पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

पाकिस्तान: इस्लामी देश का नया छलावा ''एंटी मनी लॉन्डरिंग एंड टेरर फाइनेंसिंग सेल'!

WebdeskJul 06, 2021, 02:53 PM IST

पाकिस्तान: इस्लामी देश का नया छलावा ''एंटी मनी लॉन्डरिंग एंड टेरर फाइनेंसिंग सेल'!

आतंकियों को पैसा उपलब्ध कराने और वित्तीय धांधलियों के आरोपी पाकिस्तान का एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से निकलने की नई कवायद  

क्या प्रधानमंत्री इमरान खान (बाएं) लगाम कस पाएंगे आतंकी हाफिज सईद पर (दाएं)

दुनिया के सामने पाकिस्तान ने कहा भले ही है कि उसने एक भ्रष्टाचार निरोधी निगरानी तंत्र बनाया है, लेकिन विशेषज्ञ इसे उस इस्लामी देश का एक और छलावा ही मान रहे हैं। जून, 2018 में फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स यानी एफएटीएफ की ग्रे सूची में पाकिस्तान का नाम डाले जाने के बाद से ही वह खुद को सुधारने के ऐसे कई दिखावे पहले भी कर चुका है इसलिए इस ताजा कवायद को भी कोई गंभीरता से लेने को तैयार नहीं है।
समाचार है कि पाकिस्तान के एंटी करप्‍शन वॉचडाग ने वित्तीय अपराधों और तमाम संसाधनों के गैरकानूनी तरीके से एक से दूसरे के हाथ जाने की जांच के लिए यह 'टेरर फाइनेंसिंग सेल' स्थापित किया है। इसकी स्थापना को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से लेकर नीचे तक के तमाम नेता अब इस 'सेल' के प्रचार-प्रसार में लगे हैं ताकि अंतरराष्ट्रीय बिरादरी यही समझे कि इस्लामी देश एफएटीएफ की उस ग्रे सूची से बाहर आने के लिए 'सकारात्मक प्रयास' कर रहा है।
उल्लेखनीय है कि पेरिस में मुख्यालय वाली स्थित फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) दुनिया के तमाम देशों पर मुख्यत: दो पैमानों के हिसाब से नजर रखता है। एक, वहां वित्तीय भ्रष्टाचार किस हद तक है और दो, आतंकवाद को कहीं पैसा तो नहीं पहुंच रहा। पाकिस्तान को तीन साल पहले दोनों मामलों में दोषी पाया गया था और इसीलिए जून 2018 में उसका नाम एफएटीएफ की ग्रे सूची में डाला गया था। उसके बाद से हर साल वह पैमानों पर असफल होता रहा और ग्रे सूची में शामिल रहा।

सब जानते हैं कि एफएटीएफ ने पाकिस्‍तान को 2019 के आखिर तक धन शोधन और आतंक को आर्थिक मदद पर रोक लगाने हेतु एक एजेंडा अमल में लाने को कहा था। लेकिन अपनी आदत के अनुसार इस्लामी देश ने इस पर ध्यान ही नहीं दिया या कहें घर में पल रहे हाफिज सईद, मसूद अजहर और सलाहुद्दीन जैसे आतंकियों के सामने वहां के हुक्मरानों की एक न चली। पाकिस्‍तान के अंग्रेजी दैनिक 'डॉन' में प्रकाशित रपट के अनुसार, एफएटीएफ की ग्रे सूची से नाम हटवाने की जुगत में लगे पाकिस्‍तान के एनएबी ने यह कदम उठाया है।

सूत्रों के अनुसार, एफएटीएफ की इस बार की बैठक में अधिकांश सदस्यों का यही रुख था कि पाकिस्‍तान के साथ सख्ती से पेश आना चाहिए। उसे हर हाल में आतंकियों के हाथों में पैसा पहुंचने के रास्तों पर रोक लगानी होगी। इसके अलावा पाकिस्तान को संयुक्‍त राष्‍ट्र की ओर से घोषित आतंकी संगठनों पर लगाम लगानी होगी। हालांकि विशेषज्ञ मानते हैं कि पाकिस्तान का राजनीतिक और सैन्य नेतृत्व इस दृष्टि से सक्षम नहीं है। एफएटीएफ ने पाकिस्‍तान से हाफिज सईद और मसूद अजहर जैसे आतंकी सरगनाओं पर कानूनी कार्रवाई करने को भी कहा है।

Comments

Also read: पाक जीत का जश्न मनाने वालों पर हुई FIR तो आतंकी संगठन ने दी धमकी, माफी मांगें नहीं तो ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: 'मैच में रिजवान की नमाज सबसे अच्छी चीज' बोलने वाले वकार को वेंकटेश का करारा जवाब-'... ..

जम्मू-कश्मीर में आतंकी फंडिंग मामले में जमात-ए-इस्लामी के कई ठिकानों पर NIA का छापा
प्रधानमंत्री केदारनाथ में तो बीजेपी कार्यकर्ता शहरों और गांवों में एकसाथ करेंगे जलाभिषेक

गहलोत की पुलिस का हिन्दू विरोधी फरमान, पुलिस थानों में अब नहीं विराजेंगे भगवान

राजस्थान पुलिस द्वारा थानों में पूजा स्थल का निर्माण निषिद्ध करने के आदेश पर सियासत तेज हो गयी है. भाजपा ने इसे कांग्रेस का हिन्दू विरोधी फरमान बताते हुए तुरंत वापस लेने की मांग की      राजस्थान पुलिस ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें थानों में पूजा स्थल का निर्माण नहीं कराने को लेकर कहा गया है। आदेश में जिला पुलिस अधीक्षकों को पुलिस कार्यालय परिसरों/ पुलिस थानों में पूजा स्थल का निर्माण नहीं कराने संबंधी कानून का कड़ाई से पालन करने का निर्देश दिया गया है।   रा ...

गहलोत की पुलिस का हिन्दू विरोधी फरमान, पुलिस थानों में अब नहीं विराजेंगे भगवान