पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

राज्‍य 31 जुलाई तक 'एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड' योजना लागू करें : सर्वोच्‍च न्‍यायालय

WebdeskJun 29, 2021, 03:46 PM IST

राज्‍य 31 जुलाई तक 'एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड' योजना लागू करें : सर्वोच्‍च न्‍यायालय

सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने सभी राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों से 31 जुलाई तक ‘एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड’ योजना लागू करने को कहा है ताकि देशभर में सभी प्रवासी श्रमिकों को इसका लाभ मिल सके, भले ही उनका राशन कार्ड कहीं भी पंजीकृत हो। राज्यों से कोविड महामारी तक सामुदायिक रसोई चलाने और श्रमिकों को सूखा राशन उपलब्‍ध कराने को कहा है।

सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने सभी राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 31 जुलाई, 2021 तक 'एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड' योजना लागू करने का निर्देश दिया है। शीर्ष अदालत ने कहा है कि कोई चाहे देश के किसी भी हिस्‍से का हो, उसका राशन कार्ड किसी भी स्थान पर पंजीकृत हो, उसे इसका लाभ मिलना चाहिए। साथ ही, केंद्र और राज्‍य सरकारों को सूखा राशन उपलब्‍ध कराने और कोरोना महामारी जारी रहने तक प्रवासी श्रमिकों के लिए सामुदायिक रसोई जारी रखने का भी निर्देश दिया।

न्‍यायमूर्ति अशोक भूषण और न्‍यायमूर्ति एम.आर शाह की पीठ ने कहा, ‘‘एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड’ एक ‘महत्‍वपूर्ण नागरिक केंद्रित सुधार’ है। इसका कार्यान्‍वयन राष्‍ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम और अन्‍य कल्‍याणकारी योजनाओं के तहत लाभार्थियों को राशन की उपलब्‍धता सुनिश्चित करता है, खासकर प्रवासी श्रमिकों और उनके परिवारों देशभर में किसी भी उचित मूल्‍य की दुकान पर। इसलिए, हमारा विचार है कि जिन राज्‍यों ने अभी तक इस योजना को लागू नहीं किया है, उन्‍हें इसे लागू करना चाहिए।’’ इसी के साथ अदालत ने निर्देश दिया कि जिन राज्‍यों ने ‘एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड योजना’ को लागू नहीं किया है, वे हर हाल में 31 जुलाई, 2021 तक इसे लागू करें।

अदालत ने और क्‍या कहा

इसके अलावा, शीर्ष अदालत ने केंद्र और राज्‍य सरकारों को संगठित क्षेत्र सहित सभी प्रवासी श्रमिकों का पंजीकरण 31 जुलाई तक सकारात्‍मक रूप से पूरा करने का निर्देश दिया है। साथ ही, केंद्र सरकार से कहा कि वह राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी) से संपर्क करे और सभी असंगठित श्रमिकों और प्रवासी श्रमिकों के पंजीकरण के लिए पोर्टल तैयार करे। यह प्रक्रिया 31 जुलाई तक शुरू हो जानी चाहिए। शीर्ष अदालत ने यह भी कहा है कि राज्‍यों की मांग के आधार पर केंद्र उन्‍हें अनाज उपलब्‍ध कराए ताकि प्रवासी श्रमिकों को अनाज मिल सके। इसके अलावा, राज्यों से सभी संबंधित संस्थानों और ठेकेदारों को अंतर राज्‍य प्रवासी कामगार अधिनियम-1979 के तहत पंजीकृत करने का निर्देश दिया है।

इससे पूर्व के आदेश में सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने कहा था ि‍क प्रवासी श्रमिकों के पंजीकरण की प्रक्रिया बहुत धीमी है। इसे तेज किया जाए ताकि महामारी के समय में प्रवासी श्रमिकों को इस योजना का लाभ मिल सके।

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Jun 29 2021 21:37:55

एक देश एक राशन कार्ड एक भारतवासी होने के नाते बहुत बड़ी उपलब्धी है। अब हम देश का किसी भी कोने में जाये तो स्थानीय लोगों की तरह हम भी अपना राशन ले सकेंगे।

Also read: ऐसी दीवाली! कैसी दीवाली!! ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: हिन्दू होने पर शर्मिंदा स्वरा भास्कर, पर तब क्यों हो जाती हैं खामोश ? ..

श्री सौभाग्य का मंगलपर्व
तो क्या ताइवान को निगल जाएगा चीन! ड्रैगन ने एक बार फिर किए तेवर तीखे

गुरुग्राम में खुले में नमाज का बढ़ रहा विरोध

खुले में नमाज के खिलाफ गुरुग्राम में लोग सड़कों पर उतरने लगे हैं। सेक्‍टर-47 के बाद शुक्रवार को बड़ी संख्‍या में हिंदुओं ने खुले में नमाज का विरोध किया।     गुरुग्राम में खुले में नमाज के खिलाफ लोग लामबंद होने लगे हैं। सेक्‍टर-47 के बाद शुक्रवार को सेक्‍टर-12 में भी खुले में नमाज के खिलाफ बड़ी संख्‍या में लोग उतरे। स्‍थानीय लोगों के साथ विश्‍व हिंदू परिषद, बजरंग दल सहित अन्‍य संगठन भी आ गए। स्‍थानीय लोगों और हिंदू संगठनों का कहना है क ...

गुरुग्राम में खुले में नमाज का बढ़ रहा विरोध