की खबर मिलने के बाद नेहरू पर्वतारोहण संस्थान के प्राचार्य अमित बिष्ट रेस्क्यू टीम के साथ त्रिशूल बेस कैम्प की तरफ रवाना हो गये थे, जिनके द्वारा 4 शवों को खोज निकाला गया। 2 जवान अभी भी लापता हैं, जिनमे एक पोर्टेर भी शमिल है।

    इन जवानों की खोज में हैलीकॉप्टर की भी मदद ली जा रही है। सेना और आईटीबीपी के दल भी खोज कार्य में जुटे हैं। सभी के पार्थिव शरीर को नौसेना मुख्यालय ले जाया गया है।

Comments

Also read: ऑस्कर में नहीं जाएगी फिल्म 'सरदार उधम सिंह', अंग्रेजों के प्रति घृणा दिखाने की बात आ ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: सूचना लीक मामला: सीबीआई ने नौसेना के अधिकारियों को किया गिरफ्तार, उच्च स्तरीय जांच के ..

भारत का रक्षा निर्यात पांच वर्षों में 334 फीसदी बढ़ा, 75 से अधिक देशों को सैन्य उपकरणों का कर रहा निर्यात
गुरुजी के प्रयासों से ही आज जम्मू-कश्मीर है भारत का अभिन्न अंग

फिर भारत से उलझने को बेताब है चीन, नए ‘लैंड बॉर्डर लॉ’ की आड़ में कब्जाई जमीन पर अधिकार जमाने की तैयारी!

 नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की स्थायी समिति ने बीजिंग में संसद की समापन बैठक के दौरान इस कानून को पारित किया। ताजा जानकारी के अनुसार, अगले साल 1 जनवरी को यह कानून लागू कर दिया जाएगा भारत तथा चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर चीन की शैतानी मंशा में एक और पहलू तब जुड़ गया जब उसने अपनी संसद के परसों खत्म हुए सत्र में सीमावर्ती इलाकों के संबंध में अपनी 'संप्रभुता तथा क्षेत्रीय अखंडता को उल्लंघन से परे' बताते हुए नया लैंड बार्डर लॉ पारित कराया। उल्लेखनीय है कि भारत-चीन के बीच 3,488 कि ...

फिर भारत से उलझने को बेताब है चीन, नए ‘लैंड बॉर्डर लॉ’ की आड़ में कब्जाई जमीन पर अधिकार जमाने की तैयारी!