पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

उत्तराखंड आपदा में मृतकों की संख्या 72 हुई, दो दर्जन लोगों की खोज जारी

उत्तराखंड आपदा में मृतकों की संख्या 72 हुई,  दो दर्जन लोगों की खोज जारी
उत्तराखंड आपदा में लोगों की मदद करते सेना के जवान

मौसम के पूर्वानुमान के लिए दो डाप्लर रडार काम करने लगे हैं। ये रडार अतिव्रष्टि, बादल फटने जैसे विषयों की जानकारी समय से पहले देते हैं।

 

उत्तराखंड में पांच दिन पहले हुई आफत की बारिश ने 72 लोगों की जिंदगी ले ली। आपदा प्रभावित क्षेत्रों में अभी भी दो दर्जन लोगों का पता नहीं चला है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आपदा प्रभावित क्षेत्रों में जाकर राहत कार्यों की समीक्षा की है। वहीं, उत्तराखंड में मौसम के पूर्वानुमान के लिए दो डाप्लर रडार काम करने लग गए हैं। ये रडार अतिव्रष्टि, बादल फटने जैसे विषयों की जानकारी समय से पहले दे देते हैं। राज्य सरकार अभी एक रडार और केंद्र सरकार से मांगने जा रही है।

6 ट्रैकर्स का पता नहीं चल सका
जिम कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में बाघों की गणना में लगे 430 कैमरों में से 104 कैमरे बारिश में बह गए हैं। उनमें बाघों की तस्वीरों का डेटा भी था। पहाड़ों पर सड़कें बन्द हो जाने से पेट्रोल, डीजल और जरूरी सामान की किल्लत हो गई है। उत्तरकाशी में हर्षिल ट्रैक में लापता 6 ट्रैकर्स का कोई पता नहीं चला है, जबकि इनके साथ के 7 लोगों के शव मिल चुके हैं। कुमाऊं मंडल में अब तक 64 शव बरामद हो चुके हैं। लापता 11 की तलाश की जा रही है। आयुक्त सुशील कुमार ने बताया कि अब पुनर्निर्माण के काम में सरकारी विभाग जुट गए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर धामी सुबह ही हेलीकॉप्टर से आपदा प्रभावितों से मिलने चले गए। देहरादून में उन्होंने कहा कि सभी जिलाधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। वह खुद मौके पर जा रहे हैं। सड़कें खोली जा रही हैं ताकि रसद सप्लाई सामान्य हो सके। मुख्यमंत्री ने सेना और अर्धसैनिक बलों का आभार प्रकट किया कि आपदा में इनका सहयोग अतुलनीय है।

Comments

Also read:विपक्षी हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल हुआ पास ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:शिक्षा : भाषाओं के लिए आगे आई भारत सरकार ..

संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट
मथुरा में 6 दिसंबर को  बाल गोपाल के जलाभिषेक कार्यक्रम को नहीं मिली अनुमति, धारा 144 हुई लागू

जी उठे महाराजा

एयर इंडिया एक निजी एयरलाइन थी जिसने उद्यमिता की उड़ान भरी और अपनी सेवाओं से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साख बनाई। इसे देखते हुए इसके राष्ट्रीयकरण तक तो हालात ठीक थे परंतु राजनीति के चलते मनमानी व्यवस्थाओं और भीतर पलते भ्रष्टाचार ने इसे खोखला कर दिया। इससे साख में सुराख हुआ। विनिवेश से अब फिर महाराजा की साख लौटने की उम्मीद मनीष खेमका 68 वर्ष, यानी लगभग सात दशक बाद महाराजा फिर जी उठे। जी हां। 1953 में दुनिया में प्रतिष्ठा अर्जित करने वाली टाटा एयरलाइंस, जिसके शुभंकर थे ‘महाराजा’, का भार ...

जी उठे महाराजा