पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

जम्मू-कश्मीर: आतंकियों ने एक निर्दोष दुकानदार उमर को मार डाला, एक सप्ताह में दो पुलिसकर्मियों की भी कर चुके हैं हत्या

WebdeskJun 24, 2021, 01:01 PM IST

जम्मू-कश्मीर: आतंकियों ने एक निर्दोष दुकानदार उमर को मार डाला, एक सप्ताह में दो पुलिसकर्मियों की भी कर चुके हैं हत्या

अश्वनी मिश्र



पाकिस्तान के पिट्ठू आतंकी कश्मीर के वातावरण को खराब करने से बाज नहीं आ रहे हैं। ताजा मामला श्रीनगर का है, जहां आतंकियों ने एक निर्दोष दुकानदार को मार डाला। बीते एक सप्ताह में आतंकियों द्वारा की जाने वाली यह तीसरी घटना है


केंद्र सरकार जम्मू—कश्मीर के विकास और लोगों को मुख्य धारा से जोड़ने के लिए बड़ी तीव्र गति से काम कर रही है। पर पाकिस्तान के पिट्ठू आतंकियों को यह नागवार गुजर रहा है। ऐसे में आतंकी अपने आकाओं के इशारों पर कश्मीर के अमन में खलल डालने की भरपूर कोशिश कर रहे हैं। ताजा मामला श्रीनगर का है, जहां आतंकियों ने एक निर्दोष दुकानदार को निशाना बनाया। पुलिस के अनुसार बुधवार शाम करीब आठ बजे हब्बाकदल मुख्य चौराहे पर स्थित दुकान में आतंकी आ धमके। इस दौरान आतंकियों ने दुकान मालिक उमर नजीर पर गोलियों की बौछार कर दी। गोलियां लगते ही उमर जमीन पर गिर पड़े। इस बीच अफरातफरी का फायदा उठाकर आतंकी भाग निकले। पुलिसकर्मियों ने आनन—फानन में घायल उमर को अस्पताल पहुंचाया, जहां उनकी मौत हो गई।  


सात दिनों में तीसरी घटना

कश्मीर के आवाम को डराने के लिए आतंकी हर दिन कुछ न कुछ करते रहते हैं, ताकि स्थानीय लोगों में खौफ बरकरार रहे और उनकी दुकान चलती रहे। इस एक सप्ताह में अब तक आतंकियों ने तीन लोगों को निशाना बनाया है, जिसमें दो पुलिस कर्मी भी शामिल हैं। बीते 17 जून को आतंकियों ने सैदपोरा में एक पुलिसकर्मी जावेद अहमद की निर्मम हत्या की थी। आतंकियों ने श्रीनगर स्थित सैदपुरा के ईदगाह इलाके में जावेद अहमद को उनके मकान के बाहर ही गोली मार दी थी, जिसके बाद आतंकी मौके से फरार हो गये। आनन—फानन में जावेद को अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था।

इसी तरह बीते मंगलवार को श्रीनगर में ही आतंकियों ने नौगाम इलाके में सीआईडी इंस्पेक्टर की गोली मारकर हत्या कर दी गई। पारिमपोरा पुलिस स्टेशन में तैनात सीआईडी इंस्पेक्टर परवेज अहमद डार नौगाम स्थित कनीपोरा मस्जिद के बाहर नमाज अदा कर लौट रहे थे। तभी घात लगाकर बैठे दो आतंकियों ने उन्हें मस्जिद के बाहर गोली मार दी थी। जिसके बाद आतंकी मौके से फरार हो गये। इंस्पेक्टर परवेज अहमद को अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इन घटनाओं पर कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार कहते हैं कि आतंकवादी अपने अपराध छिपाने के लिए निर्दोष लोगों को मुखबिर बताकर उन्हें अपना निशाना बना रहे हैं। बता दें कि तीनों हत्याएं आतंकी संगठन लश्कर—ए—तैयबा के हिट स्क्वाड द रजिस्टेंस फ्रंट जम्मू—कश्मीर के कमांडर अब्बास शेख के इशारे पर हुई हैं।


सुरक्षाबलों ने मार गिराया आतंकी
घाटी में बौखलाए आतंकी सुरक्षाबलों को निशाना बना रहे हैं। इसी कड़ी में आतंकियों ने पुलवामा में सुरक्षाबलों की नाका पार्टी पर भी हमला किया। तो दूसरी तरफ शोपियां में हिज़बुल मुजाहिद्दीन के आतंकी सज्जाद अहमद बट को मार गिराया। 

Comments

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्र ..

कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया
सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प

  विजयादशमी के महानायक श्रीराम भारतीय जनमानस की आस्था और जीवन मूल्यों के अन्यतम प्रतीक हैं। भारतीय मनीषा उन्हें संस्कृति पुरुष के रूप में पूजती है। उनका आदर्श चरित्र युगों-युगों से भारतीय जनमानस को सत्पथ पर चलने की प्रेरणा देता आ रहा है। शौर्य के इस महापर्व में विजय के साथ संयोजित दशम संख्या में सांकेतिक रहस्य संजोये हुए हैं। हिंदू तत्वदर्शन के मनीषियों की मान्यता है कि जो व्यक्ति अपनी आत्मशक्ति के प्रभाव से अपनी दसों इंद्रियों पर अपना नियंत्रण रखने में सक्षम होता है, विजयश्री उसका वरण अवश ...

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प