पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

बन गया तालिबान का ‘इस्लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्तान’, दुनिया के हर देश से रिश्ते रखने के उछाले जुमले

WebdeskAug 20, 2021, 01:32 PM IST

बन गया तालिबान का ‘इस्लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्तान’, दुनिया के हर देश से रिश्ते रखने के उछाले जुमले


ये हैं ‘इस्लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्तान’ के तालिबान नेता, जो 'सबके अधिकारों का सम्मान' करने की बात कर रहे हैं    (फाइल चित्र)


तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद का कहना है कि तालिबान ने अफगानिस्तान की ब्रिटिश राज से आजादी की 102वीं सालगिरह के मौके पर इस्लामिक अमीरात की बुनियाद डालने का फैसला लिया



आखिरकार 19 अगस्त को तालिबान ने अफगानिस्तान का नया नामकरण ‘इस्लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्तान’ कर ही दिया। कट्टर मजहबी तालिबान ने गनी सरकार को कुर्सी से बेदखल करने के महज चार दिन के बाद यह घोषणा करते हुए कहा कि वे दुनिया के हर देश से अच्छे रिश्ते बनाना चाहते हैं। तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने ट्वीट करके यह घोषणा की है। ट्वीट में लिखा कि तालिबान ने अफगानिस्तान की ब्रिटिश राज से आजादी की 102वीं सालगिरह के मौके पर इस्लामिक अमीरात की बुनियाद डालने का फैसला लिया है। कहा कि ये इस्लामिक अमीरात सभी देशों के साथ अच्छे कूटनीतिक और कारोबारी रिश्ते बनाना चाहता है। तालिबान ने किसी भी देश के साथ कारोबार करने से मना नहीं किया है।


अफगानिस्तान पर अब सत्ता संभाल रही काउंसिल का शासन होगा। प्रभारी होंगे तालिबान के सबसे बड़े नेता हैबतुल्लाह अखुंदजादा। तालिबान के ही वहीदुल्लाह हाशिमी का कहना है कि तालिबान अफगान सेनाओं के पूर्व पायलटों और फौजियों को भी साथ में लेगा। जो भी होगा पर राज यहां, बकौल तालिबान, इस्लामी कानून के तहत ही चलेगा। 


तालिबान के एक और बड़े नेता का कहना है कि अफगानिस्तान पर अब सत्ता संभाल रही काउंसिल का शासन होगा। प्रभारी होंगे तालिबान के सबसे बड़े नेता हैबतुल्लाह अखुंदजादा। तालिबान के ही वहीदुल्लाह हाशिमी का कहना है कि तालिबान अफगान सेनाओं के पूर्व पायलटों और फौजियों को भी साथ में लेगा। जो भी होगा पर राज यहां, बकौल तालिबान, इस्लामी कानून के तहत ही चलेगा।
तालिबान के सुप्रीम नेता के नीचे तीन सहायक हैं, एक, मुल्ला उमर का बेटा मावलवी याकूब, दमदार हक्कानी नेता सिराजुद्दीन हक्कानी और दोहा में तालिबान के राजनीतिक दफ्तर का नेता अब्दुल गनी बरादर। हाशिमी की मानें तो अफगानिस्तान को तालिबान कैसे चलाएगा, इसके खाके को अभी अंतिम रूप दिया जाना है। लेकिन हाशिमी ने साफ कर दिया है कि यहां लोकतंत्र तो बिल्कुल नहीं होगा, क्योंकि यहां इसका कोई आधार नहीं है।

Follow Us on Telegram



 

 
 

Comments

Also read: आपदा प्रभावित 317 गांवों की सुध कौन लेगा, करीब नौ हजार परिवार खतरे की जद में ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्रतिमाएं
कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया

सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

सहारनपुर के केंदुकी गांव में बन रही जमीयत ए उलेमा हिन्द की बिल्डिंग का गांव वालों ने भारी विरोध किया है। विधायक की शिकायत पर डीएम अवधेश कुमार ने काम रुकवा दिया है। सहारनपुर के केंदुकी गांव में बन रही जमीयत ए उलेमा हिन्द की बिल्डिंग का गांव वालों ने भारी विरोध किया है। विधायक की शिकायत पर डीएम अवधेश कुमार ने काम रुकवा दिया है। जमीयत के अध्यक्ष मौलाना मदनी का कहना है कि ये मदरसा नहीं है बल्कि स्काउट ट्रेनिंग सेंटर है। अक्सर विवादों में घिरे रहने वाले जमीयत ए उलमा हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक् ...

सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण