विविध

बुर्का बनाम घूंघट कन्हैया के बुर्के में जावेद!

दिग्विजय सिंह का परोक्ष रूप से प्रचार करने भोपाल गए जावेद अख्तर ने वहां बयान दिया कि ‘बुर्के पर पाबंदी लगे तो राजस्थान में घूंघट पर भी पाबंदी लगनी चाहिए।’ जो अंतर उन्हें देखना चाहिए था वह है कि घूंघट के लिए फतवे नहीं निकलते। महिलाओं का खून नहीं होता। उन्हें तलाक नहीं दे दिया जाता। पर बुर्के के लिए यह सब होता आ रहा है..

विकास की बयार में झूमते काशी के मतदाता

चुनावी समय में काशी यानी नरेंद्र मोदी। गली नुक्कड़ से लेकर, चौक-चौराहों तक हर जगह हर-हर मोदी, घर-घर मोदी ही दिखाई दे रहा है।..

'अलवर' नहीं दिखा दिल्ली के मीडिया को

बीते 70 साल की कांग्रेसी व्यवस्था ने न सिर्फ मीडिया को गुलाम बनाया, बल्कि उन संस्थाओं को भी कठपुतली बना दिया जिनकी जिम्मेदारी है कि वे लोकतंत्र के इस चौथे स्तंभ की स्वतंत्रता को सुनिश्चित करें। ऐसी ही एक संस्था है एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया। कुछ गिने-चुने संपादकों की यह जेबी संस्था कथित तौर पर पूरे भारतीय मीडिया जगत के प्रतिनिधित्व का दावा करती है।..

''आतंकवाद को करारा जवाब देने का समय''

गत दिनों इंदौर में डॉ़. हेडगेवार स्मारक समिति द्वारा चिंतन यज्ञ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित थे मेजर जनरल (सेनि़) जी.डी. बक्शी। उन्होंने अपने वक्तव्य में कहा कि देश के नागरिकों की सुरक्षा ही सरकार का पहला उत्तरदायित्व है। भारतीय सेना के लिए देश की सुरक्षा और सेवा प्रमुख ध्येय होती है, इसे प्रत्येक सैनिक जीवनपर्यन्त निभाता है। ..

बलिदानियों का पुण्य स्मरण

'माटी री सुगंध-एक शाम बलिदानियों के नाम' ..

''संघ में आने से व्यक्ति वैचारिक रूप से पवित्र हो जाता है '

गत दिनों पुणे में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री भैयाजी जोशी ने रवींद्र तथा राजाभाऊ मुले लिखित और साप्ताहिक विवेक व हिंदुस्तान प्रकाशन द्वारा प्रकाशित पुस्तक 'परीसवेध' का विमोचन किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जैसे गंगा उसमें आने वाली सभी धाराओं को पवित्र करती है, वैसे ही संघ में आने वाला हर व्यक्ति वैचारिक रूप से पवित्र हो जाता है। संघ में जो भी आया, उसने ऐसा महसूस किया ही होगा।..

''शिक्षा के माध्यम से जगाएं राष्ट्रभक्ति का भाव''

''संघ को केवल अपने बूते काम नहीं करना है, बल्कि सारे समाज को साथ लेकर चलना है। समाज की समस्याओं का समाधान इसी समाज में मिल सकता है, यह संघ का विचार व भूमिका है।'' उक्त बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री भैयाजी जोशी ने कही। वे गत दिनों पुणे में रामकृष्ण पटवर्धन लिखित मराठी पुस्तक 'राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ-एक विशाल संगठन' का विमोचन कर रहे थे..

''हम सभी लोकतंत्र के महापर्व में बढ़ -चढ़कर हिस्सा लें''

पिछले दिनों अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की शिमला विवि. इकाई द्वारा विवि. सभागार में वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ने कहा कि सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे संतु निरामय: तथा वसुधैव कुटुम्बकम के मंत्र पर चलते हुए परिषद ने अपनी संस्कृति को संजोने का कार्य किया है। ..

'मानवता की धरोहर हैं संत'

जब-जब हम राह भटके, तब-तब संतो-महापुरुषों ने हमें राह दिखाई। संत सारी मानवता की धरोहर हैं| संत रविदास भी ऐसे ही एक तेज पुंज हैं। उनकी वाणी और प्रसंगों का एक स्थान पर संकलन हुआ है, ये बहुत अच्छी बात है।"..

संघ ने की पुलवामा हमले कड़ी निंदा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने पुलवामा हमले की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा है कि इस हमले से पूरा देश व्यथित है लेकिन जवानों का यह बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। सरसंघचालक श्री मोहनराव भागवत ने शहीद जवानों को श्रद्धाञ्जलि अर्पित करते हुए कहा कि यह कायरतापूर्ण हमला है जिसकी न केवल हम निंदा करते हैं बल्कि इसका कड़ाई से प्रत्युत्तर दिया जाए, ऐसी कामना करते हैं। ..

