पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संस्कृति

गंगा को साफ करेंगे कछुए, डॉल्फिन और मगरमच्छ, भारतीय वन्यजीव संस्थान की रिपोर्ट के बाद जल शक्ति मंत्रालय ने शुरू करवाया काम

WebdeskOct 05, 2021, 12:41 PM IST

गंगा को साफ करेंगे कछुए, डॉल्फिन और मगरमच्छ, भारतीय वन्यजीव संस्थान की रिपोर्ट के बाद जल शक्ति मंत्रालय ने शुरू करवाया काम


गंगोत्री से लेकर बंगाल की खाड़ी तक बहने वाली गंगा को प्राकृतिक रूप से साफ करने के लिए उसमें जलीय जीवों को फिर से प्रवाहित किया जा रहा है। भारतीय वन्यजीव संस्थान, देहरादून के सर्वे के बाद से जल शक्ति मंत्रालय-नमामि गंगे प्रोजेक्ट के जरिये ये अभिनव प्रयोग कर रहा है।



दिनेश मानसेरा

गंगोत्री से लेकर बंगाल की खाड़ी तक बहने वाली गंगा को प्राकृतिक रूप से साफ करने के लिए उसमें जलीय जीवों को फिर से प्रवाहित किया जा रहा है। भारतीय वन्यजीव संस्थान, देहरादून के सर्वे के बाद से जल शक्ति मंत्रालय-नमामि गंगे प्रोजेक्ट के जरिये ये अभिनव प्रयोग कर रहा है।

हम सभी जानते हैं कि गंगा में डॉल्फिन मछली हुआ करती थीं, जो स्वाभाविक रूप से गंगा को साफ रखती थी। बड़े—बड़े कछुए गंगा में बहने वाले शवों को समाप्त करने का काम करते थे। गंगा मैया की सवारी घड़ियाल यानी मगरमच्छ मानी जाती है। यानि गंगा और मगरमच्छ एक दूसरे के पूरक होते रहे हैं। मगरमच्छ के गंगा में रहने से उसकी सफाई होती रहती है। पिछले कुछ सालों में ये प्राकृतिक जलीय जीव खत्म होते गए। कल—कारखानों से निकलने वाले रसायन और गंदे पानी ने इनका दम घोंट दिया।

भारतीय वन्यजीव संस्थान द्वारा गंगा के जलीय जीवों का जो अध्ययन करवाया गया, उसके प्रोजेक्ट रिसर्चर डॉ विपुल मौर्य ने जानकारी देते हुए बताया कि गंगा के जल में प्राकृतिक वास करने वाले जीव—जंतुओं पर हमने गंगोत्री से बंगाल की खाड़ी तक अध्ययन किया है। इस दौरान हमने देखा कि कौन—कौन से जलीय जीव इसमें रहते आये हैं। फिर उनमें से ऐसे कौन से हैं, जो कि प्राकृतिक रूप से जलशोधन का काम करते हैं। इनमें कछुए, मगरमच्छ, ऊदबिलाव, घोंघे की प्रजातियां महत्वपूर्ण हैं। डॉल्फिन, गूँच, महाशीर मछली भी गंगा को साफ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। लेकिन रसायन की वजह से पानी में ये जीव गायब से हो गये। डॉ मौर्य कहते हैं कि नमामि गंगे प्रोजेक्ट के बाद से गंगा में गंदगी आनी कम हुई है, जिससे हम फिर से इन जलीय जीवों को पानी में सक्रिय कर सकते हैं। हमने गढ़मुक्तेश्वर से लेकर प्रयाग तक कछुए और मगरमच्छ पानी में छोड़े जाने की सिफारिश की है। वे बताते हैं कि गढ़गंगा में साढ़े तीन हज़ार से ज्यादा कछुए छोड़ चुके हैं।

उन्होंने बताया कि अब हमारी रिसर्च टीम, घाघरा, गोमती, रामगंगा एवं कोसी में जलीय जीवों पर काम कर रही है। इन नदियों के जल साफ रहने से न सिर्फ इंसानी जीवन सुधरता है, बल्कि हज़ारों जीव—जंतु भी गंगा और उसकी सहायक नदियों से जीवन पा रहे हैं।

गढ़ मुक्तेश्वर में नीति आयोग के सदस्य राजीव कुमार ने वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ जाकर गंगा में कछुए छोड़े जाने की प्रकिया को समझा। 

 

Comments

Also read:सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली ..

सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली
मार्गशीर्ष महीने का धार्मिक महत्व

वैदिक युग से हिन्दूशाही तक अफगानिस्तान में रही हिंदू सभ्यता

अफगानिस्तान कांस्य युग व सिन्धु घाटी सभ्यता के काल में हिन्दू सभ्यता व संस्कृति का केन्द्र रहा है। अफगानिस्तान का संदर्भ ऋग्वेद में भी आता है। काबुल, गजनी, कन्धार से मध्य एशिया तक उत्खननों में मिले शिव-पार्वती, महिषासुरमर्दिनी, ब्रह्मा, इन्द्र, नारायण सहित विविध हिन्दू देवी-देवताओं के पुरावशेषों में कुछ को काबुल व गजनी से ताजिकिस्तान तक के संग्रहालयों में देखा जा सकता है। ब्रास्का विश्वविद्यालय के पुरातत्वविद् प्रो. जॉन फोर्ड श्रोडर के अनुसार अफगानिस्तान में मानव सभ्यता का इतिहास 50,000 वर् ...

वैदिक युग से हिन्दूशाही तक अफगानिस्तान में रही हिंदू सभ्यता