पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संस्कृति

दीपावली तक करें चार धाम यात्रा, हाईकोर्ट के निर्देश पर सरकार ने हटाए प्रतिबंध उत्तराखंड ब्यूरो

WebdeskOct 06, 2021, 03:49 PM IST

दीपावली तक करें चार धाम यात्रा, हाईकोर्ट के निर्देश पर सरकार ने हटाए प्रतिबंध  उत्तराखंड ब्यूरो

उत्तराखंड हाईकोर्ट के निर्देश पर राज्य सरकार ने चारधाम यात्रा पर लगाई बंदिशों को हटा दिया है। अब कोई भी तीर्थ यात्री सिर्फ यात्रा पंजीकरण कराकर बद्री—केदार, यमनोत्री और गंगोत्री के दर्शन कर सकता है।


उत्तराखंड हाईकोर्ट के निर्देश पर राज्य सरकार ने चारधाम यात्रा पर लगाई बंदिशों को हटा दिया है। अब कोई भी तीर्थ यात्री सिर्फ यात्रा पंजीकरण कराकर बद्री—केदार, यमनोत्री और गंगोत्री के दर्शन कर सकता है।

उत्तराखंड हाईकोर्ट के निर्देश पर राज्य सरकार ने चारधाम यात्रा पर लगाई बंदिशों को हटा दिया है। अब कोई भी तीर्थ यात्री सिर्फ यात्रा पंजीकरण कराकर बद्री—केदार, यमनोत्री और गंगोत्री के दर्शन कर सकता है।

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने कोविड की वजह से यात्रा पर लंबे अरसे तक रोक लगाए रखी, फिर हर दिन करीब आठ सौ यात्रियों की अनुमति दी थी। सरकार पर तीर्थयात्रियों और कारोबारियों का दबाव बना और उसे हाई कोर्ट आना पड़ा। हाई कोर्ट ने अब यात्रियों की संख्या की बंदिशें और ई पास की अनिवार्यता समाप्त कर दी है।

सरकार ने दो वैक्सीन रिपोर्ट के आधार पर केवल यात्रा पंजीकरण कर यात्रियों को चारधाम आने की नई एसओपी जारी कर दी है। सरकार और देवस्थानम बोर्ड ने केदारनाथ में भीतर जाकर गर्भ गृह में पूजा करने की अनुमति भी दे दी है। बता दें कि चारधाम यात्रा दीवाली तक चलेगी। उसके बाद शीतकाल के लिए मन्दिरों के कपाट बंद हो जाएंगे।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी पहले नवरात्रि को केदारनाथ आने का कार्यक्रम तय हो गया है।

 

Comments

Also read: शरद पूर्णिमा का अमृत उत्सव, जानिये सबकुछ ..

राष्ट्रीय सुरक्षा पर सियासत क्यों ? सिंघु बॉर्डर की घटना का जिम्मेदार कौन ?

राष्ट्रीय सुरक्षा पर सियासत क्यों ? सिंघु बॉर्डर की घटना का जिम्मेदार कौन ?
विशिष्ट अतिथि- कर्नल जयबंस सिंह, रक्षा विशेषज्ञ
तारीख- 15 अक्तूबर 2021
समय- सायं 5 बजे

#singhu #SinghuBorder #LakhbirSingh #defance #BSF #Punjab #Panchjanya #सिंघु_बॉर्डर

Also read: चीन सीमा तक पहुंचने लगी हैं सड़कें, मोदी सरकार के कार्यकाल में शुरू हुआ काम अंतिम चरण ..

भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर को होंगे बंद
वैदिक काल में उन्नत थी व्यावसायिक शब्दावली

नवरात्र : करें शक्ति संचय की साधना

हमारे ऋषि-मनीषी इस मनोवैज्ञानिक तथ्य से भलीभांति विज्ञ थे कि मानव समाज को स्वस्थ रखने के लिए उनके अंत:करण में सुसंस्कारिता का बीजारोपण जरूरी है; इसीलिए उन्होंने नवरात्र काल में मां शक्ति की साधना का विधान बनाया क्योंकि शक्ति के बिना न स्वहित संभव है और न लोकमंगल पूनम नेगी परम सत्ता को मातृशक्ति के रूप में पूजने की परम्परा हमारी सनातन संस्कृति की ऐसी मौलिक विशेषता है, जिसकी मिसाल विश्व के अन्य धर्मों में खोज पाना दुर्लभ है। भारतीय संस्कृति के आदि ग्रंथ ‘ऋग्वेद’ के दशम मंडल में ...

नवरात्र : करें शक्ति संचय की साधना