पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

दुनिया का सबसे खतरनाक काम एक्टिविज्म

WebdeskOct 27, 2021, 11:35 AM IST

दुनिया का सबसे खतरनाक काम एक्टिविज्म

उत्तर प्रदेश के तमाम किसान जा रहे हैं। मेरा गांव शुद्ध रूप से किसानों का गांव है। यहां धान-गेहूं नहीं, बल्कि केला और शिमला मिर्च, ब्रॉकली जैसी सब्जियों का उत्पादन खुले आसमान के नीचे होता है।


सत्यव्रत त्रिपाठी की फेसबुक वॉल से

प्रगतिशील
होना जितना जरूरी है, उससे ज्यादा प्रगतिशील दिखना जरूरी है। उदाहरण के लिए किसान आंदोलन पर लोग पोस्ट कर रहे हैं, ये लोग खेत के मेड़ पर गए नहीं हैं। उन्हें बिगहा-बिस्वा में अंतर नहीं मालूम।

अरे जनाब! इस दुनिया का सबसे खतरनाक काम एक्टिविज्म है। काम धंधा छोड़कर आओ उन ‘किसानों’ के साथ खड़े हो।

पंजाब के किसान
इनके खेतों में काम पूरब के तमाम प्रवासी मजदूर करते हैं, जिन्हें साल भर पहले भगा दिया गया। लोग पैदल ही चलते चले आए। अरे ऐसा मालिक होने से क्या फायदा कि आप अपने कर्मचारियों को 15 दिन खाना नहीं खिला सकते।

जब फैक्ट्रियां लगती थीं तो उसी के आसपास कामगारों के घर बनाए जाते थे। जैसे- झारखंड में टाटा नगर , गाजियाबाद में मोहन नगर। मुम्बई, कानपुर में ऐसे तमाम उदाहरण हैं। फिर यहां घुसे ट्रेड यूनियन, जिसका नतीजा यह हुआ कि मिल मालिक अपना कारोबार दूसरी जगहों पर मोड़
ले गए। जैसे टाटा का प्लांट पश्चिम बंगाल से गुजरात गया।

सुनने में आया कि उत्तर प्रदेश के तमाम किसान जा रहे हैं। मेरा गांव शुद्ध रूप से किसानों का गांव है। यहां धान-गेहूं नहीं, बल्कि केला और शिमला मिर्च, ब्रॉकली जैसी सब्जियों का उत्पादन खुले आसमान के नीचे होता है। मैंने जिज्ञासावश पता किया उनमें से एक भी किसान नहीं गया। सब अपने खेतों में हैं।
सवाल आया कि यह कौन लोग हैं? पंजाब-हरियाणा में किसान से ज्यादा मंडियों के दलाल हैं। सबने मिलकर जुगत लगाई और किसान आंदोलन शुरू करवा दिया। हम अगर खालिस्तान के नारों को नजरअंदाज करें तो भी यह शोचनीय विषय है कि प्रदर्शनकारियों की सेवा में जो लंगर चल रहा है, उसका प्रायोजक कौन है?

आखिर में मैं अपने उन सभी दोस्तों की सोच को हार्दिक संवेदना भेजता हूं और यह बताता हूं कि यह मोदी सरकार है। यहां जो हो गया, वह हो गया। उसे बदला नहीं जाएगा। नोटबन्दी भूल गए या फिर हालिया सीएए?
ठीक है कॉमरेड! नाटक कर लो, हम कुछ न कहेंगे। लाले लाले लाल सलाम।
वन्दे मातरम्!
भारत माता की जय।

Comments

Also read:संत समाज ने सीएम धामी को किया सम्मानित, देवस्थानम बोर्ड भंग करने को बताया ऐतिहासिक फै ..

मॉडर्न स्कूलों में मिलेगा वैदिक ज्ञान तो बदलेगा भविष्य

संसदीय समिति की सिफारिश: स्कूल पाठ्यक्रम में शामिल हो वेदों का ज्ञान, बढ़ाया जाए मराठा-सिख इतिहास
संसदीय समिति ने सिफारिश में कहा है कि स्कूलों में वे...
atharvaveda rig veda puran mahabharat ramayana
Recommendation of #Parliamentary Committee: #Knowledge of #Vedas should be included in school curriculum, #Maratha-Sikh history should be increased
The parliamentary committee has said in the recommendation that in schools they should...

BJP के सांसद विनय सहस्रबुद्धे की अगुआई वाली संसदीय समिति ने सिफारिश की है कि स्कूल की किताबों में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के जिक्र के साथ वेद शास्त्रों को भी पढ़हाया जाय.
#Panchjanya

Also read:नैनीताल में पुलिस ने रुकवाया मजार का निर्माण, प्रशासन से नहीं ली गई थी अनुमति ..

44 वर्षों के बाद बहुप्रतीक्षित 'सरयू नहर परियोजना' का कार्य पूरा, 11 दिसंबर को प्रधानमंत्री करेंगे जनता को समर्पित
प्रधानमंत्री की ऐतिहासिक रैली ने साबित किया, जनता का विश्वास भाजपा के साथ: अनिता ममगांई

बागपत सहित पश्चिम यूपी के लिए नए दरवाजे खोलेगा देहरादून-दिल्ली आर्थिक गलियारा

बागपत, शामली, सहारनपुर और मुजफ्फरनगर को छूता हुआ जाएगा यह एक्सप्रेस-वे   प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देहरादून-दिल्ली के बीच बनने वाले जिस एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किया है, उसे दिल्ली-देहरादून आर्थिक गलियारा नाम दिया गया है। यह एक्सप्रेस-वे बागपत, शामली, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर को छूता हुआ जाएगा। पीएम मोदी ने अपने भाषण में पश्चिम यूपी के लोगों को भी विश्वास दिलाया है कि इस आर्थिक गलियारे से उनके भी विकास के मार्ग खुलने जा रहे हैं। इस मार्ग के बन जाने से देहरादून-दिल्ली ...

बागपत सहित पश्चिम यूपी के लिए नए दरवाजे खोलेगा देहरादून-दिल्ली आर्थिक गलियारा