‘‘भारतीय समाज में आंतरिक एकात्मकता है’’

गत दिनों पंजाब विश्वविद्यालय में पंचनद शोध संस्थान की ओर से एक व्याख्यान कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय संपर्क प्रमुख श्री अनिरुद्ध देशपांडे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि भारतीय सामाजिक चिंतन में अनेक विचार हैं, यही विशेषता यहां के चिंतन अधिष्ठान का सौंदर्य है। इस विचार विविधता में कहीं भी विरोधाभास नहीं, अपितु आंतरिक सामंजस्यता है।..

छात्रों ने किया सूर्य नमस्कार

राजस्थान के 1125 विद्यालयों में पिछले दिनों सूर्यरथ सप्तमी तथा देवनारायण जयंती के अवसर पर साढ़े चार लाख से अधिक छात्रों ने सामूहिक सूर्यनमस्कार कर एक कीर्तिमान स्थापित किया। क्रीड़ा भारती की ओर से आयोजित कार्यक्रम में विद्या भारती से संबद्ध 550 विद्यालयों के बच्चों ने भी भाग लिया। ..

पाक दूतावास के सामने प्रदर्शन

भारतीय मजदूर संघ के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने दिल्ली स्थित चाणक्यपुरी में पुलवामा हमले के विरुद्ध पाकिस्तानी दूतावास के सामने प्रदर्शन किया। इस दौरान पाकिस्तान का झंडा जलाने के साथ ही कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तान मुदार्बाद के नारे भी लगाए। ..

‘‘अध्यात्म एवं विज्ञान में नहीं है कोई टकराव’’

‘‘देश में ज्ञान की जो प्राचीन परम्परा और विशेषता है, उससे हम थोड़ा दूर चले गए और अपने देश से ज्यादा पश्चिम को श्रेष्ठ मानने लगे हैं। अपने विज्ञान में तंत्र ज्ञान, यंत्र ज्ञान के साथ-साथ विज्ञान का आधुनिक क्षेत्र में विकास के अध्ययन की आवश्यकता है।’’..

ग्रामीण युवा खेलेंगे क्रिकेट

देश की पहली किसान क्रिकेट लीग में खेलने के इच्छुक युवा 17 जनवरी से अपना रजिस्ट्रेशन किसान क्रिकेट की वैबसाइट www.kisancricket.com पर करा सकते हैं। ..

'मौजूदा शिक्षा प्रणाली केवल सूचना का माध्यम बन कर रह गई''

'मौजूदा समय में भारतीय शिक्षा प्रणाली और विद्यार्थी दोनों एक परंपरागत ढांचे में बंध कर आगे बढ़ रहे हैं। इससे शिक्षा का असली उद्देश्य पूर्ण नहीं हो रहा। इसलिए शिक्षा प्रणाली और विद्यार्थियों को एक सीमित ढांचे से निकालना जरूरी है।'' ..

सेवा गाथा' का अनावरण

पिछले दिनों प्रसिद्ध उद्यमी प्रकाशजी धोका ने पुणे स्थित रा.स्व.संघ के मोतीबाग कार्यालय में सेवा विभाग की तरफ से सेवा प्रकल्पों की जानकारी देने वाली 'सेवा गाथा' वेबसाइट का अनावरण किया।..

''शाखा समाज को मजबूत बनाती है''

गत दिनों चेन्नै महानगर द्वारा बस्ती संगम का भव्य आयोजन किया गया। संगम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहनराव भागवत। ..

ज्ञान का तात्पर्य केवल किताबी जानकारी नहीं''

हमारे देश की भाषा, संस्कृति और समाज में विविधताएं हैं। इसलिए शिक्षा की दिशा एक समान हो कर भी पद्धतियों में भिन्नता हो सकती है। ऐसे में केंद्र से शिक्षा नीति बनना व्यवहारसम्मत नहीं होगा, इसलिए शिक्षा नीति विकेंद्रित होनी चाहिए।'..

''अखंड गंगा प्रवाह का आधुनिक रूप है संघ''

त दिनों भोपाल स्थित मानस भवन में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर केंद्रित 'कृति रूप संघ दर्शन' पुस्तक के खंडों के लोकार्पण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे प्रज्ञा प्रवाह के अखिल भारतीय संयोजक श्री जे़ नंदकुमार। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि संघ अखंड गंगा प्रवाह का आधुनिक रूप है।..

