पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

मत अभिमत

हम धर्म को त्याग देंगे तो जीवन हमें त्याग देगा

Webdesk

WebdeskNov 23, 2021, 08:05 PM IST

हम धर्म को त्याग देंगे तो जीवन हमें त्याग देगा

आने वाले सालों में भारत में परिवार नहीं होंगे, बस मकान होंगे, जिनमें महिला व पुरुष अकेले होंगे। हम धर्म का त्याग करेंगे तो जीवन हमारा त्याग करेगा।


एक वरिष्ठ महिला केंद्रीय अधिकारी को सीबीआई ने आठ लाख रुपये नकद घूस लेते गिरफ्तार किया। उनका वेतन दो लाख रु. प्रतिमाह से अधिक है और अवकाश प्राप्ति पर करीब दो करोड़ रुपये मिलेंगे। उनका विवाह उसी विभाग के डॉक्टर के साथ हुआ था। बाद में पति से तलाक व एक नेता टाइप ठग से विवाह हुआ।

कभी हिंदू महिलाएं मानती थीं कि विवाहिता बनकर जिस दहलीज के अंदर गईं, उसे अर्थी पर ही पार करेंगी। न कोई सवाल, न कोई चर्चा और न ही पुनर्विचार। विपरीत सोचना भी पाप। फिर दो बातें हुईं। हिंदू पुरुषों ने समाजवादी ठगों को वोट देना शुरू किया। नतीजा, गरीबी आई तो पत्नी का उत्तरदायित्व बना दिया कि वे दहेज द्वारा उन्हें धनी बनाएंगी। नहीं तो उनकी हत्या की जाएगी या तलाक दिया जाएगा।

दूसरी ओर, वामपंथियों ने लड़कियों को पढ़ाना शुरू किया कि विवाह शोषण है, जीवन तो जेएनयू के कमरों में है। लड़कियों के माता-पिता पर भी दहेज हत्याओं के बाद आरोप लगे कि उन्हें बेटी पर अत्याचार की जानकारी थी, पर उसे तलाक नहीं लेने के लिए विवश किया। इसलिए माता-पिता बेटियों को शिक्षित करने लगे।

भारत में शिक्षा का मतलब है सरकारी या अच्छी नौकरी। यह तिलिस्म भी वामपंथियों ने ही बनाया है। संपन्नता शिक्षा से नहीं, पूंजीवाद से आती है। किंतु वर-वधू पक्ष जाति या मुफ्तखोरी के नाम पर वोट समाजवादियों को ही देते हैं। इसलिए गरीबी वहीं है। वर पक्ष कहता है कि वधू हमें दहेज द्वारा धनी बनाए, नहीं तो जाए। लड़की पूछती है कि मुझसे वादा किया गया था कि ग्रेजुएशन के बाद अच्छा जीवन मिलेगा, वह कहां है?

आज दहलीज की पवित्रता के परखचे उड़ चुके हैं। आने वाले सालों में भारत में परिवार नहीं होंगे, बस मकान होंगे, जिनमें महिला व पुरुष अकेले होंगे। हम धर्म का त्याग करेंगे तो जीवन हमारा त्याग करेगा।

Comments

Also read:घटना छोटी है, पर गहरी है ..

सत्ता, सलीब और षड्यंत्र! Common Agenda of Missionaries of Charities and few political parties

मिशनरीज़ आफ चैरिटीज़- सेवा की आड़ में धर्मांतरण और दूसरी गतिविधियों में लिप्त संस्था। ऐसी संस्था का भारत के चंद राजनीतिक दलों से क्या कोई संबंध है, क्या ऐसे दलों और मिशनरीज़ का कोई साझा स्वार्थ या एजेंडा है? देखिए पान्चजन्य की विशेष पड़ताल ।
Missionaries of Charities - An organization indulging in conversion and other activities under the guise of service. Does such an institution have any relation with the few political parties of India, do such parties and missionaries have any common interest or agenda? Watch Panchjanya's special investigation.

Download Panchjanya Mobile App:
Mobile App: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.panchjanya.panchjanya
Visit Us At:
Website: https://www.panchjanya.com/
Follow us on:
Facebook: https://www.facebook.com/epanchjanya/
Koo: https://www.kooapp.com/profile/ePanchjanya
Twitter: https://twitter.com/epanchjanya
Telegram Channel: https://t.me/epanchjanya

Also read:कुछ बात है कि हस्ती बढ़ती रही हमारी ..

क्या मुजाहिदीन और तालिबान एक हैं?
वाइ-फाइ से एक कदम आगे है लाइ-फाइ!

विकास के लिए मदरसों की छुट्टी जरूरी

भारत और पाकिस्तान दोनों में लगभग हर मदरसे में पढ़ाया जाता है। ये मदरसे घृणा, भय और झूठे अभिमान से भरे मनो-मस्तिष्क का निर्माण करते हैं। इस जीर्ण-शीर्ण संस्था में सुधार नहीं किया जा सकता। एकमुश्त खत्म कर देना ही इसका समाधान है। उनकी मदद करना अपना स्वयं का मृत्युलेख लिखना है। खालिद उमर की फेसबुक वाल से भारत में ‘इस्लामिक मदरसों’ के 1,000 साल पुराने जीर्ण-शीर्ण संस्थान को खत्म कर दिया जाए तो नरेंद्र मोदी इतिहास रच सकते हैं। ‘एक देश-एक पाठ्यचर्या’ भारत में सांप्रदायिक ...

विकास के लिए मदरसों की छुट्टी जरूरी