पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

नरेंद्र मोदी ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने संस्कृत में शुभकामना संदेश भेजा

WebdeskAug 20, 2021, 03:00 PM IST

नरेंद्र मोदी ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने संस्कृत में शुभकामना संदेश भेजा


2014 से पहले प्रधानमंत्री कार्यालय यानी पीएमओ हिंदी में लिखे गए पत्रों का उत्तर भी अंग्रेजी में ही देता था, लेकिन अब यही पीएमओ संस्कृत भाषा में भी पत्रोत्तर देने लगा है। यही नहीं, पीएमओ से भेजे गए पत्रों में अब अंग्रेजी तिथि से पहले शक संवत् की तिथि डाली जाती है। यह सब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को अन्य प्रधानमंत्रियों से अलग करता है।



इन दिनों प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा भेजे गए एक शुभकामना संदेश की बड़ी प्रशंसा हो रही है। उन्होंने यह शुभकामना संदेश संस्कृत संवर्धन प्रतिष्ठानम् के न्यासी सचिव श्री चमू कृष्ण शास्त्री को भेजा है। उल्लेखनीय है कि इन दिनों संस्कृत सप्ताह मनाया जा रहा है। 19 अगस्त से शुरू हुआ यह सप्ताह 25 अगस्त को समाप्त होगा। इसी के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 18 अगस्त को शुभकामना संदेश भेजा है। इसमें उन्होंने कहा है कि संस्कृत भाषा संस्कृति और सभ्यता को बढ़ाने वाली है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि हमारे जीवन के हर क्षेत्र का ज्ञान संस्कृत साहित्य में समाहित है। यह भाषा भारतीय ज्ञान, विज्ञान, संस्कृति, संस्कार, दर्शन, मूल्य की वाहिका है। उन्होंने यह भी लिखा है कि विश्व की अनेक भाषाओं का आधार संस्कृत है।
श्री चमू कृष्ण शास्त्री के अनुसार श्री नरेंद्र मोदी ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने संस्कृत में शुभकामना संदेश भेजा है।  

अब प्रधानमंत्री कार्यालय में एक और बदलाव दिख रहा है। वह है वहां से भेजे गए पत्रों में तिथि का क्रम बदलना। पहले पत्रों में केवल अंग्रेजी तिथि हुआ करती थी। किसी—किसी पत्र में अंग्रेजी तिथि के साथ—साथ शक संवत् की तिथि डाली जाती थी और वह भी अंग्रेजी तिथि के नीचे। लेकिन अब समय बदल गया है। अब शक संवत् की तिथि पहले होती है और बाद में अंग्रेजी तिथि होती है।

Follow Us on Telegram

 

 
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Sep 07 2021 01:56:25

अति सुंदर अद्भुत भारतीय संस्कृति

Also read: ऑस्कर में नहीं जाएगी फिल्म 'सरदार उधम सिंह', अंग्रेजों के प्रति घृणा दिखाने की बात आ ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: सूचना लीक मामला: सीबीआई ने नौसेना के अधिकारियों को किया गिरफ्तार, उच्च स्तरीय जांच के ..

भारत का रक्षा निर्यात पांच वर्षों में 334 फीसदी बढ़ा, 75 से अधिक देशों को सैन्य उपकरणों का कर रहा निर्यात
गुरुजी के प्रयासों से ही आज जम्मू-कश्मीर है भारत का अभिन्न अंग

फिर भारत से उलझने को बेताब है चीन, नए ‘लैंड बॉर्डर लॉ’ की आड़ में कब्जाई जमीन पर अधिकार जमाने की तैयारी!

 नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की स्थायी समिति ने बीजिंग में संसद की समापन बैठक के दौरान इस कानून को पारित किया। ताजा जानकारी के अनुसार, अगले साल 1 जनवरी को यह कानून लागू कर दिया जाएगा भारत तथा चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर चीन की शैतानी मंशा में एक और पहलू तब जुड़ गया जब उसने अपनी संसद के परसों खत्म हुए सत्र में सीमावर्ती इलाकों के संबंध में अपनी 'संप्रभुता तथा क्षेत्रीय अखंडता को उल्लंघन से परे' बताते हुए नया लैंड बार्डर लॉ पारित कराया। उल्लेखनीय है कि भारत-चीन के बीच 3,488 कि ...

फिर भारत से उलझने को बेताब है चीन, नए ‘लैंड बॉर्डर लॉ’ की आड़ में कब्जाई जमीन पर अधिकार जमाने की तैयारी!