''न्यायिक प्रक्रिया का है सम्मान, लेकिन न्यायालय से ऊपर हैं भगवान''

पिछले दिनों नई दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र में तीन दिवसीय अयोध्या पर्व का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास एवं जूनापीठाधीश्वर स्वामी श्री अवधेशानंद गिरि जी महाराज के कर कमलो द्वारा संपन्न हुआ। ..

दीप-स्तम्भ की तरह चमकेगा भारत

इस देश का युवा जिस दिन विज्ञान, निर्माण और खेल के क्षेत्र में गोल्ड मेडल पाएगा, उस दिन माना जाएगा कि हमने मंदिर बनाया है।हमें राष्ट्र निर्माण का मंदिर बनाना है, तभी भारत ऊंचा उठेगा ..

‘हम धार्मिक हैं, इसीलिए पंथ निरपेक्ष हैं’

दुनिया को यदि विनाश से बचना है तो उसे भारत की शरण लेनी होगी। हम सर्वे भवंतु सुखिन: की बात करते हैं। दुनिया को हिंदुओं से सीखना चाहिए कि परिवार कैसे चलता है..

‘‘समस्या का धैर्य से सामना करना गीता की पहली सीख’’

समस्या सामने आने पर पीठ नहीं दिखाना, यह श्रीमद्भगवद्गीता की पहली सीख है। गीता को जन-जन तक पहुंचाना होगा। अगर श्रीमद्भगवदगीता घर-घर तक पहुंचे और उस पर सच्चे अर्थों में आचरण हो तो भारत आज की तुलना में सौ गुना सामर्थ्य के साथ विश्वगुरु के रूप में सामने आ सकता है।..

‘‘कानून को आचरण में लाने के लिए धर्म का जाग्रत होना आवश्यक’’

समाज के लिए कानून बनाए जाते हैं। परन्तु जो कानून में है, उसे आचरण में लाने के लिए धर्म का जाग्रत होना आवश्यक है। समाज धर्म से चलता है। धर्म का अर्थ पूजा नहीं, बल्कि धर्म का अर्थ मानवता है।’’ उक्त बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहनराव भागवत ने कही।..

संस्कृति जीवंत रखने के लिए सेवा भाव जरूरी

पद, प्रतिष्ठा, पैसा, पुरस्कार, इस उद्देश्य से किया गया कार्य, कर्म हो सकता है मगर सेवा नहीं। सेवा का तात्पर्य, ईश्वर को समर्पित किया गया कार्य होता है।..

‘‘राम जन्मभूमि का दिव्य स्थान बदला नहीं जा सकता’’

गत दिनों नई दिल्ली में श्रीराम जन्मभूमि राष्ट्रीय धरोहर की पुनर्स्थापना विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में विश्व हिन्दू परिषद् के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष श्री आलोक कुमार उपस्थित थे।..

केंद्र सरकार कानून बनाकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करे’

केंद्र सरकार कानून बनाकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करे’..

यूनेस्को ने दिया कुंभ को मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर का दर्जा

पिछले दिनों यूनेस्को ने भारत में होने वाले कुंभ मेले को मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर का दर्जा दिया है। दक्षिण कोरिया के जेजू में 4-9 दिसंबर तक हुए सम्मेलन में यह घोषणा की गई। विदेश मंत्रालय के मुताबिक यूनेस्को की विशेषज्ञ समिति ने कुंभ मेले को प्रतिनिधि सूची में शामिल करने का यह फैसला सभी सदस्य देशों की ओर से मिले प्रस्तावों की विवेचना के बाद किया।..

‘‘संघ की शाखा संस्कार देने वाला विद्यापीठ’’

पिछले दिनों गोरखपुर स्थित महाराणा प्रताप इण्टर कॉलेज परिसर, गोलघर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा महानगर के स्वयंसेवकों का समागम अयोजित किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय शारीरिक शिक्षण प्रमुख श्री सुनील कुलकर्णी। ..

‘‘ देश की कोई ताकत मंदिर बनने से नहीं रोक सकती ’’

कार्यक्रम को संबोधित करते डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामीगत 17 नवंबर को अरुंधति वशिष्ठ अनुसंधान पीठ, प्रयागराज द्वारा विश्व हिन्दू परिषद के संरक्षक रहे स्व. अशोक सिंहल की पुण्यतिथि पर काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी के स्वतंत्रता भवन में ‘श्रद्धेय अशोक सिंहल स्मृति व्याख्यान’ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता थे राज्यसभा सांसद व अरुंधति वशिष्ठ अनुसंधान पीठ के अध्यक्ष डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हमारा देश ऐतिहासिक मोड़ पर है जो राष्ट्र निर्माण का मोड़ है। राम ..

‘‘समाज जीवन की दिशा तय करने वाला समागम है कुंभ’’

   समारोह में अपने विचार रखते डॉ. महेंद्र सिंह। मंच पर उपस्थित विशिष्टजनपिछले दिनों जयपुर स्थित महावीर पब्लिक स्कूल के सभागार में युवा कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों से कला, शिक्षा, खेल आदि विधाओं में नेतृत्व कर रहे 700 से अधिक युवा सम्मिलित हुए। चयनित युवा नेतृत्व को 23 दिसंबर, 2018 को लखनऊ में होने वाले युवा विचार महाकुंभ में जाने का अवसर मिलेगा। कार्यक्रम में रा.स्व.संघ, राजस्थान के क्षेत्र प्रचारक श्री निंबाराम एवं उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री ..

विभिन्न मांगों को लेकर जनजातीय बंधुओं ने निकाला मोर्चा

महाराष्ट्र के जनजातीय बंधुओं की लंबित मांगों तथा वनवासियों के रूप में फर्जी पंजीकरण कराने वालों पर कार्रवाई किए जाने की मांग को लेकर वनवासी कल्याण आश्रम की ओर से गत 15 नवंबर को मुंबई में मोर्चा निकाला गया। उल्लेखनीय है कि वनवासी कल्याण आश्रम हितरक्षा प्रकल्प के माध्यम से जनजातीय समाज की समस्याओं का समाधान करने का प्रयास कर रहा है। इसी प्रयास के तहत समाज की समस्याओं पर सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए मोर्चे का आयोजन किया गया। इस संबंध में वनवासी कल्याण आश्रम की ओर से मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन ..

जनभावनाओं का सम्मान कर मंदिर निर्माण की पहल करे सरकार

गत दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री भैयाजी जोशी अयोध्या पहुंचे। इस दौरान उन्होंने रामलला का दर्शन किया एवं मणिराम छावनी में पहुंचकर श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास जी महाराज से आशीर्वाद लिया, श्रीरामजन्मभूमि न्यास कार्यशाला का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि ऐसी परिस्थितियां बनें कि अगली बार जब दर्शन करने आऊं तो रामलला टेंट के बजाय भव्य मंदिर में विराजमान मिलें। इसलिए केन्द्र सरकार जनभावनाओं का ध्यान रख मंदिर निर्माण के लिए समुचित ..

निरोगी काया जीवन का सबसे पहला सुख

आयुर्वेद और योग के मार्ग पर चलने से व्यक्ति कभी भी बीमार नहीं हो सकता है। हमारे ऋषि-मुनि यही करते थे और बरसों जीते थे। आज के माहौल में इस साधना की आवश्यकता और अधिक है..

जैविक तरीके से बढ़ सकते हैं अश्वगंधा के औषधीय गुण

भारतीय, अफ्रीकी और यूनानी पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में तीन हजार से अधिक वर्षों से अश्वगंधा का उपयोग हो रहा है। भारतीय वैज्ञानिकों ने एक ताजा अध्ययन में पाया है कि जैविक तरीके से उत्पादन किया जाए तो अश्वगंधा के पौधे की जीवन दर और उसके औषधीय गुणों में बढ़ोत्तरी हो सकती है।..

पश्चिम बंगाल में तूफान से 10 लोगों की मौत

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में मंगलवार शाम तेज बारिश के साथ आए आंधी- तूफान से 10 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई लोग जख्मी हो गए हैं। आपको बता दें कि हवाओं की गति बहुत तेज थीं, वो 98 किमी/घंटे की रफ्तार से चल रही थीं। हवाओं की वजह से काफी आर्थिक नुकसान हुआ है। मरने वालों के संख्या में अभी और भी इजाफा हो सकता है।..

साक्षात्कार - बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे  : ‘‘हर बच्चे को सुनानी है शिवाजी की कहानी’’

प्रसिद्ध मराठी लेखक और नाट्यविद् बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे उपाख्य बाबासाहब पुरंदरे ने नाटक ‘जाणता राजा’ के जरिए शिवाजी महाराज के जीवन चरित्र को जन-जन तक पहुंचाया है। प्रस्तुत हैं देवीदास देशपांडे की उनसे हुई बातचीत के अंश- नाटक ‘जाणत..

दिल्ली / शिवछत्रपति ऐतिहासिक गौरवगाथा-

दिल्ली में गंूजेगा ‘जय भवानी’लालकिले में 6 से 10 अप्रैल तक शिवाजी के जीवन पर आधारित नाटक ‘जणता राजा’ का पहली बार हिंदी में मंचन होने जा रहा है। इसको लेकर लोगों में गजब का उत्साह है। शिवाजी के चरित्र को जानने के लिए यह बहुत ही अच्..