पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

सोतीगंज कबाड़ियों की दस अरब की संपत्ति पर आयकर-जीएसटी विभाग की नजर

दिनेश मानसेरा

दिनेश मानसेराOct 23, 2021, 05:12 PM IST

सोतीगंज कबाड़ियों की दस अरब की संपत्ति पर आयकर-जीएसटी विभाग की नजर
सोतीगंज में जांच करती पुलिस - फाइल फोटो

डेढ़ सौ कबाड़ी करते हैं वाहन चोरी की खरीद और बिक्री। दो हजार से ज्यादा लोग करते हैं वाहन चोरी। हाजी गल्ला की कुर्क संपत्ति को जब्त करने के
बाद पुलिस प्रशासन की नींद खुली।

 

मेरठ के सोतीगंज कबाड़ी बाजार में कबाड़ के धंधे में लिप्त लोगों ने दस अरब से भी ज्यादा की संपत्ति खड़ी की हुई है। आयकर और जीएसटी विभाग के अधिकारी इन संपत्तियों का विवरण जुटा चुके हैं। इन विभागों को करीब डेढ़ सौ कबाड़ियों की तलाश है, जोकि पुलिस के डर से फरार हो गए हैं। जानकारी के मुताबिक दिल्ली-एनसीआर से रोजाना जितने भी वाहन चोरी होते हैं, वे मेरठ के सोतीगंज कबाड़ी बाजार में आकर बिकते और काटे जाते हैं। पिछले पंद्रह सालों में यहां ये धंधा पुलिस की मिलीभगत से खूब पनपा। योगी सरकार ने शिकायत मिलने पर पिछले तीन महीने से यहां के कबाड़ियों का इतिहास भूगोल खंगालने का काम शुरू कराया।

गल्ला के पास 12 करोड़ की संपत्ति
पुलिस-प्रशासन ने अपने अभियान में आयकर, जीएसटी विभाग, प्राधिकरण को साथ लिया और गैंगस्टर जैसी कठोर धाराओं में वाहन चोर कबाड़ियों को घेरने का काम किया। पुलिस की गिरफ्त में आए अकेले हाजी नईम गल्ला कबाड़ी के पास से 12 करोड़ की संपत्ति का विवरण मिला है। पुलिस ने डेढ़ सौ से अधिक कबाड़ियों को चिन्हित करके वित्तीय एजेंसियों से जांच करवाई तो करीब दस अरब की बेनामी संपत्ति के मामले सामने आए। पुलिस को सोतीगंज के कबाड़ी हाजी इकबाल, मन्नू, जीशान, काला सहित 165 लोगों की तलाश है। इनके आगे करीब दो हजार लोगों को भी पुलिस ने अपने निशाने पर लिया हुआ है, जोकि वाहन चोरी करके लाते हैं और इन्हें बेच कर जाते हैं।

हर पहलू की कर रहे जांच
मेरठ के एसपी सिटी विनीत भटनागर कहते हैं कि पिछले डेढ़ दशकों में ये चोरी का धंधा, कबाड़ बाजार में पनपा। इसमें कोई दो राय नहीं कि पुलिस के कुछ लोगों के संरक्षण के बिना ऐसा हुआ नहीं होगा। हम हर पहलू की जांच कर रहे हैं, कोई भी बख्शा नहीं। सोतीगंज कबाड़ बाजार से चोरी का धंधा खत्म करके ही रहेंगे।

Comments

Also read:विपक्षी हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल हुआ पास ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:शिक्षा : भाषाओं के लिए आगे आई भारत सरकार ..

संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट
मथुरा में 6 दिसंबर को  बाल गोपाल के जलाभिषेक कार्यक्रम को नहीं मिली अनुमति, धारा 144 हुई लागू

जी उठे महाराजा

एयर इंडिया एक निजी एयरलाइन थी जिसने उद्यमिता की उड़ान भरी और अपनी सेवाओं से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साख बनाई। इसे देखते हुए इसके राष्ट्रीयकरण तक तो हालात ठीक थे परंतु राजनीति के चलते मनमानी व्यवस्थाओं और भीतर पलते भ्रष्टाचार ने इसे खोखला कर दिया। इससे साख में सुराख हुआ। विनिवेश से अब फिर महाराजा की साख लौटने की उम्मीद मनीष खेमका 68 वर्ष, यानी लगभग सात दशक बाद महाराजा फिर जी उठे। जी हां। 1953 में दुनिया में प्रतिष्ठा अर्जित करने वाली टाटा एयरलाइंस, जिसके शुभंकर थे ‘महाराजा’, का भार ...

जी उठे महाराजा