पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संस्कृति

उत्तराखंड: त्रिशूल चोटी के पास हुए हिमस्खलन में नौसेना के दस जवान लापता, बचाव दल भेजा गया

WebdeskOct 01, 2021, 03:54 PM IST

उत्तराखंड: त्रिशूल चोटी के पास हुए हिमस्खलन में नौसेना के दस जवान लापता, बचाव दल भेजा गया

उत्तराखंड ब्यूरो

 

उत्तरकाशी स्थित त्रिशूल चोटी के पास हुए हिमस्खलन की घटना के बाद दस जवान लापता हैं। ये सभी नौसेना के जवान हैं, जो 15 दिन पहले त्रिशूल फतह करने निकले थे।



उत्तरकाशीस्थित त्रिशूल चोटी के पास हुए हिमस्खलन की घटना के बाद दस जवान लापता हैं। ये सभी नौसेना के जवान हैं, जो 15 दिन पहले त्रिशूल फतह करने निकले थे। जानकारी के अनुसार त्रिशूल पर्वत की 7120 मीटर ऊंची चोटी को फतह करने नौसेना के 15 सदस्यों का दल गया था।


आज सुबह हिमस्खलन होने से दस जवान लापता बताए जा रहे हैं। जो शेष 5 सदस्य हैं, उनके द्वारा खबर मिलने के बाद नेहरू पर्वतारोहण संस्थान के प्राचार्य अमित बिष्ट रेस्क्यू टीम के साथ त्रिशूल बेस कैम्प की तरफ रवाना हो गये हैं। इन जवानों की खोज में हैलीकॉप्टर की भी मदद ली जा रही है। सेना और आईटीबीपी के दल भी घटना स्थल की तरफ भेजे गए हैं।

 

 

Comments

Also read:सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली ..

सर्वाधिक मन्दिरों वाला विश्व का सुन्दरतम द्वीप बाली
मार्गशीर्ष महीने का धार्मिक महत्व

वैदिक युग से हिन्दूशाही तक अफगानिस्तान में रही हिंदू सभ्यता

अफगानिस्तान कांस्य युग व सिन्धु घाटी सभ्यता के काल में हिन्दू सभ्यता व संस्कृति का केन्द्र रहा है। अफगानिस्तान का संदर्भ ऋग्वेद में भी आता है। काबुल, गजनी, कन्धार से मध्य एशिया तक उत्खननों में मिले शिव-पार्वती, महिषासुरमर्दिनी, ब्रह्मा, इन्द्र, नारायण सहित विविध हिन्दू देवी-देवताओं के पुरावशेषों में कुछ को काबुल व गजनी से ताजिकिस्तान तक के संग्रहालयों में देखा जा सकता है। ब्रास्का विश्वविद्यालय के पुरातत्वविद् प्रो. जॉन फोर्ड श्रोडर के अनुसार अफगानिस्तान में मानव सभ्यता का इतिहास 50,000 वर् ...

वैदिक युग से हिन्दूशाही तक अफगानिस्तान में रही हिंदू सभ्यता