पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

केरल: बकरीद पर खुली छूट, ओणम पर प्रतिबंध की वकालत

WebdeskAug 03, 2021, 12:05 PM IST

केरल: बकरीद पर खुली छूट, ओणम पर प्रतिबंध की वकालत


कोरोना से निपटने में अक्षम साबित होती पिनरई सरकार ने बकरीद के निकट 18 जुलाई से 21 जुलाई यानी तीन दिनों के लिए लॉकडाउन तक हटा दिया था। लेकिन अब वही सरकार ओणम पर प्रतिबंध लगाने की वकालत करते दिखाई दे रही


 केरल में पिछले छह दिन बाद नए मामले 20 हजार से कम हुए हैं। यह आंकड़ा देश के अन्य राज्यों की तुलना में कहीं अधिक है। पर राज्य सरकार का तुष्टीकरण रवैया रह—रहकर बाहर आता है। बकरीद पर राज्य सरकार ने खुली छूट दी, जिसका परिणाम हुआ कि राज्य में कोरोना तेजी से बढ़ा। पर अब वही सरकार ओणम पर प्रतिबंध लगाने की वकालत करते दिखाई दे रही है। पिछले दिनों केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने लोगों से कहा कि वे ओणम त्यौहार के दौरान भीड़, कार्यक्रमों और समारोह में जाने से बचें। जितना हो सके रिश्तेदारों और परिवार से मिलने से बचें। खासकर अगर परिवार में छोटे बच्चे हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि केरल अभी कोविड-19 की दूसरी लहर से मुक्त नहीं हुआ है, ऐसे में लोगों को संक्रमण फैलने से रोकने और तीसरी लहर से बचाव के लिए अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है।

स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज का कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता व्यक्त करना इसलिए हास्यास्पद है क्योंकि बकरीद पर लॉकडाउन में ढील राज्य सरकार द्वारा ही दी गई थी। ऐसे में सवाल उठता है कि तब उन्होंने यह चिंता व्यक्त क्यों नहीं की ?  ज्ञात हो कि कोरोना से निपटने में अक्षम साबित होती पिनरई सरकार ने बकरीद के निकट 18 जुलाई से 21 जुलाई यानी तीन दिनों के लिए लॉकडाउन तक हटा दिया था। हद तो तब हो गई जब केरल सरकार ने 17 जुलाई को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बकरीद का जश्न मनाने के लिए छूट देने की घोषणा की थी। जबकि उस समय कोरोना के मामले अपने शीर्ष पर थे, बावजूद सारे नियमों को ताक पर रखा गया। यही वजह है कि बकरीद पर कोविड-19 प्रतिबंधों में ढील देने के कारण केरल कोराना महामारी की एक और लहर का सामना कर रहा है।

Follow Us on Telegram

Comments

Also read: आपदा प्रभावित 317 गांवों की सुध कौन लेगा, करीब नौ हजार परिवार खतरे की जद में ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्रतिमाएं
कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया

सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

सहारनपुर के केंदुकी गांव में बन रही जमीयत ए उलेमा हिन्द की बिल्डिंग का गांव वालों ने भारी विरोध किया है। विधायक की शिकायत पर डीएम अवधेश कुमार ने काम रुकवा दिया है। सहारनपुर के केंदुकी गांव में बन रही जमीयत ए उलेमा हिन्द की बिल्डिंग का गांव वालों ने भारी विरोध किया है। विधायक की शिकायत पर डीएम अवधेश कुमार ने काम रुकवा दिया है। जमीयत के अध्यक्ष मौलाना मदनी का कहना है कि ये मदरसा नहीं है बल्कि स्काउट ट्रेनिंग सेंटर है। अक्सर विवादों में घिरे रहने वाले जमीयत ए उलमा हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक् ...

सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण