पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने उत्‍तर प्रदेश में डीजे पर से रोक हटाई

WebdeskJul 15, 2021, 05:16 PM IST

सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने उत्‍तर प्रदेश में डीजे पर से रोक हटाई

इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय ने अगस्‍त 2019 में यह कहते हुए शादी समारोहों में डीजे बजाने पर रोक लगा दी थी कि इससे ध्‍वनि प्रदूषण होता है। प्रदेश के डीजे संचालकों ने इस आदेश को सर्वोच्‍च न्‍यायालय में चुनौती दी थी।

सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने उत्‍तर प्रदेश में इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय द्वारा डीजे पर लगाए गए प्रतिबंध को हटा दिया है। उच्‍च न्‍यायालय का फैसला पलटते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि यह आदेश न्‍यायोचित नहीं है। हालांकि न्‍यायालय ने अपने आदेश में स्‍पष्‍ट तौर से कहा है कि राज्‍य सरकार से लाइसेंस लेने के बाद ही डीजे बजाया जा सकेगा। इसके अलावा, शीर्ष अदालत ने हिदायत दी है कि डीजे बजाते समय ध्वनि प्रदूषण को लेकर पूर्व में दिए गए उसके निर्देशों का पालन किया जाए।

इसी के साथ इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय के फैसले पर रोक लगाते हुए सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने कहा कि वैध तरीके से जारी किए गए लाइसेंसधारक ही प्रदेश में डीजे बजा सकते हैं। राज्‍य सरकार की ओर से कहा गया कि 4 जनवरी, 2018 को डीजे और औद्यागिक क्षेत्र में ध्‍वनि प्रदूषण को लेकर दिशानिर्देश जारी किए गए थे। लेकिन उच्‍च न्‍यायालय द्वारा रोक के बाद 2019 से प्रदेश में डीजे नहीं बज रहे हैं। सरकार अच्‍छी तरह से नियमों का पालन करा रही है।

क्‍या कहा था उच्‍च न्‍यायालय ने?

इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय ने अगस्‍त 2019 में यह कहते हुए शादी समारोहों में डीजे बजाने पर रोक लगा दी थी कि इससे ध्‍वनि प्रदूषण होता है। प्रदेश के डीजे संचालकों ने इस आदेश को सर्वोच्‍च न्‍यायालय में चुनौती दी थी। डीजे संचालकों का तर्क था कि वे शादी, जन्मदिन पार्टी और खुशी के अन्य मौकों पर अपनी सेवाएं देकर रोजी-रोटी चलाते हैं। उच्‍च न्‍यायालय के आदेश से उनकी आजीविका पर संकट आ गया है। याचिका में यह भी कहा गया था कि इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय का आदेश डीजे के पेशे से जुड़े लोगों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है। इस पर शीर्ष अदालत ने अक्‍तूबर 2019 को डीजे संचालकों को अंतरिम राहत देते हुए उच्‍च न्‍यायालय के फैसले पर रोक लगा दी थी। इसी के साथ शीर्ष न्‍यायालय ने कहा था कि संबंधित अधिकारियों को डीजे संचालकों के प्रार्थनपत्र स्‍वीकार करने होंगे। यदि डीजे संचालक कानून के लिहाज से सारे मानक पूरे करते हैं तो उन्हें डीजे सेवाएं संचालित करने की अनुमति देनी होगी।

Follow Us on Telegram

Comments

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज