साक्षात्कार

''भगवा विरोधियों ने रचा 'भगवा आतंक' का जुमला''

''भगवा विरोधियों ने रचा 'भगवा आतंक' का जुमला''..

‘‘हम जानते हैं करारा जवाब देना’’

पुलवामा आतंकी हमले में 40 वीर जवानों के बलिदान के 13वें दिन भारत ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देते हुए पाक अधिक्रांत कश्मीर और पाकिस्तान के भीतर तक हवाई हमले कर आतंकी ठिकानों को ध्वस्त किया और जवानों के खून और आक्रोशित देश के आंसुओं की हर बूंद का बदला लिया। पुलवामा के बाद से हर दिन बदलते घटनाक्रम, सीमा पर उपजे हालात पर नई दिल्ली स्थित साउथ ब्लाक के अपने दफ्तर में रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण पाञ्चजन्य से बात करती हुई कहती हैं,‘‘भारत अब और आतंक और आतंकी गतिविधियों को सहन नहीं करने वाला है।..

'हमने कुंभ मेले के दौरान छोटी से छोटी बात का ध्यान रखा'

कुम्भ मेले के आयोजन का जिम्मा उत्तर प्रदेश सरकार के नगर विकास विभाग पर है. नगर विकास विभाग की तरफ से 2 हजार 9 सौ करोड़ रूपये के बजट का प्रावधान किया गया . इस बार गंगा जी में प्रदूषण रोकने के लिए हर संभव उपाय किए गए। अखाड़ों के साधु - संतों के साथ ही आम तीर्थ यात्रियों के लिए भी ख़ास इंतजाम किया गए हैं. पहली बार 20 हजार लोगों के ठहरने के लिए पंडाल बनवाया गया है. नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना से पांचजन्य उत्तर प्रदेश के ब्यूरो चीफ सुनील राय ने विशेष बातचीत की है. प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश -..

‘हमने भ्रष्टाचार को कम कर जनहित में काम किया’

देश की राजधानी से सटा हरियाणा। छोटा लेकिन राजनीतिक रूप से बेहद सजग राज्य। खेती-किसानी और उद्योगों में देश में प्रमुख स्थान रखने वाला। पिछले साढ़े चार साल से यहां भाजपा की सरकार है। हरियाणा में विकास, रोजगार, स्वास्थ्य, सुविधाएं जैसे तमाम मुद्दों को लेकर पाञ्चजन्य संपादक हितेश शंकर और डिप्टी न्यूज एडीटर आदित्य भारद्वाज ने राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल से विस्तृत बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश:-..

''घोटाले में संलिप्त लोगों को बचाने में लगी हैं ममता''

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय कहते हैं,''ममता बनर्जी का एक आईपीएस अधिकारी के पक्ष में खुलकर सामने आना, काफी कुछ कहता है। इसके पीछे साफ है कि वे जिस अधिकारी को बचा रही हैं, उसके पास चिटफंड कंपनियों के ऐसे दस्तावेज हैं जो ममता और उनके परिवार के सदस्यों को फंसा सकते हैं। इसीलिए वे बौखलाई हुई हैं।'' पश्चिम बंगाल के राजनीतिक हालात पर पाञ्चजन्य संवाददाता अश्वनी मिश्र ने उनसे विस्तृत बात की। प्रस्तुत हैं बातचीत के संपादित अंश:-..

‘‘शबरीमला में मैदाने-जंग जैसे हालात बना दिए हैं पिनरई सरकार ने’’

शबरीमला को लेकर जबसे सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आया है, तबसे केरल के ही नहीं, दुनिया भर के आस्था-केन्द्र भगवान अयप्पा के इस मंदिर को राज्य की मार्क्सवादी सरकार ने राजनीति और हिन्दुओं के प्रति वामपंथी दुर्भावना का अखाड़ा बना दिया है। केन्द्रीय पर्यटन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) कन्ननथानम जोसफ अल्फॉन्स पिछले दिनों शबरीमला में थे। वहां उन्होंने केरल सरकार की इस तीर्थ के प्रति उदासीनता, हिन्दू धर्म के प्रति अजीब सी नफरत के चलते जो दमनकारी रूप देखा, उस सबका खुलासा पाञ्चजन्य के सहयोगी संपादक आलोक गोस्वामी ..

''हमारा काम है छात्रों में क्षमताओं का निर्माण करना'

शिक्षा में सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों, डिजिटल इंडिया के तहत शिक्षा में होने वाले सुधारों, संभावनाओं, शिक्षा में नैतिक शिक्षा को शामिल करने जैसे तमाम मुद्दों पर हमने मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से बातचीत की। प्रस्तुत है उनसे हुई बातचीत के प्रमुख अंश:- ..

