पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

रेड लाइट एरिया में सेवा भारती के कार्यकर्ताओं ने बांटी राहत सामग्री

WebdeskJun 10, 2021, 04:31 PM IST

रेड लाइट एरिया में सेवा भारती के कार्यकर्ताओं ने बांटी राहत सामग्री

     इन दिनों कोरोना के कारण देह व्यापार से जुड़ीं महिलाओं के सामने भुखमरी की समस्या पैदा हो गई है। कुछ कारणवश ये महिलाएं सरकारी मदद नहीं ले पाती हैं। इसलिए कई घरों में चूल्हा तक नहीं जल पाता है। इन महिलाओं की मदद के लिए दिल्ली सेवा भारती के कार्यकर्ता आगे आए हैं।

    इस कोरोना काल में दिल्ली, मुम्बई जैसे शहरों में देह व्यापार से जुड़ीं महिलाएं अनेक तरह की समस्याओं का सामना कर रही हैं। सबसे बड़ी समस्या है पैसे की। चूंकि इन दिनों उनके पास न के बराबर ग्राहक आते हैं, इसलिए कई घरों में चूल्हा तक नहीं जल रहा है। ऐसे में गत दिनों दिल्ली सेवा भारती ने रेडलाइट एरिया जीबी रोड पर रहने वाली इन महिलाओं के बीच राहत सामग्री का वितरण किया। सामग्री वितरण करते समय यह भी पता चला कि इन महिलाओं के पास तो गैस भरवाने के लिए भी पैसे नहीं हैं। इसके बाद सेवा भारती के कार्यकर्ता 50 बड़े और 100 छोटे सिलेंडर लेकर वहां पहुंचे और उनके बीच बांटा। मदद के दौरान जब कार्यकर्ताओं ने उन महिलाओं को बहनी जी के नाम से संबोधित किया, तो वे बहुत ही भावुक हो गईं।

 

    समतोल फाउंडेशन की नई पहल
    वहीं मुम्बई में देह व्यापार से जुड़ीं महिलाओं के बच्चों को स्वावलंबी बनाने के लिए सामाजिक संगठन 'समतोल फाउंडेशन' ने एक नई परियोजना शुरू की है। इसके अंतर्गत लड़कों को सामान्य भाषा की जानकारी देने के साथ—साथ खेती, प्लंबिंग, सिलाई, नर्सरी, कम्प्यूटर, मुर्गीपालन जैसे व्यावसायिक ज्ञान दिया जा रहा है। 'समतोल फाउंडेशन' के अध्यक्ष विजय जाधव ने बताया कि रेडलाइट एरिया में जो बच्चियां पैदा होती हैं, उन्हें तो वे लोग सहेज कर रखते हैं, ताकि आगे चलकर वे भी देह व्यापार के काम में लग जाएं। पर लड़कों के साथ बहुत ही बुरा व्यवहार होता है। सात—आठ साल के लड़कों को भीख मांगने, कूड़ा बीनने जैसे काम में लगा दिया जाता है। लॉकडाउन के दौरान ये बच्चे इस तरह के कार्य नहीं कर पा रहे थे,  इसलिए समतोल फाउंडेशन ने ऐसे 25 बच्चों को व्यावसायिक प्रशिक्षण देने का काम शुरू किया है। उन्होंने यह भी बताया कि कार्यकर्ता ऐसे और बच्चों की पहचान कर रहे हैं। जितने भी बच्चे मिलेंगे, सभी को व्यावसायिक प्रशिक्षण देकर स्वावलंबी बनाने का कार्य किया जाएगा।
    उल्लेखनीय है कि 'समतोल फाउंडेशन' गत कई वर्षों से बेसहारा बच्चों को संवारने का काम कर रहा है।

Comments
user profile image
Anonymous
on Jun 10 2021 20:43:11

सेवा ही परम धर्म

Also read: आपदा प्रभावित 317 गांवों की सुध कौन लेगा, करीब नौ हजार परिवार खतरे की जद में ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्रतिमाएं
कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया

सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

सहारनपुर के केंदुकी गांव में बन रही जमीयत ए उलेमा हिन्द की बिल्डिंग का गांव वालों ने भारी विरोध किया है। विधायक की शिकायत पर डीएम अवधेश कुमार ने काम रुकवा दिया है। सहारनपुर के केंदुकी गांव में बन रही जमीयत ए उलेमा हिन्द की बिल्डिंग का गांव वालों ने भारी विरोध किया है। विधायक की शिकायत पर डीएम अवधेश कुमार ने काम रुकवा दिया है। जमीयत के अध्यक्ष मौलाना मदनी का कहना है कि ये मदरसा नहीं है बल्कि स्काउट ट्रेनिंग सेंटर है। अक्सर विवादों में घिरे रहने वाले जमीयत ए उलमा हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक् ...

सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण