पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

रूस की वैक्सीन स्पुतनिक वी की एक ही डोज प्रभावी

WebdeskJul 15, 2021, 06:40 PM IST

रूस की वैक्सीन स्पुतनिक वी की एक ही डोज प्रभावी

रूस द्वारा निर्मित कोरोना की वैक्सीन स्पुतनिक वी की एक डोज कोरोना को रोकने में प्रभावी है। स्पुतनिक को भारत में इस्तेमाल की मंजूरी दी जा चुकी है। सितंबर से भारत में भी इसका उत्पादन शुरू हो जाएगा

भारत में बड़े पैमाने पर इस्‍तेमाल की जा रही कोरोना वैक्‍सीन स्पुतनिक वी को लेकर ताजा शोध में एक अहम जानकारी सामने आई है। शोध में कहा गया है कि इस वैक्‍सीन के केवल एक डोज से ही काफी रोग प्रतिरोधक क्षमता बनती है।

स्पुतनिक-वी की एक खुराक कोरोना के खिलाफ अधिक रोग प्रतिरोधक क्षमता बना सकती है। सार्स-सीओवी-2 वायरस के कारण ही कोविड-19 होता है और स्‍पुतनिक वी इसमें कारगर है। ‘स्पुतनिक-वी’ की दो खुराकों के 92 प्रतिशत रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाने की बात सामने आई थी। कोरोना वायरस रोधी टीके ‘स्पुतनिक-वी’ की एक खुराक सार्स-सीओवी-2 के खिलाफ अधिक रोग प्रतिरोधक क्षमता बना सकती है। एक अध्ययन में यह बात सामने आई है। सार्स-सीओवी-2 वायरस के कारण ही कोविड-19 होता है। इससे पहले एक अध्ययन में ‘स्पुतनिक-वी’ की दो खुराकों के कोविड-19 के खिलाफ 92 प्रतिशत रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाने की बात सामने आई थी। ‘स्पुतनिक-वी’ का निर्माण दो ‘एडिनोवायरस’ को मिलाकर किया गया है।

इस अध्ययन के वरिष्ठ लेखक एवं अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स के ‘फंडेसियन इंस्टीट्यूटो लेलोइर-कॉनिकेट’ के एंड्रिया गामार्निक ने कहा, ‘दुनिया के कई क्षेत्रों में सीमित टीके की आपूर्ति और असमान टीके वितरण के कारण, स्वास्थ्य अधिकारियों को टीकाकरण रणनीतियों को अनुकूलित करने के लिए टीकों की रोग प्रतिरोधक क्षमता से जुड़े आंकड़े संकलित करने की तत्काल आवश्यकता है।' उन्होंने कहा, ‘हमारे द्वारा प्रस्तुत सहकर्मी-समीक्षा आंकड़े वर्तमान वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल में सार्वजनिक स्वास्थ्य निर्णयों का मार्गदर्शन करने के लिए जानकारी प्रदान करते हैं।’ शोधकर्ताओं ने नए अध्ययन में 289 स्वास्थ्यकर्मियों पर ‘स्पुतनिक-वी’ की एक खुराक और दो खुराक की सार्स-सीओवी-2 के खिलाफ बनी रोग प्रतिरोधक क्षमता की तुलना की।

पहली खुराक के बाद, इन प्रतिभागियों में से 94 प्रतिशत में वायरस के खिलाफ ‘इम्युनोग्लोबुलिन जी (आईजीजी) एंटीबॉडी’ विकसित हुई और 90 प्रतिशत ने ‘एंटीबॉडी’ को निष्क्रिय करने के सबूत दिखाए, जो कोशिकाओं को संक्रमित करने के लिए वायरस की क्षमता में हस्तक्षेप करते हैं। अनुसंधान ने पाया कि पहले से संक्रमित प्रतिभागियों में आईजीजी और ‘न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी’ का स्तर एक खुराक के बाद उन लोगों की तुलना में काफी अधिक था, जिन्हें संक्रमण नहीं हुआ था। वहीं, दूसरी खुराक ने पहले से संक्रमितों में ‘एंटीबॉडी’ को निष्क्रिय करने के उत्पादन में वृद्धि नहीं की। उन्होंने कहा कि इन लोगों को एक खुराक के बाद उच्च रोग प्रतिरोधक क्षमता का स्तर, दूसरी खुराक देरी से लगाए जाने का प्रशासन को सुझाव देता है, ताकि अधिक से अधिक लोगों को जल्द से जल्द टीके लग सके।
Follow Us on Telegram

Comments

Also read: विहिप की मांग अंतरराष्ट्रीय जांच आयोग भेजा जाए बांग्लादेश ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: कला साधक स्व. अमीरचंद जी को दी गई श्रद्धांजलि ..

सेवा का माध्यम बना पुराना सामान
शरजील इमाम की जमानत याचिका खारिज, 'फ्री स्पीच' के नाम पर दंगे भड़काने की छूट नहीं दी जा सकती

नित नई ऊंचाइयों को छू रहा भारत, रक्षा उत्पाद निर्यात करने वाले 25 देशों की सूची में शामिल

  भारत रक्षा क्षेत्र में नित नई ऊंचाइयों को छू रहा है। स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट 2020 की रिपोर्ट के अनुसार भारत अब रक्षा उत्पादों के निर्यात करने वाले शीर्ष 25 देशों की सूची में शामिल हो गया है  रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बेंगलुरू में सार्वजनिक क्षेत्र के रक्षा उपक्रमों के एक कार्यक्रम में कहा कि स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट 2020 की रिपोर्ट के अनुसार भारत अब रक्षा उत्पादों के निर्यात करने वाले शीर्ष 25 देशों की सूची में शामिल है। उन्होंने कहा कि मु ...

नित नई ऊंचाइयों को छू रहा भारत, रक्षा उत्पाद निर्यात करने वाले 25 देशों की सूची में शामिल