पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

आपदा प्रभावित 317 गांवों की सुध कौन लेगा, नौ हजार परिवार खतरे की जद में

आपदा प्रभावित 317 गांवों की सुध कौन लेगा,  नौ हजार परिवार खतरे की जद में
आपदा प्रभावित गांव

 आपदाओं से 318 गांवों को खतरे की जद में बताया जा रहा है। राज्य आपदा विभाग ने सरकार को सचेत किया है कि इन गांवों के परिवारो को हटा कर कहीं और बसाने की तत्काल जरूरत है। ऐसा नहीं किया गया तो जान-माल का ज्यादा नुकसान हो सकता है।

उत्तराखंडमें 2011 के बाद से आयी आपदाओं से 318 गांवों को खतरे की जद में बताया जा रहा है। राज्य आपदा विभाग ने सरकार को सचेत किया है कि इन गांवों के परिवारो को हटा कर कहीं और बसाने की तत्काल जरूरत है। ऐसा नहीं किया गया तो जान-माल का ज्यादा नुकसान हो सकता है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर धामी को काम करने के लिए कुल छह महीने मिले हैं। उनके पिछले मुख्यमंत्रियों की उदासीनता के चलते उनके सामने कई चुनोतियां आ रही हैं। ऐसी ही एक चुनौती आपदा प्रभावित परिवारों के पुनर्वास से जुड़ी हुई है।

दरक रहे हैं पहाड़
उत्तराखंड में 2011 से आपदाओं का दौर शुरू हुआ था। केदारनाथ आपदा 2013 में आई। इसके बाद से लगातार हर साल उत्तराखंड के पहाड़ दरक रहे हैं। प्राकृतिक आपदा और जल विद्युत परियोजनाओं के कारण 401 गांव आपदा प्रभावित चिन्हित हुए, जिसमें से केवल 83 गांवों के 1447 परिवारों को वहां से हटा कर दूसरी जगह बसाया गया। अभी भी 318 गांवों को कहीं और बसाना जरूरी है। आपदा प्रभावित गांवों में बसे हुए नौ हजार से ज्यादा परिवारों की जान जोखिम में है। इनमें से ज्यादातर गांव उत्तराखंड के सीमांत पिथौरागढ़, चमोली, उत्तरकाशी, बागेश्वर जिलो में हैं। ‍

ये वो हिमालयी गांव हैं जहां ऑल वेदर रोड और जल विद्युत परियोजनाओं की वजह से ब्लास्टिंग का काम चल रहा है। रैणी गांव में इसी साल ऋषिगंगा में ग्लेशियर टूटने की घटना ने 55 परिवारों को बेघर कर दिया। सुमायी गांव और नीति घाटी के 467 परिवारों के पास भी कोई घर नहीं बचा। मुख्यमंत्री धामी के सामने चुनौती इन गांवों के परिवारो के पुनर्वास की है। उन्होंने आपदा प्रभावित गांवों से आबादी को हटा कर नए स्थान पर बसाने के लिए मुख्य सचिव को तत्काल बैठक करने को कहा है। मुख्यमंत्री धामी चाहते हैं कि शरद ऋतु से पहले इन परिवारों के लिए कोई व्यवस्था तय हो जाये। इस दिशा में शासन स्तर और जिला प्रशासन के साथ तालमेल करके गंभीरता से काम करने की जरूरत है।

Comments

Also read:विपक्षी हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल हुआ पास ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:शिक्षा : भाषाओं के लिए आगे आई भारत सरकार ..

संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट
मथुरा में 6 दिसंबर को  बाल गोपाल के जलाभिषेक कार्यक्रम को नहीं मिली अनुमति, धारा 144 हुई लागू

जी उठे महाराजा

एयर इंडिया एक निजी एयरलाइन थी जिसने उद्यमिता की उड़ान भरी और अपनी सेवाओं से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साख बनाई। इसे देखते हुए इसके राष्ट्रीयकरण तक तो हालात ठीक थे परंतु राजनीति के चलते मनमानी व्यवस्थाओं और भीतर पलते भ्रष्टाचार ने इसे खोखला कर दिया। इससे साख में सुराख हुआ। विनिवेश से अब फिर महाराजा की साख लौटने की उम्मीद मनीष खेमका 68 वर्ष, यानी लगभग सात दशक बाद महाराजा फिर जी उठे। जी हां। 1953 में दुनिया में प्रतिष्ठा अर्जित करने वाली टाटा एयरलाइंस, जिसके शुभंकर थे ‘महाराजा’, का भार ...

जी उठे महाराजा