पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

'मैच में रिजवान की नमाज सबसे अच्छी चीज' बोलने वाले वकार को वेंकटेश का करारा जवाब-'...वकार एक शर्मनाक इंसान'

आलोक गोस्वामी

आलोक गोस्वामीOct 27, 2021, 02:46 PM IST

'मैच में रिजवान की नमाज सबसे अच्छी चीज' बोलने वाले वकार को वेंकटेश का करारा जवाब-'...वकार एक शर्मनाक इंसान'
वकार यूनुस और वेंकटेश प्रसाद (दाएं)

सरफराज नवाज, शाहिद अफरीदी, जावेद मियांदाद आदि के बाद, पाकिस्तानी क्रिकेटरों के दिमागी दिवालिएपन की ताजा मिसाल दी पूर्व तेज गेंदबाज और टीम के कोच रहे वकार यूनुस ने


दुबईटी 20 मैच में पाकिस्तान टीम की भारत पर जीत को लेकर पाकिस्तान के नेता, अभिनेता, कारोबारी, आम आदमी से लेकर क्रिकेटर तक ऐसे बौरा गए हैं कि उनकी अपनी जबान पर लगाम ही नहीं रही। औरों का तो क्या कहें, लेकिन जिस 'खेल भावना' की कसमें खाकर पाकिस्तानी खिलाड़ी मैदान में उतरते हैं उसी को मजहब के आगे कैसे ताक पर रख देते हैं, उसका प्रदर्शन सरफराज नवाज, शाहिद अफरीदी, जावेद मियांदाद आदि करते ही रहे हैं। पाकिस्तानी क्रिकेटरों के दिमागी दिवालिएपन की ताजा मिसाल दी पूर्व तेज गेंदबाज और टीम के कोच रहे वकार यूनुस ने। एरी न्यूज चैनल पर ये पूछने पर कि भारत-पाकिस्तान मैच में उन्हें सबसे अच्छा क्या लगा? तो यूनुस ने कहा,''मुझे तो मोहम्मद रिजवान का मैच के दौरान हिन्दुओं के सामने नमाज अदा करना सबसे अच्छा लगा।

ये चीज मेरी नजर में बहुत, बहुत खास रही''। वकार की इस टिप्पणी पर दुनियाभर के खेल प्रेमियों ने उनकी भर्त्सना करते हुए उन्हें बुरा—भला कहा। सोशल मीडिया पर वकार को खूब खरी-खोटी सुनाई गई। लेकिन भारत के जाने-माने क्रिकेटर पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने ट्वीट करके वकार की बेशर्म हेकड़ी तार-तार कर दी। 26 अक्तूबर को वेंकटेश ने अपने ट्वीट में लिखा-''हिन्दुओं के बीच में खड़े होकर नमाज पढ़ी'-वकार। खेल में ऐसा कहना जिहादी सोच को एक अलग स्तर पर ले जाना है। कैसा शर्मनाक इंसान है।''
 

वेंकटेश का ट्वीट

वेंकटेश ने अपने ट्वीट में लिखा-''हिन्दुओं के बीच में खड़े होकर नमाज पढ़ी'-वकार। खेल में ऐसा कहना जिहादी सोच को एक अलग स्तर पर ले जाना है। कैसा शर्मनाक इंसान है।''


क्रिकेट कमेंटेटर हर्षा भोगले ने भी वकार पर तीखा पलटवार किया है। भोगले ने 26 अक्तूबर को वकार की ऐसी भद्दी टिप्पणी पर नाराजगी जाहिर की और कहा हमें क्रिकेट के जरिए दुनिया को जोड़ना चाहिए, न कि मजहब के नाम पर बांटना चाहिए। हर्षा ने वकार को अपनी बात के लिए माफी मांगने को भी कहा।

हर्षा ने अपनी टिप्पणी में आगे कहा, 'वकार यूनुस जैसे कद के इंसान के लिए यह कहना कि रिजवान को हिंदुओं के सामने नमाज अदा करते देखना उन्हें सबसे अच्छा लगा, यह बात बेहद निराशाजनक है। इस तरह की बातों को खेल से नहीं जोड़ना चाहिए। वकार का ऐसा कहना बेहद खराब था।'

कमेंटेटर हर्षा भोगले का कहना है कि हम जैसे खेल प्रेमियों के लिए लोगों को यह बताने में बहुत दिक्कत आती है कि यह सिर्फ खेल है, सिर्फ एक क्रिकेट मैच। हर्षा ने उम्मीद जताई कि पाकिस्तान में बहुत से खेल प्रेमी इस टिप्पणी में छिपी खतरनाक बात को समझते हुए मेरी बात का समर्थन करेंगे।

यहां बता दें कि पाकिस्तानी बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान ने भारत-पाकिस्तान मैच के दौरान पहली पारी में ड्रिंक ब्रेक के दौरान नमाज अदा की थी। रिजवान के नमाज अदा करने के इस वीडियो के वायरल होने के बाद पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर वकार यूनुस ने वह भद्दी टिप्पणी की थी। हालांकि अब खबर है कि उनके इस बयान का जबरदस्त विरोध होने पर वकार ने माफी मांगते हुए कहा है कि जीत की खुशी में वे अपने शब्दों पर काबू नहीं रख पाए थे।

 

Comments

Also read:विपक्षी हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल हुआ पास ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:शिक्षा : भाषाओं के लिए आगे आई भारत सरकार ..

संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट
मथुरा में 6 दिसंबर को  बाल गोपाल के जलाभिषेक कार्यक्रम को नहीं मिली अनुमति, धारा 144 हुई लागू

जी उठे महाराजा

एयर इंडिया एक निजी एयरलाइन थी जिसने उद्यमिता की उड़ान भरी और अपनी सेवाओं से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साख बनाई। इसे देखते हुए इसके राष्ट्रीयकरण तक तो हालात ठीक थे परंतु राजनीति के चलते मनमानी व्यवस्थाओं और भीतर पलते भ्रष्टाचार ने इसे खोखला कर दिया। इससे साख में सुराख हुआ। विनिवेश से अब फिर महाराजा की साख लौटने की उम्मीद मनीष खेमका 68 वर्ष, यानी लगभग सात दशक बाद महाराजा फिर जी उठे। जी हां। 1953 में दुनिया में प्रतिष्ठा अर्जित करने वाली टाटा एयरलाइंस, जिसके शुभंकर थे ‘महाराजा’, का भार ...

जी उठे महाराजा