पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

समर कैम्प के बहाने होना था 'बालमन' का इस्लामीकरण !

WebdeskJul 07, 2021, 02:33 PM IST

समर कैम्प के बहाने होना था 'बालमन' का इस्लामीकरण !

उत्तर प्रदेश  के मुरादाबाद में सीबीएसई बोर्ड से मान्यता प्राप्त स्कूल में अधिकतर स्टूडेंट मुसलमान हैं. वहां एक इस्लामिक समर कैम्प का आयोजन होने जा रहा था. इस विवादित समर कैम्प के आयोजन को निरस्त कर दिया गया है.

उत्तर प्रदेश  के मुरादाबाद में सीबीएसई बोर्ड से मान्यता प्राप्त एक निजी इंग्लिश मीडियम स्कूल  समर कैम्प का आयोजन करने जा रहा था. इस समर कैम्प का आयोजन करने के पीछे क्या उद्देश्य था? यह जान कर कोई भी हैरान हो जाएगा. बकायदे समर कैम्प के उद्देश्य  को प्रचारित किया गया था.समर कैम्प का विवरण देते हुए पहले ही वाक्य में लिखा  गया कि “हाउ टू अडॉप्ट इस्लामिक वैल्यूज इन पर्सनल लाइफ( निजी जीवन में इस्लामिक मूल्यों को कैसे अपनाएं) यह समर कैम्प स्कूल के 8 वर्ष से 15 वर्ष तक के स्टूडेंट्स के लिए आयोजित किया जा रहा था. 

 

 आरोप है कि इस्लाम  को बढ़ावा देने एवं कम उम्र के बच्चों का ब्रेन वाश करने की तैयारी की जा रही  थी.  अखिल भारतीय विद्यार्थी  परिषद के कार्यकर्ताओं ने इस समर कैम्प का जमकर विरोध किया  और मुरादाबाद  के  जिला अधिकारी  को ज्ञापन देकर  स्कूल प्रबंधन के विरूद्ध  कार्रवाई की मांग की. कई लोगों ने यूपी पुलिस एवं मुख्यमंत्री के ट्विटर हैंडल को टैग करके भी शिकायत की. विरोध को देखते हुए  स्कूल ने इस विवादित  समर कैम्प को निरस्त कर दिया.  मुरादाबाद पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने स्कूल की मान्यता रद्द करने की मांग की है. 

 

  इस मामले में पुलिस का कहना है कि यह विवाद शिक्षा विभाग से जुड़ा हुआ है. यह प्रकरण मुरादाबाद के जिला विद्यालय निरीक्षक के संज्ञान में लाया गया है. उनके द्वारा इस प्रकरण की जांच की जा रही है.  मुरादाबाद के जिला विद्यालय निरीक्षक का कहना है कि स्कूल को सीबीएसई  बोर्ड से मान्यता प्राप्त है और जो सोसाइटी इस स्कूल को संचालित कर रही है. वह रजिस्टर्ड है. स्कूल ने अल्पसंख्यक संस्था होने के लिए आवेदन किया  है. अभी अल्पसंख्यक संस्था का दर्जा नहीं  दिया गया है. विवादित समर कैम्प  स्कूल ने निरस्त कर दिया है. इस प्रकरण की जांच की जा रही है.  

 

 बता दें कि इस समर कैम्प का विवरण  सोशल मीडिया पर भी शेयर किया गया था. उसके बाद अधिकतर लोगों को  इस विवादित समर कैम्प की जानकारी हो पाई. डीपीएस उधमपुर के नाम से बने ट्विटर हैंडल पर यह समर कैम्प का ब्रोशर शेयर किया गया था. ट्विटर ने अब इस हैंडल को निलंबित कर दिया है. शुरू में यह कहा गया कि उस स्कूल में अधिकतर स्टूडेंट मुसलमान हैं इसलिए इस प्रकार का समर कैम्प का आयोजन किया गया था. अब सवाल यह उठता है कि समर कैम्प के ब्रोशर में छपवाया गया था कि इसमें आठ वर्ष से पंद्रह वर्ष की उम्र के सभी बच्चे शामिल हो सकते हैं. अब  स्कूल के डायरेक्टर मंसूर सिद्दीकी  ने अपना संतुलित बयान जारी किया है. उनका कहना है कि इस समर कैम्प का आयोजन उनकी तरफ से नहीं किया गया था.  कुछ अभिभावक इस समर कैम्प का आयोजन करना चाहते थे.  मगर विवाद उत्पन्न होने पर इस समर कैम्प को निरस्त कर दिया गया है.

 

इस प्रकरण पर मुरादाबाद के जिलाधिकारी शैलेंद्र सिंह का कहना है कि  स्कूल में समर कैंप लगाने का मामला संज्ञान में आया था. सोशल मीडिया पर इस कैम्प का  प्रचार-प्रसार किया गया था.  स्कूल ने अपना कार्यक्रम निरस्त कर दिया है और सोशल मीडिया पर किए गए प्रचार प्रसार को भी हटा दिया है. इस प्रकरण की  जांच कराई जा रही है. जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा. उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की  की जाएगी.

Comments

Also read: आपदा प्रभावित 317 गांवों की सुध कौन लेगा, करीब नौ हजार परिवार खतरे की जद में ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्रतिमाएं
कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया

सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

सहारनपुर के केंदुकी गांव में बन रही जमीयत ए उलेमा हिन्द की बिल्डिंग का गांव वालों ने भारी विरोध किया है। विधायक की शिकायत पर डीएम अवधेश कुमार ने काम रुकवा दिया है। सहारनपुर के केंदुकी गांव में बन रही जमीयत ए उलेमा हिन्द की बिल्डिंग का गांव वालों ने भारी विरोध किया है। विधायक की शिकायत पर डीएम अवधेश कुमार ने काम रुकवा दिया है। जमीयत के अध्यक्ष मौलाना मदनी का कहना है कि ये मदरसा नहीं है बल्कि स्काउट ट्रेनिंग सेंटर है। अक्सर विवादों में घिरे रहने वाले जमीयत ए उलमा हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक् ...

सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण