पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

उत्तराखंड त्रासदी के बाद इतना भयानक मंजर, 43 की मौत, यूपी के जिलों को किया गया सचेत

दिनेश मानसेरा

दिनेश मानसेराOct 19, 2021, 04:38 PM IST

उत्तराखंड त्रासदी के बाद इतना भयानक मंजर, 43 की मौत, यूपी के जिलों को किया गया सचेत
रिसोर्ट में डूबे पर्यटकों के वाहन

 

उत्तराखंड में दो दिनों से लगातार हो रही बारिश की वजह से जनजीवन प्रभावित हुआ है। सीएम पुष्कर धामी ने प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर स्थिति का जायजा लिया।

 

उत्तराखंड में दो दिनों से लगातार हो रही बारिश की वजह से अब तक 43 लोगों की जान चली गयी है, जिनमें दो बच्चे भी शामिल हैं। नैनीताल जिले में 27, अल्मोड़ा जिले में 12 और चमोली जिले में 4 लोगों की मौत हुई है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आपदा ग्रस्त इलाकों का हेलीकॉप्टर से जायजा लिया। प्रधानमंत्री मोदी ने भी मुख्यमंत्री से आपदा के संदर्भ में बातचीत की। रामगंगा बांध से पानी छोड़ा जाएगा। इसलिए उत्तर प्रदेश के बिजनौर, मुरादाबाद, शाहजहांपुर, बरेली, अमरोहा फरुखाबाद जिलों को सचेत किया गया है।

 

 

नैनीताल जिले में रामगढ़ ब्लाक में एक निर्माणाधीन रिसोर्ट में मलबा गिरने से 4 मजदूरों की मौत हो गयी। चमोली जिले में 4 लोगों को और अल्मोड़ा जिले में 12 लोगों को बारिश के कहर ने लील लिया है। राज्य में 2013 के बाद एक दिन में इतनी बारिश रिकॉर्ड की गई है। नैनीताल और अल्मोड़ा जिले में 140 मिमी बारिश रिकॉर्ड हुई है, जबकि अन्य जिलों में 70 से 100 मिमी बारिश हुई है। ऐसी बारिश का आंकड़ा केदारनाथ आपदा के दौरान दर्ज किया गया था।

अंग्रेजों के जमाने की बनी शंटिंग रेल पटरी नदी में समायी
बारिश की वजह से काठगोदाम रेलवे स्टेशन पर अंग्रेजों के जमाने की बनी शंटिंग रेल पटरी गौला नदी में गिर गयी है। लालकुआं जंक्शन जलमग्न हो जाने से सभी ट्रेनें रद्द कर दी गयी हैं। चारधाम यात्रा मार्ग पर करीब चार हजार तीर्थ यात्री फंसे हैं। कॉर्बेट पार्क और अन्य पर्यटक स्थलों में भी हजारों पर्यटक सड़कें खुलने के इंतजार में रुके हुए हैं। रामनगर के मोहान इलाके में एक रिसोर्ट में कोसी नदी का पानी भर गया। पर्यटकों को वहां से निकाल लिया गया, जबकि उनकी कारें पानी मे डूब गयीं। भूस्खलन के चलते करीब 75 मकान ढह गये हैं।
 

आपदा प्रभावित क्षेत्रो का हवाई सर्वेक्षण करते सीएम धामी और पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार

वायुसेना के तीन हेलीकॉप्टर कर रहे मदद
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, आपदा मंत्री धन सिंह रावत और डीजीपी अशोक कुमार ने आपदा प्रभावित इलाकों का हेलीकॉप्टर से जायजा लिया। सीएम धामी ने बताया कि प्रधानमंत्री से सुबह बातचीत हुई थी। वायुसेना के तीन हेलीकॉप्टर बचाव के कार्य के लिए आये हैं। बचाव दल काम कर रहे हैं, सड़कें खोलने का काम चल रहा है। सीएम ने बताया कि फसल का भारी नुकसान हुआ है, इसका आंकलन करवाया जा रहा है। जान-माल का नुकसान भी हुआ है। सभी जिलाधिकारियों से बात हुई है, हम सबकी मदद के लिए तैयार हैं।

20 से साफ हो सकता है मौसम
उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा स्थगित है। मौसम खुलते ही फिर से यात्रा शुरू हो जाएगी। लोगों को धैर्य रखना चाहिए और एक-दूसरे की मदद करने के लिए आगे आना चाहिए। उधर, मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार 20 की सुबह से मौसम खुलने के आसार हैं, जिसके बाद राज्य में हालात सामान्य होने की संभावना है।

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 20 2021 21:56:57

उत्तराखंड को हिंदुओं के लिए सुरक्षित राज्य बनाइए नहीं तो भीड़ तंत्र इसको भी खा जाएगा और आप कुछ कर नहीं पाओगे

Also read:विपक्षी हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल हुआ पास ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:शिक्षा : भाषाओं के लिए आगे आई भारत सरकार ..

संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट
मथुरा में 6 दिसंबर को  बाल गोपाल के जलाभिषेक कार्यक्रम को नहीं मिली अनुमति, धारा 144 हुई लागू

जी उठे महाराजा

एयर इंडिया एक निजी एयरलाइन थी जिसने उद्यमिता की उड़ान भरी और अपनी सेवाओं से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साख बनाई। इसे देखते हुए इसके राष्ट्रीयकरण तक तो हालात ठीक थे परंतु राजनीति के चलते मनमानी व्यवस्थाओं और भीतर पलते भ्रष्टाचार ने इसे खोखला कर दिया। इससे साख में सुराख हुआ। विनिवेश से अब फिर महाराजा की साख लौटने की उम्मीद मनीष खेमका 68 वर्ष, यानी लगभग सात दशक बाद महाराजा फिर जी उठे। जी हां। 1953 में दुनिया में प्रतिष्ठा अर्जित करने वाली टाटा एयरलाइंस, जिसके शुभंकर थे ‘महाराजा’, का भार ...

जी उठे महाराजा