पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संस्कृति

भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर को होंगे बंद

भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर को होंगे बंद
भगवान बदरीनाथ धाम

 

श्री केदारनाथ धाम, श्री यमुनोत्री धाम के कपाट 6 नवंबर को और श्री गंगोत्री धाम के कपाट 5 नवंबर को बंद होंगे।

 

भगवान बदरीनाथ धामके कपाट 20 नवंबर को शाम 6 बजकर 45 मिनट पर बंद हो जाएंगे। पंच पूजा 16 नवंबर से शुरू होगी। शुक्रवार को श्री बदरीनाथ मंदिर परिसर में आयोजित कार्यक्रम में इस वर्ष श्री बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने की तिथि तय हुई। तिथि की घोषणा रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी ने की। पंच पूजा में 16 नवंबर को गणेश जी की पूजा एवं कपाट बंद, 17 नंवंबर को आदिकेदारेश्वर जी मंदिर के कपाट बंद होंगे। 18 नवंबर को खडग पुस्तक पूजन, वेद ऋचाओं का वाचन बंद, 19 नवंबर को मां लक्ष्मी जी का आह्वान और पांचवें दिन यानी 20 नवंबर को कपाट बंद हो जाएंगे।

पगड़ी भेंट की गई
वर्ष 2022 की यात्रा के लिए संजय मेहता, यमुना प्रसाद, कल्याण सिंह भंडारी, मुरली सिंह पंवार को पगड़ी भेंट की गयी। ये प्रतिनिधि भगवान बदरीविशाल के भंडार आदि की जिम्मेदारी संभालेंगे। भगवान बदरीविशाल के खजाने के साथ श्री गरूड़ भगवान की विग्रह प्रतिमा श्री बदरीनाथ धाम से श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ पहुंचेगी। श्री बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने के साथ भविष्य बदरी मंदिर सुभाई तपोवन (जोशीमठ) तथा मातामूर्ति सहित श्री घटाकर्ण मंदिर माणा के कपाट भी शीतकाल हेतु बंद रहते हैं। 21 नवंबर को सुबह श्री उद्धव जी एवं कुबेर जी रावल जी सहित आदिगुरु शंकराचार्य जी की पवित्र गद्दी के साथ रात्रि प्रवास हेतु योग बदरी मंदिर पांडुकेश्वर पहुंचेगे।

उद्धव जी योग बदरी पांडुकेश्वर में विराजमान होंगे
श्री कुबेर जी अपने पांडुकेश्वर स्थित मंदिर में तथा उद्धव जी योग बदरी पांडुकेश्वर में विराजमान हो जाएंगे, जबकि 22 नवंबर को रावल जी एवं आदिगुरु शंकराचार्य जी की गद्दी श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ में विराजमान होंगे। इसके साथ ही योग बदरी पांडुकेश्वर एवं श्री नृसिंह मंदिर जोशी मठ में शीतकालीन पूजा भी शुरू होगी। श्री केदारनाथ धाम के कपाट 6 नवंबर को प्रात: 8 बजे बंद हो जाएंगे। पंचमुखी डोली 6 नवंबर रामपुर, 7 नवंबर गुप्तकाशी, 8 नवंबर को शीतकालीन गद्दीस्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में विराजमान होगी। श्री यमुनोत्री धाम के कपाट भी 6 नवंबर को बंद होंगे। मां यमुना की उत्सव डोली शीतकालीन गद्दी स्थल खरसाली पहुंचेगी। श्री गंगोत्री धाम के कपाट 5 नवंबर को  गोवर्धन पूजा अन्नकूट के अवसर पर मध्याह्न में बंद होंगे। मां गंगा की उत्सव डोली शीतकालीन गद्दीस्थल मुखवा पहुंचेगी।

श्री रूद्रनाथ जी के कपाट 17 अक्टूबर को बंद होंगे
पंच केदारों में प्रसिद्ध चतुर्थ केदार श्री रूद्रनाथ जी के कपाट 17 अक्टूबर  प्रात: 4.30 बजे ब्रह्म मुहुर्त में शीतकाल हेतु बंद हो जाएंगे। श्री रूद्रनाथ जी के आचार्य श्री महादेव भट्ट ने यह जानकारी दी। पंच केदारों में से द्वितीय केदार भगवान  श्री मद्महेश्वर जी के कपाट शीतकाल हेतु  सोमवार 22 नवंबर को प्रात: साढ़े आठ बजे वृश्चिक लग्न में बंद हो जाएंगे। तृतीय केदार तुंगनाथ जी के कपाट शनिवार 30 अक्टूबर को 1 बजे  अपराह्न बंद हो जाएंगे। तृतीय केदार तुंगनाथ जी के कपाट बंद होने की तिथि शीतकालीन गद्दीस्थल श्री मार्कंडेय मंदिर मक्कूमठ में तय हुई है। कपाट बंद होने के पश्चात भगवान मद्महेश्वर जी की चलविग्रह डोली 22 नवंबर को गौंडार, 23 नवंबर को रांसी, 24 नवंबर को गिरिया प्रवास करेगी। 25 नवंबर को चल विग्रह डोली श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ पहुंचेगी। 25 नवंबर को मद्महेश्वर मेला आयोजित किया जाएगा। श्री तुंगनाथ जी की चलविग्रह डोली 30 अक्टूबर को चोपता, 31 अक्टूबर को भनकुंड तथा 1 नवंबर को गद्दीस्थल श्री मार्कंडेय मंदिर में विराजमान होगी। इसी के साथ गद्दीस्थलों में शीतकालीन पूजा शुरू हो जाएगी।

Comments

Also read:सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली ..

सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली
मार्गशीर्ष महीने का धार्मिक महत्व

वैदिक युग से हिन्दूशाही तक अफगानिस्तान में रही हिंदू सभ्यता

अफगानिस्तान कांस्य युग व सिन्धु घाटी सभ्यता के काल में हिन्दू सभ्यता व संस्कृति का केन्द्र रहा है। अफगानिस्तान का संदर्भ ऋग्वेद में भी आता है। काबुल, गजनी, कन्धार से मध्य एशिया तक उत्खननों में मिले शिव-पार्वती, महिषासुरमर्दिनी, ब्रह्मा, इन्द्र, नारायण सहित विविध हिन्दू देवी-देवताओं के पुरावशेषों में कुछ को काबुल व गजनी से ताजिकिस्तान तक के संग्रहालयों में देखा जा सकता है। ब्रास्का विश्वविद्यालय के पुरातत्वविद् प्रो. जॉन फोर्ड श्रोडर के अनुसार अफगानिस्तान में मानव सभ्यता का इतिहास 50,000 वर् ...

वैदिक युग से हिन्दूशाही तक अफगानिस्तान में रही हिंदू सभ्यता