पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

पाकिस्‍तान ने अफगानिस्‍तान में भेजे 10 हजार आतंकी, निशाने पर भारतीय अवसंरचनाएं

WebdeskJul 20, 2021, 03:24 PM IST

पाकिस्‍तान ने अफगानिस्‍तान में भेजे 10 हजार आतंकी, निशाने पर भारतीय अवसंरचनाएं

14 जुलाई को अफगानिस्तान-पाकिस्तान सीमावर्ती शहर चमन में तालिबान के पाकिस्तानी समर्थक


अफगानिस्‍तान लगातार पाकिस्‍तान से अपील कर रहा है कि वह युद्धग्रस्‍त देश में आतंकियों को भेजना और उन्‍हें समर्थन देना बंद करे। लेकिन पाकिस्‍तान खुलकर तालिबान का समर्थन कर रहा है। अब उसने 10 हजार से अधिक आतंकियों को अफगानिस्‍तान में भेजा है। पाकिस्‍तान की खु‍फिया एजेंसी आईएसआई ने इन अपने आतंकियों से कहा है कि वह अफगानिस्तान में भारत की सहायता से तैयार अवसंरचनाओं को ध्‍वस्‍त करे। तालिबान और पाकिस्‍तान के बीच गठजोड़ का आलम यह है कि अफगानिस्तान के स्पिन बोल्डक इलाके में तालिबान के झंडे के साथ पाकिस्‍तानी झंडा भी लहरा रहा है।

अफगानिस्‍तान में बीते दो दशकों में भारत ने शिक्षा सहित विभिन्‍न क्षेत्रों में 3 अरब डॉलर से अधिक का निवेश कर यहां बुनियादी ढांचे का विकास किया है। इनमें 2015 में बनी अफगान संसद भवन और डेलारम-जरांज सलमा बांध के बीच 218 किलोमीटर लंबी सड़क भी शामिल है। इसके अलावा, हाल ही में भारत ने काबुल में पेयजल उपलब्‍ध कराने के लिए शहतूत बांध सहित कई अन्‍य परियोजनाओं में 35 लाख डॉलर के निवेश की घोषणा की थी।

भारत के सहयोग से अफगानिस्‍तान में चल रहे विकास कार्यों से पाकिस्‍तान चिढ़ता है। वह अफगानिस्‍तान में भारत के बढ़ते दखल को रोकने के लिए हर संभव प्रयास करता है। अब उसने आतंकियों की खेप भेजी है। खबरों के मुताबिक, आईएसआई ने पाकिस्तानी आतंकियों को खास तौर से अफगानिस्तान में भारत द्वारा विकसित अवसंरचनाओं को ध्‍वस्‍त करने के निर्देश दिए हैं।

यानी वह युद्धग्रस्‍त देश में भारत द्वारा किए गए अब तक के कार्यों को पूरी तरह तहस-नहस करना चाहता है। पाकिस्तान की सहायता से हक्कानी आतंकी नेटवर्क अफगानिस्तान में भारत के खिलाफ काम कर रहा है। अभी कुछ दिन पहले ही तालिबान के बढ़ते वर्चस्‍व के बीच भारत ने अपने 52 राजनयिकों और अधिकारियों को अफगानिस्‍तान से बुला लिया था।

Follow Us on Telegram

Comments
user profile image
Anonymous
on Jul 23 2021 06:41:02

पूरी दुनिया के बुद्धिजीवियों को मिलकर आतंकवाद के खिलाफ वैचारिक युद्ध लड़ना होगा

user profile image
Vivek Ranjan Sonbhadra
on Jul 22 2021 16:58:24

तालिबान को समर्थन देना पाकिस्तान की मजबूरी है । पाकिस्तान तो आतंकवाद की खेती पर ही चल रहा है। आतंकवाद और उग्रवाद पर ही पाकिस्तान चल रहा है।

Also read: पाकिस्तान के पूर्व राजदूत ने की भारत की तारीफ, जम्मू-कश्मीर में दुबई के निवेश को बताय ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: पाकिस्तान पर एफएटीएफ की मार, 'ग्रे लिस्ट' से बाहर नहीं हुआ आतंकियों का इस्लामी पहरेदा ..

अब तेज आवाज में नहीं होगी अजान, लोग हो रहे अवसाद के शिकार, 70 हजार मस्जिदों ने कम की लाउडस्पीकरों की आवाज
क्या इस्लामिक नहीं, सेक्युलर देश बनेगा बांग्लादेश! हिंदू विरोधी मजहबी उन्माद के बीच बांग्लादेश के मंत्री ने दिया बयान

थम गया 75 साल पुराने बंद पड़े मंदिरों की मरम्मत का काम

पाकिस्तान में गत अगस्त माह में रहीम यार खान सूबे में मजहबी उन्मादियों द्वारा मशहूर सिद्धिविनायक गणेश मंदिर को तोड़े जाने के बाद इमरान सरकार ने सात प्राचीन मंदिरों के भी पुनरुद्धार का वादा किया था पाकिस्तान में कम से कम सात प्राचीन मंदिर ऐसे हैं जो पिछले 75 साल से बंद पड़े हैं। कुछ दिन पहले पाकिस्तान ने इनकी मरम्मत करके जीर्णोद्धार करने के बड़े-बड़े वादे किए थे, लेकिन वहां जिस सड़क निर्माण विभाग के अंतर्गत यह काम आता है उसमें भ्रष्टाचार इतना चरम पर पहुंचा हुआ है कि उसकी सारी योजनाएं धरी रह ग ...

थम गया 75 साल पुराने बंद पड़े मंदिरों की मरम्मत का काम