पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

लवजिहाद: कन्वर्जन की कहानी निकिता की जुबानी

WebdeskJul 27, 2021, 12:20 PM IST

लवजिहाद: कन्वर्जन की कहानी निकिता की जुबानी

संजय तिवारी की फेसबुक वॉल से


जालंधर की निकिता सैनी एक अस्पताल में कर्मचारी हैं। स्वतंत्र सोच-विचार की रही होंगी, इसलिए पति की गुलामी बर्दाश्त नहीं हुई और तलाक ले लिया। इसके बाद भी नौकरी और जीवन चलता रहा। लेकिन भरी जवानी में अकेला जीवन कहां चल पाता है? उसी दौरान उनके स्कूल के एक सहपाठी सैयद आफरीन शाह से उनकी बातचीत होती रही। आफरीन जम्मू के पठानकोट का था और लगातार फेसबुक-व्हाट्सएप के जरिये उनसे जुड़ा हुआ था। निकिता कहती हैं कि आफरीन को उनके बारे में सब पता था कि वे तलाक ले चुकी हैं और अकेली रहती हैं।

इसी साल जनवरी में आफरीन मां को लेकर जालंधर इलाज के लिए आया। उसकी मां को कैंसर है। उसने निकिता से मदद मांगी। निकिता ने बढ़-चढ़कर मदद की और उन्हें अच्छे अस्पताल में दिखाया भी। इसी दौरान आफरीन की मां ने निकिता के सामने प्रस्ताव रखा कि वह उनके बेटे से शादी कर लें। वे लोग स्वतंत्र सोच के व्यक्ति हैं और इस्लाम स्वीकार करने का कोई दबाव नहीं डालेंगे। आफरीन ने भी निकिता से कहा, अकेले जीवन कैसे चलेगा? साथ-साथ चलते हैं। आफरीन ने कहा कि वह ‘जियो और जीने दो’ नामक एक संस्था चलाता है, जिसका उद्देश्य ही यही है कि तलाकशुदा या विधवा औरतों का उद्धार कर सके।
खैर, निकिता भी तैयार हो गई। दोनों का सहारनपुर कलियर शरीफ में निकाह कराया गया। अब पहली बार निकिता को धक्का लगा, क्योंकि निकाह के दौरान उसका नाम बदलकर नफीसा आरफीन शाह कर दिया गया। निकाहनामा में उसका नाम निकिता की बजाय नफीसा लिखा गया। उसने सवाल किया तो कहा गया कि ये तो सिर्फ एक औपचारिकता है। इससे कोई मतलब नहीं है। इस उदार (लिबरल) औपचारिकता के बाद दोनों हरिद्वार गये और मंदिर में हिन्दू रीति- रिवाज से भी विवाह किया।

विवाह के बाद निकिता जब पठानकोट पहंची तो एक-दो दिन सब सामान्य रहा। लेकिन तीसरी रात परिवार के लोग निकिता को लेकर बैठ गये। इस बैठक में आफरीन का बाप, बड़ा भाई, मां सभी शामिल थे। निकिता को समझाया गया कि वह आफरीन के बाप मकबूल शाह से निकाह कर ले। शादी के सप्ताह भर के भीतर निकिता पर यह दूसरा वज्रपात था। रातभर सब यही समझाते रहे कि वह उनके बाप से निकाह कर ले। निकिता रात में तैयार नहीं हुई तो अगले दिन सुबह उसकी सास ने फिर से समझाया कि देखो, मुझे कैंसर है और मैं अपने पति से जिस्मानी रिश्ता नहीं बना सकती। अगर तुम मेरे पति से निकाह कर लो तो उनकी जरूरत पूरी हो जाएगी और घर की बात घर में ही रह जाएगी। निकिता अपने शौहर के बाप के साथ हमबिस्तर होने के लिए तैयार न हुई और लौटकर जालंधर आ गई।

जालंधर पहुंचकर शौहर से बात की तो उसने भी कहा, इसमें क्या बुराई है। घर की बात घर में ही रह जाएगी। फिर भी निकिता तैयार न हुई। उसे समझ में आ गया कि उसका शौहर उससे घर में ही वेश्यावृत्ति करवाना चाहता है। इसके लिए उसे बीस हजार रुपये माहवार देने की पेशकश भी हुई, लेकिन वह तैयार न हुई और पुलिस में शिकायत कर दी। पर जम्मू का पुलिस महकमा निकिता की कोई मदद नहीं कर रहा, क्योंकि वहां भी सच्चे मोमिन बैठे हैं। निकिता को समझ नहीं आ रहा कि क्या करे? उसे डर है कि उसके शौहर का बंदूक का कारोबार है और अगर उसने इन लोगों की बात नहीं मानी तो उसकी हत्या कर दी जाएगी। स्वतंत्र सोच का इतना बुरा नतीजा निकलेगा, इसका अंदाज निकिता को शायद नहीं रहा होगा। 

Comments
user profile image
Anonymous
on Jul 27 2021 22:17:39

खतरनाक। हमारी बहनों को समझना होगा कि इन दरिंदो की मीठी चुपड़ी बातों में न आकर अपना ध्यान रखे।

user profile image
Anonymous
on Jul 27 2021 13:00:26

ऐसी कैसी आजाद ख्याली जो अपने पति को छोड़ दिया , अगर अकेले जीवन काटना‌ मुश्किल लग रहा था तो वापस अपने पति के पास जाती , मुस्लिम से शादी की क्या जरूरत थी ,

Also read: उपलब्धि ! यूपी में 44 जनपद कोरोना मुक्त ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: अब सोनभद्र में पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी, एफआईआर दर्ज ..

वैष्णो देवी यात्रा के लिए कोरोना की नई गाइडलाइन, RT-PCR टेस्ट जरूरी
कैप्‍टन के हमले के बाद बचाव की मुद्रा में कांग्रेस और पंजाब सरकार

बागपत में पकड़ा गया गोवंश से भरा कैंटर, डासना ले जा रहे थे गोकशी के लिए

मुर्स्लीम को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कैंटर में भरे थे 60 गोवंश, बारह की हो गई थी मौत। बागपत में एक कैंटर से 60 गोवंश मिले। पुलिस ने जब कैंटर पकड़ा तो उसमें बारह मवेशी मरे थे और दस को चोट लगी थी जिन्हें इलाज के लिए गौशाला भेज दिया गया। पुलिस ने बताया कि बागपत से गाजियाबाद जा रहे एक कैंटर वाहन को जब शक के आधार पर रोका गया तो उसमें क्षमता से ज्यादा ठूसे हुए गोवंश मिले। जब गाड़ी खुलवाई गई तो दस गोवंश मृत मिले और दस गंभीर अवस्था मे घायल मिले। पुलिस के मुताबिक वाहन में 60 गोवंशी थे। इस मामले में मु ...

बागपत में पकड़ा गया गोवंश से भरा कैंटर, डासना ले जा रहे थे गोकशी के लिए