#Mob_Lynching नई बात नहीं न ही जाति मजहब तक सीमित

आज देशभर में मॉब लिचिंग की कथित घटनाओं पर संसद से लेकर सड़क तक हंगामा मचाया जा रहा है। सेकुलर नेता और बुद्धिजीवी कह रहे हैं कि इन घटनाओं के जरिए एक मजहब विशेष के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है, जबकि ऐसा नहीं है। इस तरह की घटनाओं से हर जाति और वर्ग के लोग पीड़ित हैं। आपको याद होगा बिहार के भागलपुर का वह अंखफोड़वा कांड, जिसमें कुछ अपराधियों की आंखें तेजाब डालकर फोड़ दी गई थीं। यह करतूत पुलिस की थी। इसके बाद तो बिहार में भीड़ द्वारा इस तरह की घटनाएं होने लगीं। वरिष्ठ पत्रकार और ‘द आॅइज आॅफ डार्कनेस’ फिल्म ..

'प्रेमचंद पहले साहित्यकार हैं जिन्होंने शोषित वर्ग का उत्थान किया और उन्हें लड़ने की ताकत दी'

कमल किशोर गोयनका को प्रेमचंद के व्यक्तित्व और कृतित्व का गहन अध्येता माना जाता है। ऐसा होना स्वाभाविक भी है। प्रेमचंद के जीवन, साहित्य, विचार तथा उनकी पांडुलिपियों के अध्ययन, अनुसंधान और आलोचना एवं उनकी सैकड़ों पृष्ठों की अज्ञात सामग्री को खोजकर उन्हें राजनीतिक वादों की जकड़बंदी से मुक्त कर उनकी राष्ट्रवादी समग्र मूर्ति के अन्वेषक के रूप में जाने जाते हैं डॉ. कमल किशोर गोयनका।..

फिल्म जगत में पाखंडियों की नहीं है कमी

अपने बेबाक बयानों के लिए बराबर सुर्खियों में रहने वाले फिल्म जगत के प्रसिद्ध पार्श्व गायक अभिजीत भट्टाचार्य स्पष्ट तौर पर कहते हैं,''फिल्म जगत एक ऐसी जमात है जो अपनी देशभक्ति को समय-समय पर 'सेल' करती है। इसलिए न ही इनका कोई मत होता है और न ही इन्हें किसी के दर्द से कोई इत्तेफाक। जहां इनका मतलब सिद्ध होता है, ये वहीं दिखाई देते हैं।''पाञ्चजन्य संवाददाता अश्वनी मिश्र ने हिन्दू बच्चियों के साथ हिंसा और यौनाचार पर फिल्म जगत की खामोशी पर उनसे विस्तृत बात की। प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश:- कठुआ ..

''कई बालगृहों में जोर-जबरदस्ती से किया जाता है कन्वर्जन''

''कई बालगृहों में जोर-जबरदस्ती से किया जाता है कन्वर्जन''..

पूर्वोत्तर में चर्च की दखल पहले ज्यादा थी, अब कम हुई है

पूर्वोत्तर यानी विविधता से भरा क्षेत्र। संस्कृति, परंपरा एवं रीति-रिवाजों से भरा-पूरा क्षेत्र। लेकिन दूसरी ओर इसका एक स्याह पहलू है- विकास का अभाव। पहले की राज्य और केन्द्र सरकारों ने सदैव इस क्षेत्र की उपेक्षा की, जिसका परिणाम यह हुआ कि दिन-प्रतिदिन ईसाई मिशनरियों ने ‘सेवा के बाने’ में अपनी जड़ें मजबूत कीं और पूर्वोत्तर चर्च के चंगुल में फंसता चला गया। लेकिन मणिपुर विधानसभा के अध्यक्ष वाई.खेमचंद मानते हैं कि मोदी सरकार आने के बाद पूर्वोत्तर की शक्लो-सूरत बदल रही है और जो अराष्ट्रीय गतिविध..

‘कश्मीर का एजेंडा देश के एजेंडे से अलग नहीं हो सकता’

जम्मू-कश्मीर में भाजपा-पीडीपी गठबंधन का टूटना सिर्फ एक घटना नहीं बल्कि उस सपने का सचाई से सामना है, जो दोनों दलों ने मिलकर देखा था। पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती का बयान कि वह तो अपना ‘एजेंडा’ पूरा करने में लगी थीं, ने बता दिया कि कसक कहां थी, कसर कहां थी और किसने किसको धोखा दिया ? मन की बात लंबे समय से मन में दबाए भाजपा समर्थक जहां इस फैसले से खुश और राहत में नजर आते हैं, वहीं पीडीपी समर्थकों के लिए यह टीस और झुंझलाहट का सबब है, क्योंकि फैसला कुछ ऐसा होगा, इसका अंदेशा सबको था। लेकिन समय यह होगा, ..

राज्य में पत्थरगड़ी नहीं ‘विकासगड़ी’ की चर्चा है

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ़ रमन सिंह प्रदेश में तीसरी बार विकास यात्रा पर हैं। पहले चरण में अभी तक बस्तर और सरगुजा संभाग की यात्रा पूरी कर चुके मुख्यमंत्री राज्य में पत्थरगड़ी पर उपजे विवाद पर कहते हैं,‘‘ राज्य में आज के समय केवल और केवल ‘विकासगड़ी’ की चर्चा है। ..

पाकिस्तान जाने वाले हमारे पानी को रोककर करेंगे राज्यों का जलसंकट दूर

केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग एवं जहाजरानी, नई दिल्ली के परिवहन भवन में नरेन्द्र मोदी सरकार के चार वर्ष पूरे होने पर पाञ्चजन्य संवाददाता अश्वनी मिश्र एवं नागार्जुन ने मंत्रालय से जुड़े कार्यों पर विस्तृत बात की।..

कांग्रेस ने संसद में कुनबे के चित्र लगाए बाबा साहेब की तस्वीर नहीं

उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान कहते हैं,‘‘केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार देश की अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजातियों के उद्धार के लिए प्रतिबद्ध है। अपने चार साल केकार्यकाल में सरकार ने इस समाज के लिए क्रांतिकारी काम किए हैं, लेकिन कुछ लोग हैं, जिन्हें यह चीज अखर रही है। वे सरकार के खिलाफ माहौल बना रहे हैं।’’ पाञ्चजन्य संवाददाता अश्वनी मिश्र ने उनसे विस्तृत बात की। ..

जेएनयू में जिहादी और तालिबानी मानसिकता के लोग सक्रिय हैं

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में ‘इन द नेम आॅफ लव’ फिल्म के प्रदर्शन के दौरान जिस तरह से हंगामा किया गया, छात्रों और सुरक्षागार्डों के साथ मारपीट की गई उसकी कोई वजह नहीं थीं, फिल्म में तालिबानी समर्थकों और इस्लामिक स्टेट के खिलाफ बातें हैं। यदि जेएनयू जैसी जगह में इस तरह की फिल्म का विरोध किया जाता है तो इसका सीधा सा अर्थ है कि वहां उन्मादी और उग्र मानसिकता के लोग सक्रिय हैं। यह कहना है फिल्म निर्देशक सुदीप्तो सेन का। पाञ्चजन्य संवाददाता आदित्य भारद्वाज से उन्होंने फिल्म से जुड़े मुद्दों, केरल में ..

अंतरराष्ट्रीय बाजार के उतार-चढ़ाव को स्वीकार करना होगा

इन दिनों हर तरफ पेट्रो उत्पादों के बढ़ते दामों की चर्चा है। विशेषज्ञों के अनुसार कई प्रकार के करों के कारण पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ रही हैं, वही सरकार का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में उतार-चढ़ाव के कारण दाम बढ़ रहे हैं।..

भविष्य में हमारा स्वप्न आइआइटी गुरुकुल का है

भारतीय शिक्षण मंडल के अखिल भारतीय संगठन मंत्री श्री मुकुल कानिटकर कहते हैं,‘‘विराट गुरुकुल सम्मेलन का उद्देश्य देश में गुरुकुल शिक्षा पद्धति को पुनर्स्थापित करके उसे युगानुकूल बनाना है। ..

‘‘बेहतर कल के लिए अपना आज कुर्बान कर रहे बलूच’’

बलूचिस्तान में पाकिस्तान के बढ़ते अत्याचारों के बीच वहां के एक बड़े स्थानीय छात्र नेता हमारे संपर्क में आए। उन्होंने बलूचिस्तान की समस्या, वहां के समाज की छटपटाहट तथा समाधान और हर पहलू पर खुलकर बात रखी। ..

चुनौतियां हैं, पर उनसे पार पाने का संकल्प भी है: विजय रूपाणी

इसमें संदेह नहीं कि नरेन्द्र मोदी ने गुजरात में अपने मुख्यमंत्रित्व काल में विकास को जिस तेजी से आगे बढ़ाया था, आज उसकी मिसाल हर क्षेत्र में देखने को मिल रही है। ..

बढ़ रहा है हिंदुत्व के प्रति आग्रह

पिछले सप्ताह श्री आलोक कुमार को विश्व हिंदू परिषद् के अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है। वे सर्वोच्च न्यायालय के जाने-माने वकील हैं। इन दिनों वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, दिल्ली प्रांत के सह प्रांत संघचालक और पाञ्चजन्य एवं आॅर्गनाइजर को प्रकाशित करने वाले संस्थान ‘भारत प्रकाशन (दिल्ली) लि.’ के प्रबंध निदेशक भी हैं। वे ‘एकात्म मानवदर्शन’ के मर्मज्ञ हैं और कई स्थानों पर ‘दीनदयाल कथा’ कर चुके हैं।..

बदल रही है भारतीय खेल जगत की तस्वीर

गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में भारत की सफलता एक नई दिशा और दशा की ओर इशारा करती है। यह कामयाबी एक बदलते भारत की, खेल में भारत की बदलती संस्कृति और खिलाड़ियों के बदलते रवैये की तस्वीर पेश करती हैं। विश्व खेल जगत में अपनी एक पहचान बनाने की राह पर अग्रसर भारत के लिए यह एक सुनहरी शुरुआत है, जो योजनाबद्ध तरीके से की गई तैयारियों और खिलाड़ियों की बदलती मानसिकता का नतीजा है। यह मानना है केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ का।..

श्रीराम जन्मभूमि से हिंदुओं की भावना जुड़ी है

गत 14 अप्रैल को विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के बाद हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल (2003 से 2008) और परिषद के निवर्तमान अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री विष्णु सदाशिव कोकजे परिषद के नए अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष बने हैं।..