पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

जड़ी—बूटियों के घोल से नाले की सफाई की नई तकनीक

WebdeskJul 09, 2021, 11:42 AM IST

जड़ी—बूटियों के घोल से नाले की सफाई की नई तकनीक

 इन दिनों पटियाला के धामोमाजरा में एक नाले की सफाई जड़ी—बूटियों के घोल से की जा रही है। इसका बहुत ही अच्छा परिणाम निकल रहा है। नाले की बदबू खत्म हो गई है और जल—जमाव के कारक तत्व भी खत्म हो रहे हैं।

अब तक मशीन से नाले की सफाई होती थी, लेकिन अब इसमें जड़ी—बूटियों का भी प्रयोग होने लगा है। इन दिनों यह प्रयोग पंजाब के पटियाला में धामोमाजरा के एक नाले की सफाई में किया जा रहा है। इस नाले में जड़ी—बूटियों से बने घोल, जिसे 'काउनामिक्स हर्बल कंसंट्रेट' कहा जाता है, को दो महीने से प्रतिदिन एक समान म़ात्रा में डाला जा रहा है। इसका बहुत ही उत्साहवर्धक परिणाम सामने आ रहा है। स्थानीय लोगों ने बताया कि दो महीने पहले नाले के पास रहने वालों को बहुत ही दिक्कत होती थी।

बदबू के कारण लोग परेशान थे। अब ऐसा नहीं हो रहा है। बदबू लगभग समाप्त हो चुकी है। अभी और दो महीने तक यह घोल डाला जाएगा। इस घोल को 'वैदिक सृजन' नामक कंपनी तैयार करती है। घोल में आक, आंवला, बबूल, अर्जुन, बरगद, चितावर,वन नींबू, भोटिया बादाम और ब्राह्मी आदि मिलाए जाते हैं।

दावा किया जा रहा है कि इस घोल से नाले के प्रवाह को बाधित करने वाले तत्व भी खत्म हो जाते हैं और नाला पूरी तरह साफ हो जाता है। उम्मीद है कि यह प्रयोग पूरी तरह सफल रहेगा और देश—दुनिया को जड़ी—बूटियों की ताकत का अनुभव एक बार फिर से होगा। 

Comments

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्र ..

कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया
सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प

  विजयादशमी के महानायक श्रीराम भारतीय जनमानस की आस्था और जीवन मूल्यों के अन्यतम प्रतीक हैं। भारतीय मनीषा उन्हें संस्कृति पुरुष के रूप में पूजती है। उनका आदर्श चरित्र युगों-युगों से भारतीय जनमानस को सत्पथ पर चलने की प्रेरणा देता आ रहा है। शौर्य के इस महापर्व में विजय के साथ संयोजित दशम संख्या में सांकेतिक रहस्य संजोये हुए हैं। हिंदू तत्वदर्शन के मनीषियों की मान्यता है कि जो व्यक्ति अपनी आत्मशक्ति के प्रभाव से अपनी दसों इंद्रियों पर अपना नियंत्रण रखने में सक्षम होता है, विजयश्री उसका वरण अवश ...

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प